Home अंतरराष्ट्रीय 16 जनवरी से देशव्यापी कोरोना वैक्सीनेशन मे क्या है पहली 5 चुनौतियाँ  

16 जनवरी से देशव्यापी कोरोना वैक्सीनेशन मे क्या है पहली 5 चुनौतियाँ  

भारत 16 जनवरी से देशव्यापी कोरोना वैक्सीनेशन का काम शुरू करने जा रहा है. ऐसे में इतने बड़े देश में ये अभियान किसी महाचुनौती से कम नहीं है. वैक्सीन के दाम से लेकर गांव-गांव इसे पहुंचाने तक के मोर्चे पर कई तरह की मुश्किलें सामने हैं, जिन्हें पार पाना होगा – 

एक साल से कोरोना वायरस के खिलाफ जंग लड़ा रहा देश अब एक नए मिशन के लिए तैयार है. 16 जनवरी से भारत में कोरोना वैक्सीनेशन का काम शुरू होना है, पूरी दुनिया की निगाहें हिंदुस्तान पर हैं. क्योंकि आबादी के लिहाज से ये मिशन काफी चुनौतीपूर्ण होने वाला है. लंबे वक्त से तैयारियां की जा रही हैं, ड्राई रन भी करवाए गए हैं लेकिन अब बारी असली परीक्षा की है. ऐसे में देश के सामने किस तरह की चुनौतियां आने वाली हैं, उनपर एक नज़र डालिए…

1.    भारत के लिए वैक्सीनेशन का अभियान कोई नया नहीं है, देश में हर साल करोड़ों बच्चों को वैक्सीन/टीका लगाया जाता है. हालांकि, इतने बड़े स्तर पर वयस्कों को ये टीका लगाना आसान नहीं होगा, वो भी कम समय के भीतर ही.

2.    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वॉरियर्स, फ्रंटलाइन वर्कर जिनकी संख्या 3 करोड़ है, उन्हें मुफ्त में वैक्सीन देने की बात कही. लेकिन उनके बाद 27 करोड़ वो लोग जिनकी उम्र अधिक है और वैक्सीन लगनी है, उसका खर्च का वहन करेगा. या अन्य देशवासियों को किस हिसाब से ये वैक्सीन दी जाएगी, अभी इसका निर्णय भी होना बाकी है.

3.    SBI की रिसर्च का मानना है कि 30 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगने में अगस्त तक का वक्त जा सकता है. यानी शुरुआती फेज़ में ही इतना वक्त लग रहा है, ऐसे में पूरे देश के लोगों को वैक्सीन के लिए लंबा इंतजार करना होगा.


4.    भारत में जो दो वैक्सीन इस्तेमाल में आ रही हैं, उन्हें 2 से 8 डिग्री तापमान में रखना है लेकिन देश में सिर्फ 4 कंपनियों के पास ऐसे कोल्ड स्टोरेज की क्षमता है जो एक समस्या है. इसमें स्नोमैन, गति कौसर, TCIL और फ्यूचर सप्लाई चेन शामिल है. दावा है कि ये बड़ी कंपनियां अधिकतम 55 करोड़ खुराकों को एक जगह से दूसरी जगह पहुंचा सकती है. जो मांग का आधा है. 

5.    एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना से जंग में वही देश जीत पाएगा जो कम वक्त में सभी को वैक्सीन दे पाएगा. लेकिन जानकारों का ये भी कहना है कि मौजूदा रफ्तार से साल के अंत तक सिर्फ 40-50 करोड़ लोगों को वैक्सीन मिल सकती है. इसलिए भारत में केंद्र सरकार के सामने इस बात की चुनौती है कि राज्यों के साथ मिलकर कैसे समन्वय बैठाया जाए और रफ्तार पर भी फोकस किया जाए. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कल से खाना नहीं खाया है, भूखा हूं… मिठाई की दुकान में मिला मासूम चोर का खत

जैसलमेर में एक दिलचस्प मामला सामने आया है। यहां मिठाई की दुकान में घुसे चोर ने मिठाई खाई और जाते हुए दुकानदार के नाम...

मध्य प्रदेश में बड़ा हादसा, मुरैना के पास सुखोई-30 और मिराज-2000 क्रैश, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

शनिवार सुबह बड़ा हादसा हुआ। एयरफोर्स के दो फाइटर प्लेन सुखोई-30 और मिराज-2000 एयरक्रॉफ्ट आपस में टकराकर क्रैश हो गए। भास्कर को मिली अब...

अडानी ग्रुप के शेयरों में गिरावट आज भी जारी, हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से मची तबाही

एशिया के सबसे अमीर और दुनिया के दूसरे नंबर के धनकुबेर गौतम अडानी ने शायद सपने में भी नहीं सोचा होगा कि एक दिन...

कैप्टन अमरिंदर हो सकते हैं महाराष्ट्र के अगले राज्यपाल, भगत सिंह कोश्यारी की छुट्टी, आदेश जारी, पुष्टि होनी बाकी

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह महाराष्ट्र के अगले गवर्नर हो सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, इसकी तैयारी हो गई है और इसको...

अंडर-19 टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची भारतीय महिला क्रिकेट टीम

साउथ अफ्रीका में खेला जा रहे अंडर-19 महिला टी20 विश्व कप में भारतीय महिला अंडर-19 टीम ने इतिहास रच दिया। पहले टी20 विश्व कप...

उत्तराखंड पहुंचे पंडित धीरेन्द्र शास्त्री, “बोले कायदे में रहोगे तो फायदे में रहोगे”

अपने दावों के कारण कई दिनों से चर्चा में आए बाबा बागेश्वर धाम धीरेंद्र शास्त्री उत्तराखंड पहुंचे हैं। इंटरनेट मीडिया पर वीडियो जारी कर...

उत्तराखंड में फिर बदलेगा मौसम का मिजाज, 29 से बर्फबारी के आसार

उत्तराखंड में उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बीते दिनों हुई बर्फबारी के बाद पहाड़ से लेकर मैदान तक ठिठुरन और बढ़ गई है। वहीं, मैदानी...

रोडवेज की हड़ताल से परेशान यात्री, पहले यूपी फिर उत्तराखंड पहुंच रहे यात्री

उत्तराखंड रोडवेज की बसों से सफर करने वाले हजारों यात्रियों को आज भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रोडवेज की हड़ताल के चलते उत्तराखंड...

उत्तराखंड में 25 लाख में बिकी खाकी, दरोगा भर्ती कांड में विजिलेंस की जांच आगे बढ़ी

विजिलेंस अब दरोगा भर्ती धांधली के आरोपियों की संपत्तियों की जांच में जुट गई है। बताया जा रहा है कि मुख्य आरोपी पंतनगर विवि...

जोशीमठ संकट के बीच बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख का एलान, इस दिन खुलेंगे धाम के कपाट

बसंत पंचमी के मौके बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख का एलान हो गया है. उत्तराखंड के चार धामों में एक भगवान बद्री...