Wednesday, October 5, 2022
Home अंतरराष्ट्रीय हिमालय दिवस विशेष - आओ मिलकर अपना हिमालय बचाएँ 

हिमालय दिवस विशेष – आओ मिलकर अपना हिमालय बचाएँ 

खड़ा हिमालय बता रहा है तुम डरो न आंधी पानी से 

खड़े रहो तुम अविचल होकर सब संकट तूफानी में 

 

आज हिमालय दिवस है ….. कोई पर्वतराज की शान में भाषण दे रहा है तो कोई नीतियों के विरोध प्रदर्शन की मुठियाँ ताने खड़ा है लेकिन हिमालय है जो खामोश खड़ा है और बदलते समय के साथ परिवर्तन की तस्वीरें देख रहा है। 

भारत का मस्तक माना जाता है हिमालय को ….  हिन्दुस्तान में हिमालय देश के करीब 65 फ़ीसदी हिस्से को पानी उपलब्ध कराता है। गंगा-यमुना की जलधारा यहीं से निकलती हैं। जड़ी बूटियों और अनेक दिव्य औषधियों से लकदक हिमालय कुदरत का अनमोल खजाना मनुष्य को देता है …. हवा, पानी और मिट्टी की अनमोल सम्पदा देने वाले इस उदार हिमालय को लाख दावों के बावजूद आज हम इंसान इस हिमालय को बचाने और उसके संरक्षण के लिए सिफर दावे वादे और घोषणाएं ही करते रहे हैं। सरकार कोई भी रही हो लेकिन अफ़सोस कि दुनिया में भारत का मान बढ़ाने वाले सजग प्रहरी हिमालय के लिए कोई ठोस और प्रभावी कदम नहीं उठाए जा सके हैं। ये अलग बात है कि बीते एक दशक में उत्तराखंड सहित दूसरे हिमालयी राज्यों ने कोशिशों में गंभीरता ज़रूर दिखाई है। लेकिन उसके आगे का क्या हाल है ये जगज़ाहिर है आज ऐसे में एक बार फिर हम और आप हिमालय दिवस की बात कर रहे हैं।  लेकिन क्या कुर्सियों पर बैठे नियम निर्माता अपनी योजनाओं को अमलीजामा पहना पा रहे हैं ये बड़ा यक्ष सवाल है जिसका जवाब खोजना होगा। 

भारत के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल के 16.3 प्रतिशत हिस्से में जम्मू-कश्मीर से लेकर पूर्वोत्तर राज्यों तक फैला है हिमालय। बदली परिस्थितियों में यह हिमालयी क्षेत्र एक नहीं अनेक झंझावातों से जूझ रहा है। हिमालयी क्षेत्र में निरंतर आ रही आपदाएं डराने लगी हैं और हिमालयी राज्य उत्तराखंड भी इससे अछूता नहीं है। जून 2013 में केदारनाथ त्रासदी में जन-धन की भारी हानि से हर कोई वाकिफ है। इसके अलावा हिमालयी क्षेत्रों में बादल फटना, भूस्खलन, हिमस्खलन, नदियों का बढ़ता वेग जैसी आपदाएं उत्तराखंड पर निरंतर ही टूट रही हैं।

अन्य हिमालयी राज्यों की तस्वीर भी इससे अलग नहीं है।यही नहीं, ग्लेशियरों का निरंतर पिघलना, स्नो और ट्री लाइनों का ऊपर की तरफ खिसकना भी हिमालयी क्षेत्र के लिए शुभ संकेत नहीं कहा जा सकता। हिमालय की बिगड़ती सेहत के कारणों की तह में जाएं तो इसके पीछे उसकी अनदेखी सबसे बड़ी वजह है। असल में बेहद संवेदनशील वातावरण वाले हिमालयी क्षेत्र में पर्यावरण और विकास के मध्य सामंजस्य का अभाव साफ देखा जा सकता है।पहाड़ों  और सीमाओं पर खाली होते गाँव इस हिमालयी राज्य की असल तस्वीर बयान कर रही है ऐसे में अगर हिमालयी क्षेत्र में जल-जंगल-जमीन का ठीक से संरक्षण-संवर्धन हो जाए तो काफी दिक्कतें दूर हो जाएंगी।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पौड़ी के सिमड़ी में भयानक बस हादसा, दर्दनाक हादसे में 25 लोगों की मौत

बीते मंगलवार की रात हरिद्वार स्थित लालढांग के लोगों पर काल बनकर टूट पड़ी। लालढांग से बीरोंखाल पौड़ी के कांडा तल्ला गांव जा रही...

Uttarkashi Avalanche: बर्फ के तूफान में लापता हुए 28 लोग, 2 की मौत, CM Dhami ने मांगी सेना से मदद

केदारनाथ के बाद अब द्रौपदी पर्वत में आया एवलॉन्च। एवलॉन्च के चलते बर्फीली पहाड़ियों पर फंसे 28 लोग, हादसे में 2 की मौत ।...

मास्टरमाइंड हाकम का रिसॉर्ट तोड़ने पहुंची टीम, धरने पर बैठ ग्रामीणों ने जताया विरोध

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग पेपर लीक मामले में आरोपी मास्टमाइंड हाकम सिंह रावत का सांकरी स्थित रिजॉर्ट को गिराने के लिया पिछले दिनों...

शेयरों में दिखी गिरावट, अमीर लोगों की सूची में नीचे खिसके गौतम अदाणी

दुनिया के शीर्ष तीन अमीर कारोबारियों में शामिल भारतीय व्यवसायी गौतम अदाणी और एलन मस्कको एक दिन में लगभग 25 मिलियन डॉलर यानी 2...

टी20 वर्ल्ड कप में भारत को झटका, जसप्रीत बुमराह टी20 वर्ल्ड कप 2022 से हुए बाहर

सोमवार को बीसीसीआइ ने मुहर लगा दी कि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह आगामी टी20 वर्ल्ड कप से बाहर हो गए हैं। हालांकि उनके रिप्लेसमेंट...

नवमी पर सीएम पुष्‍कर सिंह धामी ने जिमाई कन्‍या, मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों का लिया आशीर्वाद

नवमी के दिन मंगलवार को उत्‍तराखंड भर में मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों की पूजा अर्चना की जा रही है। इस क्रम में मुख्‍यमंत्री...

उत्तराखण्ड में चीन सीमा पर दशहरा मनाएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, आज पहुंचेंगे देहरादून

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह उत्तराखंड में चीन सीमा पर स्थित अग्रिम चौकी पर सेना और आईटीबीपी के जवानों के साथ विजयादशमी मनाएंगे। इस मौके पर...

हरिद्वार को मिला देश के गंगा टाउन में पहला स्थान, लेकिन उत्तराखंड का सबसे गंदा शहर, पढिये पूरी खबर

राष्ट्रीय स्तर की ओवरआल रैंकिंग में पिछले साल 279वें स्थान पर रहा हरिद्वार इस वर्ष 300वें नंबर पर आ गया। स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में...

Indian Air Force में शामिल हुए हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर ‘प्रचंड’, भारतीय वायुसेना को मिलेगी मदद

आजादी से लेकर अब तक भारत को सुरक्षित रखने में भारतीय वायु सेना की बड़ी शानदार भूमिका रही है। आंतरिक खतरे हों या बाहरी...

एसआइटी ने की रिसॉर्ट में बुकिंग करवाने वालों की पहचान, दर्ज किए जा रहे बयान

अंकिता हत्याकांड मामले में वीआईपी सर्विस देने के मामले से अभी भी पर्दा नहीं उठ पाया है। वहीं एसआइटी ने घटना से पहले व...