Home अंतरराष्ट्रीय हिमालय दिवस विशेष - आओ मिलकर अपना हिमालय बचाएँ 

हिमालय दिवस विशेष – आओ मिलकर अपना हिमालय बचाएँ 

खड़ा हिमालय बता रहा है तुम डरो न आंधी पानी से 

खड़े रहो तुम अविचल होकर सब संकट तूफानी में 

 

आज हिमालय दिवस है ….. कोई पर्वतराज की शान में भाषण दे रहा है तो कोई नीतियों के विरोध प्रदर्शन की मुठियाँ ताने खड़ा है लेकिन हिमालय है जो खामोश खड़ा है और बदलते समय के साथ परिवर्तन की तस्वीरें देख रहा है। 

भारत का मस्तक माना जाता है हिमालय को ….  हिन्दुस्तान में हिमालय देश के करीब 65 फ़ीसदी हिस्से को पानी उपलब्ध कराता है। गंगा-यमुना की जलधारा यहीं से निकलती हैं। जड़ी बूटियों और अनेक दिव्य औषधियों से लकदक हिमालय कुदरत का अनमोल खजाना मनुष्य को देता है …. हवा, पानी और मिट्टी की अनमोल सम्पदा देने वाले इस उदार हिमालय को लाख दावों के बावजूद आज हम इंसान इस हिमालय को बचाने और उसके संरक्षण के लिए सिफर दावे वादे और घोषणाएं ही करते रहे हैं। सरकार कोई भी रही हो लेकिन अफ़सोस कि दुनिया में भारत का मान बढ़ाने वाले सजग प्रहरी हिमालय के लिए कोई ठोस और प्रभावी कदम नहीं उठाए जा सके हैं। ये अलग बात है कि बीते एक दशक में उत्तराखंड सहित दूसरे हिमालयी राज्यों ने कोशिशों में गंभीरता ज़रूर दिखाई है। लेकिन उसके आगे का क्या हाल है ये जगज़ाहिर है आज ऐसे में एक बार फिर हम और आप हिमालय दिवस की बात कर रहे हैं।  लेकिन क्या कुर्सियों पर बैठे नियम निर्माता अपनी योजनाओं को अमलीजामा पहना पा रहे हैं ये बड़ा यक्ष सवाल है जिसका जवाब खोजना होगा। 

भारत के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल के 16.3 प्रतिशत हिस्से में जम्मू-कश्मीर से लेकर पूर्वोत्तर राज्यों तक फैला है हिमालय। बदली परिस्थितियों में यह हिमालयी क्षेत्र एक नहीं अनेक झंझावातों से जूझ रहा है। हिमालयी क्षेत्र में निरंतर आ रही आपदाएं डराने लगी हैं और हिमालयी राज्य उत्तराखंड भी इससे अछूता नहीं है। जून 2013 में केदारनाथ त्रासदी में जन-धन की भारी हानि से हर कोई वाकिफ है। इसके अलावा हिमालयी क्षेत्रों में बादल फटना, भूस्खलन, हिमस्खलन, नदियों का बढ़ता वेग जैसी आपदाएं उत्तराखंड पर निरंतर ही टूट रही हैं।

अन्य हिमालयी राज्यों की तस्वीर भी इससे अलग नहीं है।यही नहीं, ग्लेशियरों का निरंतर पिघलना, स्नो और ट्री लाइनों का ऊपर की तरफ खिसकना भी हिमालयी क्षेत्र के लिए शुभ संकेत नहीं कहा जा सकता। हिमालय की बिगड़ती सेहत के कारणों की तह में जाएं तो इसके पीछे उसकी अनदेखी सबसे बड़ी वजह है। असल में बेहद संवेदनशील वातावरण वाले हिमालयी क्षेत्र में पर्यावरण और विकास के मध्य सामंजस्य का अभाव साफ देखा जा सकता है।पहाड़ों  और सीमाओं पर खाली होते गाँव इस हिमालयी राज्य की असल तस्वीर बयान कर रही है ऐसे में अगर हिमालयी क्षेत्र में जल-जंगल-जमीन का ठीक से संरक्षण-संवर्धन हो जाए तो काफी दिक्कतें दूर हो जाएंगी।  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कल से खाना नहीं खाया है, भूखा हूं… मिठाई की दुकान में मिला मासूम चोर का खत

जैसलमेर में एक दिलचस्प मामला सामने आया है। यहां मिठाई की दुकान में घुसे चोर ने मिठाई खाई और जाते हुए दुकानदार के नाम...

मध्य प्रदेश में बड़ा हादसा, मुरैना के पास सुखोई-30 और मिराज-2000 क्रैश, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

शनिवार सुबह बड़ा हादसा हुआ। एयरफोर्स के दो फाइटर प्लेन सुखोई-30 और मिराज-2000 एयरक्रॉफ्ट आपस में टकराकर क्रैश हो गए। भास्कर को मिली अब...

अडानी ग्रुप के शेयरों में गिरावट आज भी जारी, हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से मची तबाही

एशिया के सबसे अमीर और दुनिया के दूसरे नंबर के धनकुबेर गौतम अडानी ने शायद सपने में भी नहीं सोचा होगा कि एक दिन...

कैप्टन अमरिंदर हो सकते हैं महाराष्ट्र के अगले राज्यपाल, भगत सिंह कोश्यारी की छुट्टी, आदेश जारी, पुष्टि होनी बाकी

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह महाराष्ट्र के अगले गवर्नर हो सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, इसकी तैयारी हो गई है और इसको...

अंडर-19 टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची भारतीय महिला क्रिकेट टीम

साउथ अफ्रीका में खेला जा रहे अंडर-19 महिला टी20 विश्व कप में भारतीय महिला अंडर-19 टीम ने इतिहास रच दिया। पहले टी20 विश्व कप...

उत्तराखंड पहुंचे पंडित धीरेन्द्र शास्त्री, “बोले कायदे में रहोगे तो फायदे में रहोगे”

अपने दावों के कारण कई दिनों से चर्चा में आए बाबा बागेश्वर धाम धीरेंद्र शास्त्री उत्तराखंड पहुंचे हैं। इंटरनेट मीडिया पर वीडियो जारी कर...

उत्तराखंड में फिर बदलेगा मौसम का मिजाज, 29 से बर्फबारी के आसार

उत्तराखंड में उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बीते दिनों हुई बर्फबारी के बाद पहाड़ से लेकर मैदान तक ठिठुरन और बढ़ गई है। वहीं, मैदानी...

रोडवेज की हड़ताल से परेशान यात्री, पहले यूपी फिर उत्तराखंड पहुंच रहे यात्री

उत्तराखंड रोडवेज की बसों से सफर करने वाले हजारों यात्रियों को आज भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रोडवेज की हड़ताल के चलते उत्तराखंड...

उत्तराखंड में 25 लाख में बिकी खाकी, दरोगा भर्ती कांड में विजिलेंस की जांच आगे बढ़ी

विजिलेंस अब दरोगा भर्ती धांधली के आरोपियों की संपत्तियों की जांच में जुट गई है। बताया जा रहा है कि मुख्य आरोपी पंतनगर विवि...

जोशीमठ संकट के बीच बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख का एलान, इस दिन खुलेंगे धाम के कपाट

बसंत पंचमी के मौके बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख का एलान हो गया है. उत्तराखंड के चार धामों में एक भगवान बद्री...