Friday, September 30, 2022
Home राष्ट्रीय Kargil Vijay Diwas: 22वीं सालगिरह पर देश ने वीर जवानो की शहादत...

Kargil Vijay Diwas: 22वीं सालगिरह पर देश ने वीर जवानो की शहादत को किया याद

हर साल 26 जुलाई को कारगिल युद्ध में हासिल जीत का एक और साल पूरा होने पर देश भर में कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है… कारगिल युद्ध 1999 में हुई वीर जवानों की सहादत को याद करने के लिए आज पुरे भारत में कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है। दरअसल, लड़ाई की शुरुआत उस समय हुई जब पाकिस्तानी सैनिकों और आतंकवादियों ने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की. घुसपैठियों ने खुद को प्रमुख स्थानों पर तैनात किया, जिससे उन्हें संघर्ष की शुरुआत के दौरान रणनीतिक तौर पर लाभ भी मिला स्थानीय चरवाहों द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर भारतीय सेना ने घुसपैठ वाले सभी स्थानों का पता लगाया और फिर ‘ऑपरेशन विजय’ की शुरुआत की गई…. शुरुआत में बेशक अधिक ऊंचाई पर होने के कारण पाकिस्तान की सेना को फायदा मिल रहा था लेकिन इससे भी भारतीय सैनिकों का मनोबल कम नहीं हुआ और आखिर में उन्होंने जीत का परचम लहरा दिया. सेना ने फिर 26 जुलाई, 1999 को घोषणा करते हुए बताया कि मिशन सफलतापूर्वक पूरा हो गया है…. उसी दिन के बाद से हर साल कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है. हालांकि भारत के लिए ये जीत काफी महंगी भी साबित हुई. आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि भारत के 527 सैनिक शहीद हुए थे, जबकि पाकिस्तान के 357-453 सैनिक मारे गए.

कप्तान विक्रम बत्रा की वीर गाथा……

‘या तो तिरंगा लहरा के आऊंगा, या तो तिरेंगे में लिपटा चला आऊंगा, लेकिन आऊंगा ज़रूर’ … ये आखरी शब्द थे कप्तान विक्रम बत्रा के जो उन्होंने अपने परिवार से कहे थे… 7 जुलाई 1999, एक ऐसी तारीख जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। कैप्टन विक्रम बत्रा ने 24 साल की उम्र में वह ऊंचा मुकाम हासिल किया जिसका सपना हर भारतीय सैनिक देखता है. 13 जम्मू और कश्मीर राइफल्स के कैप्टेन बत्रा ने अपनी जान की परवाह करे बैगर दुश्मनो का सामना किया। सन 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान प्वाइंट 4875 पर कब्ज़ा करने में कप्तान बत्रा ने अहम भूमिका निभाई थी. इससे पहले भी उन्होंने दुश्मनो पर सीधा हमला बोलते हुए 20 जून 1999 के सुबह साढ़े तीन बजे 5140 चोटी को अपने कब्जे में लिया और रेडियो पर अपनी जीत का ऐलान करते हुए कहा – ‘दिल मांगे मोर कहा’

बत्रा की टुकड़ी को इसके बाद 4875 की चोटी पर कब्जा करने की जिम्मेदारी मिली. इस संकरी चोटी पर पाक सैनिकों ने मजबूत नाकेबंदी कर रखी थी. कैप्टन बत्रा ने इस बार भी वही रणनीति अपना कर उस पर जल्दी से अमल में लाने का फैसला लिया. लेकिन इस बार भी अपने काम में सफल तो हुए मगर इस दौरान वे खुद भी बहुत जख्मी हो गए… उन्होंने अपनी टुकड़ी के साथ कई पाकिस्तान सैनिकों को खत्म कर दिया और अपने प्राणों की आहूति दे दी.

कैप्टेन विक्रम चुनौतियों से कभी नहीं डरे, बल्कि हमेशा हस्ते हस्ते उनका सामना करते थे। मातृभूमि के लिए अपना सबकुछ न्योछावर करने से वे कभी नहीं कतराए। इस निडर कारगिल हीरो का जन्म हिमाचल प्रदेश के पालमपुर में हुआ था. उन्हें बचपन से ही फ़ौज का जूनून था, कॉलेज क साथ साथ उन्होंने एनसीसी का सी सर्टिफिकेट हासिल किया और दिल्ली में हुई गणतंत्र दिवस की परेड में भी भाग लिया। जिसके बाद उन्होंने सेना में जाने का फैसला कर लिया. उन दिनों बत्रा मर्चेंट नेवी के लिए हॉन्गकॉन्ग की कंपनी में चयनित हुए थे, लेकिन उन्होंने आकर्षक करियर की जगह देशसेवा तो तवज्जो दी.
पढाई खत्म होते ही बत्रा ने सेना का रुख ककर लिया, 1996 में सीडीएस के साथ ही सर्विसेस सिलेक्शन बोर्ड में भी चयनित हुए और इंडियन मिलिट्री एकेडमी से जुड़ने के साथ मानेकशॉ बटालियन का हिस्सा बने. ट्रेनिंग पूरी करने के 2 साल बाद ही उन्हें लड़ाई के मैदान में जाने का मौका मिला था.

कैप्टन बत्रा की बहादुरी के लिए उन्हें ना केवल मरणोपरांत परमवीर चक्र का सम्मान मिला बल्कि 4875 की चोटी को भी विक्रम बत्रा टॉप नाम दिया गया है. वे पालमपुर के दूसरे ऐसे सैनिक हैं जिन्हें परमवीर चक्र मिला है. उनसे पहले मेजर सोमनाथ शर्मा को देश में सबसे पहले परमवीर चक्र प्रदान किया गया था.
कारगिल युद्ध के हीरो कैप्टन विक्रम बत्रा की आज 22 वीं पुण्यतिथि है। सबसे पहले उन्हें कारगिल के दौरान पाकिस्तान सेना के इंटरसेप्टेड संदेशों में ‘शेरशाह’ कहा गया और तब से लेकर अबतक वे शेरशाह के नाम से भी जाने जाते हैं। यहीं नहीं, करन जोहर खुद कैप्टेन विक्रम बत्रा पर एक फिल्म बना रहे हैं, जिसका नाम ‘शेरशाह’ है, फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा कप्तान बत्रा के किरदार में नज़र आएंगे। शेरशाह को लेकर लोगों में उत्सुकता है, और अब लोगों की नज़रें इस फिल्म पर टिकीं है, की कब ये फिल्म के रिलीज़ हो, और कब उनका इंतज़ार खत्म हो ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहित कई दिग्गजों ने भारत के जवानों के बलिदान को याद किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

हरिद्वार जहरीली शराब की अरोपी बबली देवी ने जीतीं प्रधानी का चुनाव, पुलिस ने किया गिरफ्तार

चुनाव के दौरान जहरीली शराब बांटने वाली बबली देवी चुनाव जीतने के बाद हवालात पहुंच गई हैं। जी हां हरिद्वार में शिवनगर ग्राम पंचायत...

जल्द शुरू होगा भारत का सबसे बड़ा रियलिटी टीवी शो बिग बॉस 16, जानिए कौन है शो में एंट्री करने वाले पहले कंटेस्टेंट

भारत का सबसे बड़ा रियलिटी टीवी शो बिग बॉस 16 जल्द ऑन एयर होने जा रहा है। शो 1 अक्टूबर से टीवी पर देखा...

जम्मू-कश्मीर में दहशत, ताबड़तोड़ 2 बम धमाके, कंडक्टर समेत दो लोग घायल, बढ़ाई गयी सुरक्षा

जम्मू-कश्मीर में इस समय दहशत का माहौल है। जम्मू-कश्मीर के उधमपुर में अलग-अलग जगह पर पार्क की गई बस में बम धमाके हुए हैं।...

10 साल के बच्चे की पेंटिंग आर्ट गैलरियों में, 2 करोड़ रुपये में हुई एक पेंटिंग की बिक्री

कक्षा पांचवी में पढ़ने वाला एक बच्चा पेंटिंग की दुनिया में नाम कमा रहा है। आंद्रेस वैलेंसिया अभी केवल 10 साल का है और...

उत्तराखण्ड के हिस्से एक और गौरव, ले.ज. अनिल चौहान बने सीडीएस

भारतीय सेना में उत्तराखण्ड के योगदान का एक और सुनहरा पन्ना जुड़ गया है। देश के दूसरे चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ बनने का गौरव...

केंद्र सरकार ने पीएफआई को घोषित किया गैरकानूनी संस्था, पांच सालों के लिए संस्था बैन

केंद्र सरकार ने पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) को एक गैरकानूनी संस्था घोषित कर दिया है। सरकार ने पीएफआई पर अगले पांच सालों के...

लखीमपुर खीरी में बड़ा सड़क हादसा,यात्री बस और ट्रक की आमने-सामने टक्कर, हादसे में 8 लोंगो की मौत

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में आज बुधवार की सुबह भीषण सड़क हादसा हो गया। इस हादसे में आठ लोगों की मौके पर ही...

अंकिता भंडारी के परिजनों को 25 लाख रुपयों की आर्थिक सहायता, पुष्कर सिंह धामी का ऐलान

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने दिवंगत अंकिता भंडारी के परिजनों को 25 लाख रूपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है। अधिकारियों को...

स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर की याद में तैयार 14 टन की वीणा,  93वीं जयंती पर दी श्रद्धांजलि

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को भारत रत्न लता मंगेशकर को दी श्रद्धांजलि। बता दें कि आज इस विशेष दिन पर उत्तर प्रदेश के...

अंकिता हत्याकांड पर राहुल गांधी का बीजेपी पर निशाना, अंकिता के पिता का बयान भी आया सामने

अंकिता भंडारी हत्याकांड ने समूचे देश को हिला कर रख दिया है। अंकिता भंडारी हत्याकांड में शामिल तीनों मुख्य आरोपी गिरफ्तार हो चुके है...