Saturday, May 18, 2024
राष्ट्रीय

National Doctor’s Day 2021: जानिए कौन हैं वो डॉक्टर जिनकी जयंती को डॉक्टर्स डे के रूप में मनाया जाता है

-आकांक्षा थापा

हर साल की तरह इस साल भी आज यानि 1 जुलाई को पूरे देश में नेशनल डॉक्टर्स डे मनाया जा रहा है। इस दिवस का उद्देश जीवन देने वाले सभी डॉक्टर्स के प्रति सम्मान व्यक्त करना है और स्वास्थ्य के प्रति लोगों में जागरूकता लाना है.. दुनिया भर के तमाम डॉक्टर्स का योगदान सराहनीय है, ख़ास तौर पर कोरोनाकल के दौरान जिस कदर डॉक्टर्स ने दिन-रात एक कर जरूरमंदों का इलाज किया वो प्रशंसनीय है.. यही नहीं, कोरोना महामारी की इस स्थिति में डॉक्टर्स और अन्य मेडिकल स्टाफ पर खुद जान का ख़तरा बना रहता है। किसी भी बड़ी स्वास्थ्य संबंधी आपदा में सुपर हीरो बनकर उभरने वाले इन डॉक्टरों को आज के दिन विशेष सम्मान देना चाहिए….

क्या है डॉक्टर्स डे का इतिहास?
आज से 30 साल पहले, सन 1991 में देश में पहली बार डॉक्टर्स डे मनाया गया था.. दरअसल 1 जुलाई को डॉक्टर्स डे इसलिए मनाया जाता है क्यूंकि भारत के प्रसिद्ध चिकित्सकों में से एक डॉक्टर बिधान चंद्र रॉय का जन्मदिन व पुण्यतिथि दोनों आज ही है। ऐसे में उनके प्रति सम्मान के रूप में भी इस दिवस को मनाया जाता है। इस दिन डॉक्टर्स के योगदान के बारे में लोगों को बताया जाता है, उनके प्रति सम्मान व्यक्त किया जाता है, उन्हें सराहा जाता है…
यही नहीं, आज हम ‘भारत रत्‍न’ बिधान चंद रॉय को सलाम करते हैं। डॉक्‍टर रॉय का मेडिकल क्षेत्र में एहम योगदान रहा है, उन्होंने मॉडर्न मेडिसिन में भारतीयों का विश्‍वास बढ़ाने में अहम भूमिका न‍िभाई है। आपको बता दें, वह महात्‍मा गांधी के दोस्‍त और उनके निजी डॉक्‍टर थे। आजादी से पहले, डॉ रॉय जब बंगाल की सरकारी स्‍वास्‍थ्‍य व्‍यवस्‍था का हिस्‍सा थे तब जरूरत पड़ने पर नर्स की ड्यूटी भी करते थे। खाली वक्‍त मिलता तो प्राइवेट में मरीजों को देखते थे वो भी बेहद मामूली फीस लेकर।

डॉक्टर्स डे 2021 की थीम:
हर साल डॉक्टर्स डे की एक थीम होती है, इस साल की थीम कोरोनावायरस से ही जुडी है. जिसे वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन यानी विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा तय किया गया है… इस बार की थीम है ‘बिल्डिंग ए फेयरर, हेल्दियर वर्ल्ड’ …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *