Tuesday, June 18, 2024
स्पेशल

No Smoking Day 2021: आपके फेफडों को कमज़ोर बनाने वाली सिगरेट से ऐसे निजाद पाएं

-आकांक्षा थापा

मार्च महीने के दूसरे बुधवार को हर साल नो स्मोकिंग डे मनाया जाता है. इस साल यह 10 मार्च को है. नो स्मोकिंग डे का मकसद दुनियाभर के लोगों के बीच जागरूकता फैलाना है ताकि वे धूम्रपान की लत छोड़ने के लिए प्रेरित हो सकें। “No Smoking Day” का मुख्य मकसद तंबाकू के स्वास्थ्य पर पड़नेवाले बुरे प्रभावों को उजागर करना है। विश्वभर में सिगरेट, बीड़ी या गुटखा सेवन की शक्ल में कई तरीकों से तंबाकू खाया जाता है.. … जिसका स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव जाहिर है, लेकिन फिर भी रोजाना हजारों युवा स्मोकिंग शुरू करते हैं…विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के आंकड़ों की मानें तो हर साल धूम्रपान और तंबाकू की वजह से दुनियाभर में 70 लाख लोगों की मौत हो जाती है। वहीँ, साल 2019 के आंकड़ों के मुताबिक भारत में करीब 35% वयस्क स्मोकिंग करते हैं। आप इसी से अंदाजा लगा सकते हैं कि देश की कितनी बड़ी आबादी धूम्रपान की इस लत का शिकार है जिसकी वजह से लोग लंग कैंसर, मुंह का कैंसर, गले का कैंसर और ब्रॉन्काइटिस जैसी कई जानलेवा बिमारियों के सीकर बन रहे हैं।

सिगरेट एक लेकिन नुक्सान अनेक –
सिगरेट न केवल आपको कैंसर दे सकता है बल्कि आपके शरीर को कई सारी अलग तरह की परेशानी भी दे सकता है. सिगरेट पीना हमारे स्वास्थ के लिए कितनी जानलेवा है और इसकी लत जिसे लग जाती है उन्हें इससे दूरी बनाने में भी काफी वक्त लग जाता है, लेकिंन दृढ़ निश्चय से यह संभव है। उम्र बढ़ने के साथ ही ये आपके स्वास्थ को कई तरह से परेशान लगता है…

सिगरेट छोडने के घरेलु नुस्ख़े –
1. दालचीनी
अगर आप सिगरेट से दूर रहना चाहते हैं तो ऐसे में आप सबसे पहले घरेलू नुस्खों की तरफ ध्यान दें. अगर आपको सिगरेट की लत है तो ऐसे में आपको दालचीनी की सहारा लेना चाहिए। अगर आपको स्मोकिंग की इच्छा है तो ऐसे में आप दालचीनी का एक टुकड़ा मुंह में रखें इससे आपकी तलब कम हो जाती है।

2. शहद
अगर आप धूम्रपान की आदत छोड़ना चाहते हैं तो ऐसे में शहद का भी इस्तेमाल बहुत लाभदाई साबित होता है . दरअसल शहद में विटामिन, एंजाइम और प्रोटीन होते हैं, जो स्मोकिंग छोड़ने में आपकी मदद कर सकते हैं, जिससे धूम्रपान की आदत को आपसे दूर रखने में मददगार साबित होगा।

3. अजवाइन
जब भी आपको धूम्रपान करने का मन करे तो आप अजवाइन को मुंह में रख ले और इसेक बीच को चबाएं आपको फायदा जल्द देखने को मिलेगा।

4. अश्वगंधा और शतावरी
यह दोनों जड़ी बूटियां शरीर के कई रोगों से लड़ने में मददगार साबित हुए हैं। यहि वजह है की आयुर्वेद में इन दोनों जड़ी-बूटियों का खूब इस्तेमाल किया जाता है… तंबाकू या धूम्रपान के नियमित सेवन से शरीर में निकोटीन जैसे विषैले यौगिकों का जमाव होता है, लेकिन अश्‍वगंधा और शतावरी जैसी जड़ी बूटियां शरीर से इन विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालने में मदद करती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *