Home राष्ट्रीय Kargil Vijay Diwas: 22वीं सालगिरह पर देश ने वीर जवानो की शहादत...

Kargil Vijay Diwas: 22वीं सालगिरह पर देश ने वीर जवानो की शहादत को किया याद

हर साल 26 जुलाई को कारगिल युद्ध में हासिल जीत का एक और साल पूरा होने पर देश भर में कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है… कारगिल युद्ध 1999 में हुई वीर जवानों की सहादत को याद करने के लिए आज पुरे भारत में कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है। दरअसल, लड़ाई की शुरुआत उस समय हुई जब पाकिस्तानी सैनिकों और आतंकवादियों ने भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की. घुसपैठियों ने खुद को प्रमुख स्थानों पर तैनात किया, जिससे उन्हें संघर्ष की शुरुआत के दौरान रणनीतिक तौर पर लाभ भी मिला स्थानीय चरवाहों द्वारा दी गई जानकारी के आधार पर भारतीय सेना ने घुसपैठ वाले सभी स्थानों का पता लगाया और फिर ‘ऑपरेशन विजय’ की शुरुआत की गई…. शुरुआत में बेशक अधिक ऊंचाई पर होने के कारण पाकिस्तान की सेना को फायदा मिल रहा था लेकिन इससे भी भारतीय सैनिकों का मनोबल कम नहीं हुआ और आखिर में उन्होंने जीत का परचम लहरा दिया. सेना ने फिर 26 जुलाई, 1999 को घोषणा करते हुए बताया कि मिशन सफलतापूर्वक पूरा हो गया है…. उसी दिन के बाद से हर साल कारगिल विजय दिवस मनाया जाता है. हालांकि भारत के लिए ये जीत काफी महंगी भी साबित हुई. आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि भारत के 527 सैनिक शहीद हुए थे, जबकि पाकिस्तान के 357-453 सैनिक मारे गए.

कप्तान विक्रम बत्रा की वीर गाथा……

‘या तो तिरंगा लहरा के आऊंगा, या तो तिरेंगे में लिपटा चला आऊंगा, लेकिन आऊंगा ज़रूर’ … ये आखरी शब्द थे कप्तान विक्रम बत्रा के जो उन्होंने अपने परिवार से कहे थे… 7 जुलाई 1999, एक ऐसी तारीख जिसे कभी भुलाया नहीं जा सकता। कैप्टन विक्रम बत्रा ने 24 साल की उम्र में वह ऊंचा मुकाम हासिल किया जिसका सपना हर भारतीय सैनिक देखता है. 13 जम्मू और कश्मीर राइफल्स के कैप्टेन बत्रा ने अपनी जान की परवाह करे बैगर दुश्मनो का सामना किया। सन 1999 में कारगिल युद्ध के दौरान प्वाइंट 4875 पर कब्ज़ा करने में कप्तान बत्रा ने अहम भूमिका निभाई थी. इससे पहले भी उन्होंने दुश्मनो पर सीधा हमला बोलते हुए 20 जून 1999 के सुबह साढ़े तीन बजे 5140 चोटी को अपने कब्जे में लिया और रेडियो पर अपनी जीत का ऐलान करते हुए कहा – ‘दिल मांगे मोर कहा’

बत्रा की टुकड़ी को इसके बाद 4875 की चोटी पर कब्जा करने की जिम्मेदारी मिली. इस संकरी चोटी पर पाक सैनिकों ने मजबूत नाकेबंदी कर रखी थी. कैप्टन बत्रा ने इस बार भी वही रणनीति अपना कर उस पर जल्दी से अमल में लाने का फैसला लिया. लेकिन इस बार भी अपने काम में सफल तो हुए मगर इस दौरान वे खुद भी बहुत जख्मी हो गए… उन्होंने अपनी टुकड़ी के साथ कई पाकिस्तान सैनिकों को खत्म कर दिया और अपने प्राणों की आहूति दे दी.

कैप्टेन विक्रम चुनौतियों से कभी नहीं डरे, बल्कि हमेशा हस्ते हस्ते उनका सामना करते थे। मातृभूमि के लिए अपना सबकुछ न्योछावर करने से वे कभी नहीं कतराए। इस निडर कारगिल हीरो का जन्म हिमाचल प्रदेश के पालमपुर में हुआ था. उन्हें बचपन से ही फ़ौज का जूनून था, कॉलेज क साथ साथ उन्होंने एनसीसी का सी सर्टिफिकेट हासिल किया और दिल्ली में हुई गणतंत्र दिवस की परेड में भी भाग लिया। जिसके बाद उन्होंने सेना में जाने का फैसला कर लिया. उन दिनों बत्रा मर्चेंट नेवी के लिए हॉन्गकॉन्ग की कंपनी में चयनित हुए थे, लेकिन उन्होंने आकर्षक करियर की जगह देशसेवा तो तवज्जो दी.
पढाई खत्म होते ही बत्रा ने सेना का रुख ककर लिया, 1996 में सीडीएस के साथ ही सर्विसेस सिलेक्शन बोर्ड में भी चयनित हुए और इंडियन मिलिट्री एकेडमी से जुड़ने के साथ मानेकशॉ बटालियन का हिस्सा बने. ट्रेनिंग पूरी करने के 2 साल बाद ही उन्हें लड़ाई के मैदान में जाने का मौका मिला था.

कैप्टन बत्रा की बहादुरी के लिए उन्हें ना केवल मरणोपरांत परमवीर चक्र का सम्मान मिला बल्कि 4875 की चोटी को भी विक्रम बत्रा टॉप नाम दिया गया है. वे पालमपुर के दूसरे ऐसे सैनिक हैं जिन्हें परमवीर चक्र मिला है. उनसे पहले मेजर सोमनाथ शर्मा को देश में सबसे पहले परमवीर चक्र प्रदान किया गया था.
कारगिल युद्ध के हीरो कैप्टन विक्रम बत्रा की आज 22 वीं पुण्यतिथि है। सबसे पहले उन्हें कारगिल के दौरान पाकिस्तान सेना के इंटरसेप्टेड संदेशों में ‘शेरशाह’ कहा गया और तब से लेकर अबतक वे शेरशाह के नाम से भी जाने जाते हैं। यहीं नहीं, करन जोहर खुद कैप्टेन विक्रम बत्रा पर एक फिल्म बना रहे हैं, जिसका नाम ‘शेरशाह’ है, फिल्म में सिद्धार्थ मल्होत्रा कप्तान बत्रा के किरदार में नज़र आएंगे। शेरशाह को लेकर लोगों में उत्सुकता है, और अब लोगों की नज़रें इस फिल्म पर टिकीं है, की कब ये फिल्म के रिलीज़ हो, और कब उनका इंतज़ार खत्म हो ।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद सहित कई दिग्गजों ने भारत के जवानों के बलिदान को याद किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

कल से खाना नहीं खाया है, भूखा हूं… मिठाई की दुकान में मिला मासूम चोर का खत

जैसलमेर में एक दिलचस्प मामला सामने आया है। यहां मिठाई की दुकान में घुसे चोर ने मिठाई खाई और जाते हुए दुकानदार के नाम...

मध्य प्रदेश में बड़ा हादसा, मुरैना के पास सुखोई-30 और मिराज-2000 क्रैश, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी

शनिवार सुबह बड़ा हादसा हुआ। एयरफोर्स के दो फाइटर प्लेन सुखोई-30 और मिराज-2000 एयरक्रॉफ्ट आपस में टकराकर क्रैश हो गए। भास्कर को मिली अब...

अडानी ग्रुप के शेयरों में गिरावट आज भी जारी, हिंडनबर्ग की रिपोर्ट से मची तबाही

एशिया के सबसे अमीर और दुनिया के दूसरे नंबर के धनकुबेर गौतम अडानी ने शायद सपने में भी नहीं सोचा होगा कि एक दिन...

कैप्टन अमरिंदर हो सकते हैं महाराष्ट्र के अगले राज्यपाल, भगत सिंह कोश्यारी की छुट्टी, आदेश जारी, पुष्टि होनी बाकी

पंजाब के पूर्व सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह महाराष्ट्र के अगले गवर्नर हो सकते हैं। सूत्रों के अनुसार, इसकी तैयारी हो गई है और इसको...

अंडर-19 टी20 वर्ल्ड कप के फाइनल में पहुंची भारतीय महिला क्रिकेट टीम

साउथ अफ्रीका में खेला जा रहे अंडर-19 महिला टी20 विश्व कप में भारतीय महिला अंडर-19 टीम ने इतिहास रच दिया। पहले टी20 विश्व कप...

उत्तराखंड पहुंचे पंडित धीरेन्द्र शास्त्री, “बोले कायदे में रहोगे तो फायदे में रहोगे”

अपने दावों के कारण कई दिनों से चर्चा में आए बाबा बागेश्वर धाम धीरेंद्र शास्त्री उत्तराखंड पहुंचे हैं। इंटरनेट मीडिया पर वीडियो जारी कर...

उत्तराखंड में फिर बदलेगा मौसम का मिजाज, 29 से बर्फबारी के आसार

उत्तराखंड में उच्च हिमालयी क्षेत्रों में बीते दिनों हुई बर्फबारी के बाद पहाड़ से लेकर मैदान तक ठिठुरन और बढ़ गई है। वहीं, मैदानी...

रोडवेज की हड़ताल से परेशान यात्री, पहले यूपी फिर उत्तराखंड पहुंच रहे यात्री

उत्तराखंड रोडवेज की बसों से सफर करने वाले हजारों यात्रियों को आज भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। रोडवेज की हड़ताल के चलते उत्तराखंड...

उत्तराखंड में 25 लाख में बिकी खाकी, दरोगा भर्ती कांड में विजिलेंस की जांच आगे बढ़ी

विजिलेंस अब दरोगा भर्ती धांधली के आरोपियों की संपत्तियों की जांच में जुट गई है। बताया जा रहा है कि मुख्य आरोपी पंतनगर विवि...

जोशीमठ संकट के बीच बदरीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख का एलान, इस दिन खुलेंगे धाम के कपाट

बसंत पंचमी के मौके बद्रीनाथ धाम के कपाट खुलने की तारीख का एलान हो गया है. उत्तराखंड के चार धामों में एक भगवान बद्री...