Saturday, April 13, 2024
राष्ट्रीय

जमशेदपुर में हुई सामुदायिक हिंसा के बाद इंटरनेट सेवा ठप, धारा 144 लागू

जमशेदपुर हिंसा मामले में प्रशासन द्वारा पूरे इलाके में इंटरनेट सेवा ठप कर दी गई है। रविवार शाम से इलाके में धारा 144 भी लागू कर दी गई । इलाके में तनावपूर्ण स्थिति बनी हुई है। वहीं, पूरे इलाके में पुलिस बल को भी तैनात कर दिया गया है।

रविवार शाम  को शहर के कदमा शास्त्रीनगर ब्लॉक नंबर-2 में दो समुदायों में झड़प हो गई। इस बीच पत्थरबाजी के साथ काफी हंगामा हुआ। कुछ युवकों ने फायरिंग भी की। घटना की सूचना मिलने पर जमशेदपुर पुलिस मौके पर पहुंची। पत्थरबाजों को तितर-बितर करने के लिए पुलिस ने हवाई फायरिंग भी की लेकिन पत्थरबाजों ने दुकानों और वाहनों में आग लगा दी। इस दौरान ऐसा लग रहा था मानो पूरा शहर जल उठा हो। इसके बाद झारखंड अग्निशमन और टाटास्टील की दो दमकल की गाडियों द्वारा आग पर काबू पाया गया।

तीन घंटे तक चली पत्थरबाजी, घायल हुए पुलिसकर्मी

रविवार को  हंगामे के दौरान हुई पत्थरबाजी करीब 3 घंटे तक चली, जिसमें जमशेदपुर एसएसपी प्रभात कुमार सहित कई पुलिसकर्मी घायल हो गए। घटना के बाद पुलिस ने करीब 60 से अधिक युवाओं को हिरासत में ले लिया।

घटनास्थल पहुंची डिप्टी कमिश्नर

घटना की सूचना मिलने पर डीसी विजया जाधव घटनास्थल पहुंचीं। फिलहाल इलाके में तनाव का माहौल है। रविवार शाम से पूरे क्षेत्र में धारा 144 लागू कर दी गई और इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई तांकि कोई अफवाह न फैले।

क्या है पूरा मामला?

जानकारी के मुताबिक विवाद धार्मिक मामले से जुड़ा है। पूरा विवाद शनिवार शाम से शुरु हुआ, जब कुछ असामाजिक तत्वों द्वारा कदमा शास्त्रीनगर ब्लॉक नंबर-3 चौक पर लगे बजरंगबली के इंडे के बांस में मांस से भरा पॉलिथीन बांध दिया गया था, जिसके बाद हिंदूवादी संगठनों ने  एकजुट होकर इसका विरोध किया। दो घंटे के हंगामे के बाद मामला शांत हुआ था।

रविवार को शास्त्रीनगर ब्लॉक नंबर- 2 के जटाधारी हनुमान मंदिर में हिंदूवादी संगठनों की बैठक रखी गई थी। सब लोग बैठक कर ही रहे थे कि किसी ने उन पर पत्थरबाजी शुरु कर दी। इसके बाद भगदड़ मच गई और जवाब में बैठक कर रहे लोगों ने भी पत्थरबाजी शुरु कर दी और देखते ही देखते विवाद ने हिंसा का रुप ले लिया।

फिलहाल इलाके में 144 लागू कर दी गई है और इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *