Saturday, April 13, 2024
उत्तराखंडपिथौरागढ़

मुनस्यारी ट्यूलिप गार्डन की खूबसूरती देख विभोर हुये केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, ट्वीट कर सीएम तीरथ को दी बधाई

देहरादून-मुनस्यारी में बने ट्यूलिप गार्डन की खूबसूरती देख केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर आनंदित हो गये। उन्होंने ट्वीट कर उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री और वन विभाग के अधिकारी, कर्मचारियों को बधाई दी है। उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री  तीरथ सिंह रावत ने मुनस्यारी ट्यूलिप गार्डन की कुछ ताजा तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा की थीं। इन तस्वीरों की तारीफ करते हुये केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने ट्वीट किया है।


मुनस्यारी में बने ट्यूलिप गार्डन ने यहां की खूबसूरती में चार चांद लगा दिये हैं। खूबसूरत फूलों से फहकती पहाड़िया और पीछे चमकता हिमालय किसी को भी आनंदित कर सकता है। आज उत्तराखण्ड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने पिथौरागढ़ दौरे पर मुनस्यारी ट्यूलिप गार्डन की कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया पर साझा कीं। मुख्यमंत्री ने वन विभाग के कर्मचारियों और अधिकारियों के अथक प्रयासों से तैयार हुये ट्यूलिप गार्डन की तारीफ की थी। इन तस्वीरों को केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी देखा। उन्होंने ट्वीट कर इन तस्वीरों की तारीफ की। केन्द्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने ट्वीट कर लिखा- अद्वितीय प्राकृतिक सौंदर्य की धनी उत्तराखण्ड की देवभूमि पर बने इस ट्यूलिप उद्यान का विश्व के सबसे बड़े ट्यूलिप उद्यानों में से एक होना न केवल देवभूमि के लिये अपितु संपूर्ण भारत के लिये एक गौरव का विषय है। इस उपलब्धि के लिये उत्तराखण्ड सरकार एवं सभी संबंधित विभागों को बधाई।

आपको बता दें कि उत्तराखंड के मुनस्यारी में राज्य के वन विभाग की ओर से कश्मीर की तरह एक ट्यूलिप गार्डन को विकसित किया गया है। कई महीनों की मेहनत के बाद यह गार्डन आम लोगों के दर्शन के लिए तैयार है। इस गार्डन को वन विभाग की ओर से बनाया गया है। जहां देसी और विदेशी किस्म के हजारों फूल लगाए गए हैं। मुनस्यारी में जिस स्थान पर यह ट्यूलिप गार्डन विकसित किया गया है, उसके पीछे हिमालय की पंचाचुली पर्वत श्रृंखला है। सीएम रावत ने जिन तस्वीरों को मंगलवार सुबह शेयर किया है उनमें यह पर्वत श्रृंखला बर्फ से ढंकी नजर आ रही है। पिथौरागढ़ जिले में पड़ने वाला मुनस्यारी उत्तराखंड के प्रसिद्ध टूरिस्ट डेस्टिनेशन के रूप में जाना जाता है। यह इलाका नैनीताल से करीब 264 किलोमीटर दूर है और हर साल यहां हजारों पर्यटक आते हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *