Monday, April 22, 2024
अंतरराष्ट्रीयखेल जगत

शरीर साथ नहीं दे पा रहा, बहुत दुखी हूं, टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने की संन्यास की घोषणा

नई दिल्ली-भारत की स्टार महिला टेनिस खिलाड़ी सानिया मिर्जा ने संन्यास की घोषणा कर दी है। ऑस्ट्रेलियन ओपन खेलने पहुंचीं सानिया ने कहा है कि 2022 उनका आखिरी सीजन होगा। यानी इस साल वह आखिरी बार कोर्ट पर दिखेंगी। बुधवार को उन्हें महिला डबल्स के पहले राउंड के मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा।
सानिया ने कहा- 2022 मेरा आखिरी सीजन होगा। मैं हफ्ते दर हफ्ते आगे की तैयारी कर रही हूं, लेकिन ये पक्का नहीं है कि मैं आगे पूरा सीजन खेल पाऊंगी या नहीं। पहले दौर में हारने के बाद सानिया ने कहा कि मुझे लगता है मैं बेहतर खेल सकती हूं, लेकिन अब शरीर साथ नहीं दे पा रहा। ये मेरे लिए सबसे बड़ा दुख है।

भारत में टेनिस को नई पहचान दिलाने वाली सानिया मिर्ज़ा ने अपने विरोधियों से भी सम्मान पाया है। भारतीय टेनिस सुपरस्टार सानिया ने 6 साल की आयु से ही टेनिस खेलना शुरू कर दिया था। सानिया मिर्जा ने महिला डबल्स में 2016 में ऑस्ट्रेलियन ओपन, 2015 में विम्बलडन और यूएस ओपन का खिताब जीता था। वहीं, मिक्स्ड डबल्स में वो 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन, 2012 में फ्रेंच ओपन और 2014 में यूएस ओपन का खिताब जीत चुकी हैं।
सानिया मिर्जा भारत की ही नहीं बल्कि विश्व की सर्वाेत्तम टेनिस खिलाड़ियों में से एक मानी जाती हैं, वे कई सालों तक भारत की नंबर 1 टेनिस प्लेयर रह चुकी हैं। उनका टेनिस प्लेयर के रुप में सफर बेहद शानदार रहा। उनकी अद्भुत खेल प्रतिभा के चलते उन्हें कई पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है। सानिया मिर्जा ने संन्यास की घोषणा कर दी है।

ऑस्ट्रेलियन ओपन खेलने पहुंचीं सानिया ने कहा है कि 2022 उनका आखिरी सीजन होगा। यानी इस साल वह आखिरी बार कोर्ट पर दिखेंगी। बुधवार को उन्हें महिला डबल्स के पहले राउंड के मुकाबले में हार का सामना करना पड़ा।
सानिया ने कहा- 2022 मेरा आखिरी सीजन होगा। मैं हफ्ते दर हफ्ते आगे की तैयारी कर रही हूं, लेकिन ये पक्का नहीं है कि मैं आगे पूरा सीजन खेल पाऊंगी या नहीं। पहले दौर में हारने के बाद सानिया ने कहा कि मुझे लगता है मैं बेहतर खेल सकती हूं, लेकिन अब शरीर साथ नहीं दे पा रहा। ये मेरे लिए सबसे बड़ा दुख है।
सानिया मिर्जा ने महिला डबल्स में 2016 में ऑस्ट्रेलियन ओपन, 2015 में विम्बलडन और यूएस ओपन का खिताब जीता था। वहीं, मिक्स्ड डबल्स में वो 2009 में ऑस्ट्रेलियन ओपन, 2012 में फ्रेंच ओपन और 2014 में यूएस ओपन का खिताब जीत चुकी हैं।

सानिया मिर्जा को किसी परिचय की ज़रूरत नहीं है। सानिया मिर्ज़ा बहुत ही कम समय में अपनी पहचान घर-घर में बनाने में कामयाब रही हैं। भारत में टेनिस को नई पहचान दिलाने वाली सानिया मिर्ज़ा ने अपने विरोधियों से भी सम्मान पाया है। भारतीय टेनिस सुपरस्टार सानिया ने 6 साल की आयु से ही टेनिस खेलना शुरू कर दिया था। शुरु में टेनिस का प्रशिक्षण सानिया को अपने पिता से ही मिला था और बाद में सानिया को रॉजर एंडरसन ने प्रशिक्षित किया था। सानिया ने बाद में सिकंदराबाद से टेनिस की ट्रेनिंग ली। टेनिस के महान प्लेयर महेश भूपति ने भी सानिया को टेनिस खेलने की ट्रेनिंग दी थी।
सानिया मिर्जा भारत की ही नहीं बल्कि विश्व की सर्वाेत्तम टेनिस खिलाड़ियों में से एक मानी जाती हैं, वे कई सालों तक भारत की नंबर 1 टेनिस प्लेयर रह चुकी हैं। उनका टेनिस प्लेयर के रुप में सफर बेहद शानदार रहा। उनकी अद्भुत खेल प्रतिभा के चलते उन्हें कई पुरस्कार से भी नवाजा जा चुका है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *