Tuesday, April 23, 2024
film industryकोविड 19राष्ट्रीय

कोरोना से डरना नहीं अब आगे बढ़ना है- बस ये कुछ बातें रखिये ध्यान  

दिल्ली हो या महाराष्ट्र , देश के कई बड़े राज्यों में कोरोना बड़ी चुनौती बना हुआ है कई शहरों में कोविड-19 के मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है….. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पांचवे लॉक डाउन के साथ ही अनलॉक-1 लागू तो कर दिया लेकिन आज यह खतरा और तेज़ी से बढ़ता दिखाई दे रहा है। ज़रूरत है कि ऐसे संक्रमण के दौर में लोग तनाव में आने से बचें। ज़रूरत है की इस वक्त सरकार और समाज दोनों मिलकर इस जंग को लड़ें क्यूंकि कोरोना से बचाव के लिए भीड़ से दूरी ही सबसे बड़ा हथियार है। केंद्र सरकार ने अनलॉक-1 में देश की जनता को काफी सहूलियत और ढिलाई दे दी थी , लेकिन कोरोना के संक्रमण का खतरा आज भी पहले की तरह बरकरार है।

इस संक्रमण से खुद को महफूज़ रखने के लिए ज़रूरी है कि आप और हम शारीरिक दूरी अपनाएं ,  पौष्टिक आहार लें और अपने आस पास स्वच्छता का ध्यान रखें। अगर हम बचाव के कुछ रूटीन टिप्स को अपना लें तो निश्चित ही संक्रमण से सुरक्षित हो  सकते हैं। 

मास्क और फेस कवर अब ड्रेस कोड में हो रहा शामिल 

बाहर निकलते समय अपना ख्याल रखना जरूरी है। जब तक कोरोना का संक्रमण बरकरार रहेगा, तब तक मास्क को अपने जीवन का हिस्सा बनाकर रखना होगा। आने वाले दिनों में इंफ्लूएंजा का संक्रमण भी होगा। इसलिए मास्क कोरोना के साथ-साथ इंफ्लूएंजा से भी बचाएगा। 

हमारे देश में सार्वजनिक स्थानों पर थूकने की आदत एक सामाजिक बुराई है। यहां काफी संख्या में लोग पान मसाला, गुटखा व तंबाकू खाते हैं। जबकि यह कोई ऐसी चीज नहीं है, जिसके बिना जीवन नहीं चल सकता। इसका सेवन छोड़कर संक्रमण को कम किया जा सकता है। इससे खुद के साथ-साथ समाज का भी बचाव होगा, क्योंकि थूक में वायरस कई घंटों तक रहता है। इस वजह से दूसरों को कोरोना का संक्रमण होने का खतरा बना रहता है….. 

बेवजह घर से बाहर निकलने से बचना होगा

6 steps to prevent the spread of germs hand washing instructions.

कई लोगों को बाजार में घूमने की आदत होती है। बाजार में भीड़ अधिक होती है और शारीरिक दूरी के नियम का पालन आसान नहीं होता। बहुत जरूरी होने पर ही बाजार जाएं। अब तो शहरों में बहुत सारी चीजें ऑनलाइन उपलब्ध हैं। बेहतर होगा कि ऑनलाइन शॉपिंग का इस्तेमाल करें। अगर बाजार जाएं तो शारीरिक दूरी का विशेष ख्याल रखें। 

लक्षण दिखे तो बिना घबराये कराएं जांच –  तमाम बचाव के उपायों को अपनाने के बावजूद यदि कोई संक्रमित हो भी जाए तो ज्यादा घबराने की जरूरत नहीं है, क्योंकि यह वायरस बहुत ज्यादा घातक नहीं है। देश में ज्यादातर लोगों में हल्का संक्रमण देखा जा रहा है। हल्का संक्रमण होने पर घबराकर तत्काल अस्पताल जाने से बचें। यदि हल्का संक्रमण है तो पांच से सात दिन में यह बीमारी ठीक हो जाती है। इसलिए खांसी, जुकाम है तो घर में भी परिवार के अन्य सदस्यों से दूरी बनाकर रह सकते हैं। गले में खराश है तो गुनगुने पानी से गरारे करें। इसके अलावा भाप लें। यदि हल्का बुखार है तो उसकी दवा ले सकते हैं। यदि बुखार ज्यादा हो और सांस लेने में परेशानी होने लगे तो अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत है। इस तरीके से ही इस महामारी से पार पाया जा सकता है।  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *