Monday, April 22, 2024
अल्मोड़ाउत्तरकाशीउत्तराखंडउधम सिंह नगरकोविड 19चमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदेहरादूननैनीतालपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरराजनीतिराज्यराष्ट्रीयरुद्रप्रयागहरिद्वार

कोरोना काल – चार धाम यात्रा से इस बार आमदनी अठन्नी खर्चा रुपैया  

बद्रीनाथ में सीएम योगी ने यूपी पर्यटक आवास गृह का शिलान्यास किया

 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बदरीनाथ धाम में उत्तर प्रदेश पर्यटक आवास गृह का शिलान्यास किया। मंगलवार को वह बदरीनाथ धाम में पहुंचे थे और यहां आवास गृह का शिलान्यास किया। इस दौरान  उत्तराखंड के मुख्यमंत्री भी उनके साथ मौजूद रहे। बदरीनाथ धाम आने वाले तीर्थ यात्रियों और पर्यटकों को अब उच्च स्तरीय आवास एवं खानपान की सुविधाएं मिलेंगी। उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग की ओर से बदरीनाथ धाम में चार हजार वर्ग मीटर क्षेत्रफल में पर्यटन आवास गृह का निर्माण किया जाएगा। इसकी लागत लगभग 11 करोड़ रुपये है। बदरीनाथ में हेलीपैड व राष्ट्रीय राजमार्ग के समीप चार हजार वर्गमीटर क्षेत्रफल में उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग की ओर से पर्यटकों की सुविधा के लिए पर्यटन आवास गृह का निर्माण किया जाएगा।

  चीन बॉर्डर पर भारत के आखिरी गाँव माणा का सीएम योगी ने किया दौरा

उत्तराखंड के अपने तीसरे दिन के दौरे में जब उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जोशीमठ पहुंचे तो वहां से उनका काफिला एक ख़ास गाँव की ओर चल पड़ा … दरअसल ख़राब  मौसम की वजह बद्रीनाथ जाने का कार्यक्रम एक दिन आगे बढ़ा तो दोनों राज्यों के मुख्यमंत्री आज सुबह बद्रीनाथ पहुंचे थे जहाँ से दोनों का काफिला बॉर्डर के आखरी गाँव माणा पहुंचा जहाँ गाँव के लोगों के बीच पहुँच कर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों से हालात पर चर्चा की और उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत से इस ख़ास गांव के बारे में जानकारी हासिल की।  यहाँ आईटीबीपी के अधिकारीयों ने दोनों मुख्यमंत्री का स्वागत किया।  

 
 कोरोना काल में चार धाम यात्रा से इस बार आमदनी अठन्नी खर्चा रुपैया
 

आपने आमदनी अठन्नी खर्चा रुपैया वाली कहावत तो सुनी ही होगी … इस बार उत्तराखंड के विश्व प्रसिद्ध चार धाम यात्रा पर इस बार कोरोना का बड़ा असर दिखाई पड़ा है। बद्री केदार सहित  सभी धामों में इस बार आने वाले श्रद्धालुओं की बात करें तो आने वाले  कुल श्रद्धालुओं की संख्या 4 लाख 48 हज़ार ही रही । वहीँ बीते साल के रिकॉर्ड की बात करें तो यही संख्या पिछली बार रिकॉर्ड 34 से ज्यादा थी ….. यही स्थिति धामों की कमाई की भी रही। सालाना 55 करोड़ की कमाई करने वाले चार धाम यात्रा में इस बार केवल आठ करोड़ की आमदनी ही हुयी है … कोरोना के चलते तमाम बंदिशों  और लॉक डाउन  के कारण श्रद्धालुओं की संख्या सीमित ही रही। श्रद्धालुओं की इस सीमित संख्या के कारण मंदिरों में दक्षिणा, भेंट, चढ़ावा भी बेहद कम रहा। वही आपको ये भी बता दें कि उत्तराखंड चार धाम देवस्थान एवं प्रबंधन बोर्ड में कर्मचारियों के वेतन समेत तमाम दूसरी मदों में 32 करोड़ के करीब खर्च होते हैं।  इसमें बदरीनाथ धाम के कर्मचारियों के वेतन पर 1.50 करोड़ और केदारनाथ  धाम के कर्मचारियों पर एक करोड़ का बजट खर्च होता है….   

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *