Tuesday, April 23, 2024
उत्तराखंडउत्तराखण्ड विधानसभा चुनावराजनीति

चुनाव से ऐन पहले उत्तराखण्ड में तुष्टीकरण को मिली हवा, मुस्लिम यूनिवर्सिटी के मसले पर सीएम धामी और रावत आमने-सामने

देहरादून- उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनाने को लेकर विवाद शुरू हो गया है। कांग्रेस के एक नए नेता के विश्वविद्यालय बनाने के बयान के बाद सीएम पुष्कर सिंह धामी का कहना है कि उत्तराखंड में मुस्लिम विश्वविद्यालय बनाने पर कांग्रेस देवभूमि में तुष्टीकरण की राजनीति कर रही है। सीएम ने कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि कांग्रेस हमेशा से ही तुष्टीकरण की राजनीति करती आई है।
कांग्रेस की पिछली सरकार के कार्यकाल में भी तुष्टीकरण की राजनीति देखने को मिली थी, जब शुक्रवार को छुट्टी करने की घोषणा की गई थी और अब कांग्रेस चारधाम की बात कर रही है। कहा कि कभी चारधाम तो कभी मुस्लिम यूनिवर्सिटी से कांग्रेस सिर्फ और सिर्फ वोटरों को लुभाने में जुटी हुई है। जबकि, हकीकत यह है कि उत्तराखंड के वोटर कांग्रेस की हर चाल को अच्छी तरह से जानते और समझते हैं।
कांग्रेस महासचिव अकील अहमद के बयान के साथ ही विवाद की शुरुआत हुई, जब उन्होंने सहसपुर विधानसभा सीट से अपना नामांकन वापस लेने के लिए पार्टी के सामने कुछ शर्तें रखीं, जिसमें उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी स्थापित करना भी था। उन्होंने दावा किया कि था कि उन्हें दो-तीन दिन के अंदर कांग्रेस का प्रदेश महासचिव की जिम्मेदारी भी दी जाएगी। अकील ने कहा था कि पूर्व सीएम हरीश रावत ने उन्हें भरोसा दिया था कि कांग्रेस की सरकार बनते ही उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी।
बीजेपी ने फेसबुक पर अकील अहमद का वीडियो जारी कर कहा कि जो देवप्रयाग में संस्कृत विश्वविद्यालय नहीं बनाने देते वह लोग अब उत्तराखंड में मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनाने की बात कर रहे हैं। अकील अहमद के बयान के बाद उपजे विवाद को देखते हुए अहमद ने यू-टर्न लेकर कहा कि उन्होंने संगठन के सामने मुस्लिम यूनिवर्सिटी बनाने की बात रखी थी, लेकिन पूर्व सीएम हरीश रावत ने इसपर कुछ प्रतिक्रिया नहीं दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *