Monday, April 22, 2024
अंतरराष्ट्रीयअल्मोड़ाउत्तर प्रदेशउत्तरकाशीउत्तराखंडउधम सिंह नगरकोविड 19चमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदिल्लीदेहरादूननैनीतालपंजाबपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरबिहारमनोरंजनराजनीतिराज्यराष्ट्रीयरुद्रप्रयागहरिद्वार

देश का पहला मामला ! उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित महिला के शव से हुयी शर्मनाक करतूत 

देवभूमि उत्तराखंड में देश को शर्मसार करने वाली एक घटना सामने आयी है।  एक तरफ जहाँ कोरोना संक्रमण से लोग जूझ रहे हैं और उनकी ज़िंदगी बचाने वालों को कोरोना योद्धा मानकर उन पर फूलों की बारिश की जा रही है वहीँ एक कोरोना संक्रमित महिला के शव से अभद्रता का चौकाने वाला मामला सामने आया है। 

मृतक महिला के बेटे ने ये हैरान करने वाली शिकायत जिलाधिकारी को बता कर शिकायत दर्ज़ कराई है। श्रीनगर गढ़वाल में पालिका सभासद विभोर बहुगुणा ने डीएम से शिकायत की है कि मरने के बाद उनकी मां के शरीर से खिलवाड़ करते हुए किसी ने उनके पहने हुए सोने के कुंडल और गले की चेन गायब कर दी है। 

 
जी हाँ ये बेहद शर्मनाक वाक्या है जिस पर अब लोगों में स्वास्थ्य विभाग पर शॉ के साथ लापरवाही बरतने का आरोप लगाया है श्रीनगर के बेस अस्पताल श्रीकोट में कोरोना संक्रमण से मृत महिला के शव से कुंडल व चेन गायब होने की बात सामने आने के बाद अब डीएम ने मामले को गंभीर बताते हुए जांच की बात कही है। राजकीय मेडिकल कालेज श्रीनगर से संबद्ध बेस अस्पताल की स्वास्थ्य सेवा को लेकर नगर पालिका श्रीनगर के सभासद विभोर बहुगुणा ने सवाल खड़े किए हैं।
बहुगुणा ने  बताया कि उनकी  मां 08 सितंबर को कोविड पॉजिटिव मिलीं थीं और उन्हें 09 सितंबर को बेस अस्पताल श्रीकोट में भर्ती कराया था जहाँ  21 सितंबर को उनका निधन हो गया …… बहुगुणा ने बताया कि अंत्येष्टि के लिए लाए गए शव को संक्रमित होने के बावजूद ठीक से पैक नहीं किया गया था। 
 
जिस किट में शव रखा था, वह फटी हुई थी। दूसरी किट मंगाने पर उसकी चैन खराब थी। इस दौरान विभोर ने किट के अंदर से शव देखा तो एक कान का कुंडल और सोने की चेन गायब मिली। उन्होंने प्रशासन व अस्पताल प्रबंधन में आपसी सामंजस्य न होने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि माता की मौत के सात दिन बाद भी प्रशासन की ओर से मुझसे फोन पर माता की कुशलक्षेम पूछी जा रही है। उन्होंने कहा कि अंतिम क्रिया कार्य संपन्न होने के बाद डीएम व सीएमओ पौड़ी के सामने इस संवेदनहीनता के मामले में कड़ा विरोध दर्ज किया जाएगा। वहीं जिलाधिकारी धीरज सिंह गर्ब्याल ने मामले को गंभीर बताते हुए जांच कराए जाने की बात कहीं है।


इधर  बेस  चिकित्सालय श्रीकोट के प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. केवी सिंह, ने कहा है की कोरोना संक्रमित महिला के पुत्र की सभी शिकायतों की गहनता से जांच की जाएगी। वहीँ दूसरी तरफ श्रीनगर के सीडीओ आशीष भटगांई ने कहा है कि अगर  ऐसा हुआ है, तो ये बहुत गंभीर मामला है। इस संबंध में मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य और बेस अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक  से जानकारी ली जाएगी और  जो भी दोषी होगा उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। लेकिन ये घटना अपने आप में पहली है जिसमें कोरोना से हुयी मौत पर शॉ के साथ ऐसी घिनौनी हरकत की गयी है देखना होगा कि प्रशासन इस मामले में क्या कार्यवाही करेगा  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *