Saturday, May 18, 2024
film industryअल्मोड़ाउत्तरकाशीउत्तराखंडउधम सिंह नगरकोविड 19चमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदिल्लीदेहरादूननैनीतालपंजाबपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरबिहारराज्यराष्ट्रीयरुद्रप्रयागहरिद्वार

देहरादून मैक्स हॉस्पिटल ने असम्भव को किया सम्भव 

देहरादून के मैक्स हॉस्पिटल ने एक बार फिर कमाल किया है। मेडिकल साइंस की दुर्लभ और चैलेंजिंग ट्रीटमेंट को सफल बनाने वाले मैक्स हॉस्पिटल ने एक और इतिहास रचा है , जिसमें एक मरीज़ का हार्ट वाल्व बदलने में टेवी तकनीकी का इस्तेमाल किया गया है।  वाल्व बेहद सख्त होने से मरीज़ के हार्ट की पम्पिंग बेहद कमज़ोर हो गयी थी जिसकी वजह से मरीज़ की हालत दिल प्रति दिन बिगड़ती जा रही थी। आम तौर पर ऐसे मामलो में सर्जरी ही की जाती है लेकिन इस अनोखे मामले में मरीज़ के फेफड़ों में पानी जमा होने और हार्ट वीक होने से एक ही विकल्प डॉक्टरों के सामने था टैवी तकनीकी ….  

जिससे इलाज मुमकिन था… एक्सपर्ट बताते हैं कि मरीज़ का हार्ट कमज़ोर था लिहाज़ा ओपन हार्ट सर्जरी मुमकिन नहीं था ऐसे में एक्सपर्ट ने टैवी तकनीकी का सफल इस्तेमाल किया ….  इस  सफल ट्रीटमेंट को करने वाले मैक्स हॉस्पिटल से जय भारत टीवी ने संपर्क किया तो हमारी मुलाकत हुयी डॉक्टर इरफ़ान याकूब से जिन्होंने पुरे केस स्टडी की जानकारी हमें दी।

  जय भारत टीवी से एक्सक्लूसिव बातचीत में सक्सेस केस के बारे में बताते हुए उन्होंने बताया कि ये देहरादून में ऐसा दूसरा केस है हांलाकि ये केस थोड़ा रिस्की था लेकिन जोखिम लेना सफल हुआ और मरीज़ आज स्वस्थ और सुरक्षित है।

डॉक्टर्स की टीम का दावा है कि ये दुनिया का पहला ऐसा केस है जिसमें पहली बार टैवी  तकनीक  से मरीज़ के दिल में वाल्व इम्प्लांट किया गया है। क्योंकि ये बेहद जोखिम भरा ट्रीटमेंट था ऐसे में इतने गंभीर केस की सफलता से मैक्स हॉस्पिटल आज बेहद संतुष्ट है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *