Tuesday, June 18, 2024
अंतरराष्ट्रीयअल्मोड़ाउत्तर प्रदेशउत्तरकाशीउत्तराखंडउधम सिंह नगरचमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदेहरादूननैनीतालपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरराज्यरुद्रप्रयागहरिद्वार

Special Story – जल्द ही अफ्रीकन अंदाज़ में मिलेगा उत्तराखंड में ज़ू सफारी का मज़ा  

जल्द ही उत्तराखंड में पर्यटन को नया कलेवर मिलने जा रहा है। तीर्थाटन और चार धाम यात्रा के अलावा अब पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए तराई पश्चिमी वन प्रभाग ने दक्षिण जसपुर में जू कम सफारी प्रोजेक्ट तैयार किया है।

इस क्षेत्र में आपको मशहूर अफ्रीकन सफारी की तरह ही पिंजरानुमा कैंटर से रोमांचक सफारी कराई जाएगी। इस जू को 123 हेक्टेयर में बनाया जा रहा है और खास बात ये है कि इसको पूरी तरह से कवर करके बनाया जायेगा। इस प्रोजेक्ट से जुड़ा मैपिंग और फुल प्रोजेक्ट अब मंजूरी के लिए केंद्र सरकार को भेज दिया गया है।


खासियत की बात करें तो जू-कम सफारी के लिए 123 हेक्टेयर वन भूमि में से 20 हेक्टेयर में बाघ, 20 हे. में तेंदुए और 30 हे. में शाकाहारी वन्यजीव रखे जाएंगे और बाकि के हिस्से में बायोडायवर्सिटी पार्क बनाया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के तैयार होने के बाद रामनगर आने वाले पर्यटक कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के सभी जोनों और सीतावनी के अलावा दक्षिणी जसपुर में भी रोमांचक सफारी अक्क मज़ा ले सकेंगे।  


जू-कम सफारी का प्रस्ताव सेंट्रल जू ऑथॉरिटी को भेज दिया है। प्रस्ताव को मंजूरी मिलते ही जू-कम सफारी का काम शुरू किया जाएगा।

वहीँ बताया जा रहा है कि बाजपुर में राज्य का पहला प्रवासी पक्षी सामुदायिक रिजर्व भी बनाया जा रहा है। राज्य में बनने वाले पहले माइग्रेटरी बर्ड कम्युनिटी रिजर्व के लिए बाजपुर में जमीन चिह्नित कर ली गई है।  इसी महीने  प्रमुख सचिव वन आनंदवर्धन ने राज्य में माइग्रेटरी बर्ड कम्युनिटी रिजर्व बनाने को सैद्धांतिक स्वीकृति दी थी। प्रमुख वन संरक्षक ने इसके लिए जमीन का चयन किए जाने की बात कही थी। अब खबर है कि बर्ड कम्युनिटी रिजर्व में प्रवासी पक्षियों के लिए जलाशय भी बनाए जाएंगे और इसमें स्थानीय लोगों को रोजगार भी मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *