Saturday, February 24, 2024
खेल समाचार

TOKYO OLYMPICS: महिला डिस्कस थ्रोअर कमलप्रीत कौर ने रचा इतिहास, जगाई मेडल की उम्मीद

-आकांक्षा थापा
महिला डिस्कस थ्रो एथलिट कमलप्रीत कौर ने इतिहास रच दिया है.. जी हाँ, टोक्यो ओलम्पिक 2020 में उन्होंने महिला डिस्कस थ्रो के फाइनल में जगह बना ली है… अपने तीसरे प्रयास में ही 64 मीटर तक डिस्क फेंककर उन्होंने फाइनल्स में अपनी जगह पक्की कर ली है। कमलप्रीत के फाइऩल में पहुंचने से एथेलेटिक्स में पहले ओलंपिक मेडल की आस जग गई है..

  • कमलप्रीत ने अपने पहले प्रयास में 60.29 मीटर का थ्रो किया
  • जबकि दूसरे प्रयास में 63.97 मीटर दूर डिस्क फेंका
    इस बेहतरीन थ्रो के साथ कमलप्रीत कौर अपने ग्रुप में दूसरे नंबर पर रही, वहीँ अमेरिका की वालारी आलमैन ने 66.42 मीटर डिस्कस थ्रो करके पहला स्थान हासिल किया…आपको बता दें की अब महिला डिस्कस थ्रो का फाइनल 2 अगस्त को होगा।

कमलप्रीत कौर के बारे में विस्तार से..
कमलप्रीत कौर पंजाब के श्री मुक्तसर साहिब जिले के बादल गांव की रहने वाली है..बचपन में उनको पढ़ाई में कोई दिलचस्पी नहीं थी… साल 2012 में उन्होंने खुद को एथलीट के तौर पर देखना शुरू किया. कमलप्रीत अपनी पहली स्टेट मीट में चौथे स्थान पर रहीं थी… एक इंटरव्यू में कमलप्रीत ने कहा कि अपने शुरूआती कोच के कहने पर ही उन्होंने अपना करियर एथलीट में बनाने का फैसला किया… साल 2014 में कौर ने अपनी ट्रेनिग और भी गंभीरता से लेना शुरू कर दिया. उनके गांव में भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) केंद्र में उनका प्रारंभिक प्रशिक्षण शुरू हुआ..अपनी मेहनत के दम पर कौर के करियर को जल्द ही गति मिल गई. वह 2016 में अंडर-18 और अंडर-20 राष्ट्रीय चैंपियन तो वहीं 2017 में 29वें विश्व विश्वविद्यालय खेलों में छठे स्थान पर रहीं थी…

कौर ने 24वें फेडरेशन कप सीनियर एथलेटिक्स चैंपियनशिप में कमाल करते हुए इतिहास रचा, वह चक्का फेंक में 65 मीटर बाधा पार करने वाली पहली भारतीय महिला बनीं थी.. वहीं, 2019 में ही कौर के नाम 60.25 मीटर चक्का फेंककर गोल्ड पदक जीतने का कारनामा दर्ज हो गया था.. बता दें कि कौर सीमा पुनिया को अपना आदर्श मानती हैं. हालांकि सीमा पुनिया अपने कैटेगिरी में क्वालीफाई करने में असफल हो गई हैं।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *