Monday, April 22, 2024
उत्तराखंड

पुलिस कांस्टेबल भर्ती पर बवाल, आरक्षण पर अनियमितता का आरोप

पुलिस विभाग की आरक्षी फायर मैन भर्ती को लेकर विवाद बढ़ता जा रहा है। परीक्षा परिणाम से बाहर हुये अभ्यर्थियों ने आज इस मुद्दे पर हरिद्वार स्थित राज्य लोक सेवा आयोग के बाहर जमकर प्रदर्शन किया। अभ्यर्थियों का आरोप है कि आयोग ने परीक्षा परिणाम में आरक्षण के नियमों का खुलकर उल्लंघन किया है। आपको बता दें कि बीती सोमवार को पुलिस कांस्टेबल के 1520 पदों पर फाइनल रिजल्ट घोषित किया गया था, बेरोजगारों ने आरोप लगाया है कि आयोग ने आरक्षण के नाम पर घोर अनियमितता बरतते हुये मेरिट जारी की है। अभ्यर्थियों का कहना है कि ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी महिला अभ्यर्थी ने किसी पुरुष अभ्यर्थी के स्थान पर सीट पा ली। दरअसल फायरमैन के 445 पदों में से महिलाओं के लिए कुल 133 पद रिक्त थे, जबकि पुरूषों के लिए 312 पद, लेकिन आयोग ने 133 पदों के सापेक्ष मेरिट में 321 महिला अभ्यर्थियों को जगह दे दी, जबकि पुरूषों के 312 पदों के सापेक्ष सिर्फ 124 पुरूष अभ्यर्थियों का ही सिलेक्शन किया गया है। अभ्यर्थियों का आरोप है कि एक भर्ती में महिला अभ्यर्थियों को दो- दो आरक्षण कैसे मिल सकते हैं साथ ही 35 अभ्यर्थियों को फाइनल रिजल्ट से इसलिए बाहर कर दिया क्योंकि उनके सीने की माप और ऊंचाई कम थी, बेरोजगारों ने सवाल खड़े किए हैं कि आयोग ने फिजिकल के समय जब इन 35 अभ्यर्थियों की माप-तौल की तो उस वक्त इन्हें बाहर क्यों नहीं किया गया। अभ्यर्थियों ने चेतावनी दी है कि अगर आयोग दो दिन के भीतर परिणाम को रिवाइज नहीं किया तो वो आयोग के बाहर भूख हड़ताल पर बैठेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *