Wednesday, July 17, 2024
राष्ट्रीय

कभी बाइक तो कभी मोटरगाड़ी…हुलिया बदलकर भागा अमृतपाल सिंह, बाइक मुहैया कराने वाले आरोपी गिरफ्तार

वारिस पंजाब दे समर्थक और खालिस्तान समर्थक अलगाववादी अमृतपाल सिंह अभी भी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। अमृतपाल की गिरफ्तारी के लिए पंजाब पुलिस लगातार पांच दिनों से सर्च ऑपरेशन चला रही है। अमृतपाल सिंह को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, असम और हिमाचल प्रदेश में तलाशी कर रही है। इस बीच पुलिस ने उस कार और बाइक को बरामद कर लिया है, जिससे अमृतपाल कथित तौर से फरार हुआ था, हालांकि लगातार पांच दिनों के सर्च ऑपरेशन के बाद भी पुलिस यह पता नहीं कर पाई है कि अमृतपाल सिंह कहां छुपा हुआ है। हालांकि पंजाब पुलिस अमृतपाल सिंह की जल्द गिरफ्तारी का दावा कर रही है। इस मामले में अभी तक क्या हुआ, आइये जानते हैं-

अमृतपाल के फरार होने पर पुलिस का दावा, बाइक से फरार हुआ अमृतपाल सिंह

पंजाब पुलिस ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में दावा किया कि पीछा करने के दौरान अमृतपाल सिंह जालंधर जिले के नंगल अंबियन गांव के एक गुरुद्वारे में भाग गया। न्यूज एजेंसी एएनआई के एक ट्वीट के मुताबिक, एसएसपी जालंधर, ग्रामीण स्वर्णदीप सिंह ने बताया कि जब पुलिस ने उसका पीछा किया तो वह एक गुरुद्वारे में भाग गया और उसे कपड़े देने के लिए ग्रंथी पर दबाव बनाया। उसने वहां 40-45 मिनट बिताए और फिर भाग निकला।

अमृतपाल सिंह की अपने सहयोगी के साथ एक गाड़ी पर अपनी बाइक ले जाते हुए तस्वीर भी सामने आई है।

अमृतपाल के बाइक मुहैया कराने वाले आरोपी गिरफ्तार

अमृतपाल को बाइक मुहैया कराने के आरोप में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के नाम हरप्रीत हैप्पी, गुरदीप दीपा और गुरभेज भेजा हैं। वहीं, शाहकोट के मनप्रीत मन्ना नाम के शख्स को अमृतपाल की ब्रेजा गाड़ी छिपाने के आरोप में पकड़ा गया है।

बता दें कि पुलिस ब्रेजा कार जब्त कर चुकी है। अमृतपाल उसे सड़क किनारे छोड़कर भाग गया था। पुलिस के मुताबिक, फरार होने के क्रम में अमृतपाल ने अबतक मर्सिडीज कार, ब्रेजा कार, बाइक और मोटरगाड़ी का इस्तेमाल किया है। पुलिस पांच दिन से उसे लगातार तलाश रही है। 18 मार्च को अमृतपाल के खिलाफ सर्च ऑपरेशन शुरू किया गया था। अबतक पुलिस ने अमृतपाल से जुड़े डेढ़ सौ से ज्यादा लोगों को गिरफ्तार किया है।

अमृतपाल सिंह के करीबियों पर पुलिस ने कसा शिकंजा

पंजाब पुलिस के आईजी (हेडक्वार्टर) सुखचैन सिंह गिल ने कहा, “अमृतपाल सिंह के खिलाफ NSA लागू किया गया है और अब तक 154 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इससे पहले मंगलवार को गिल ने कहा कि था कि अमृतपाल के चार साथियों को गिरफ्तार किया गया है। इनके पास से एक 315 बोर राइफल, कुछ तलवारें और वॉकी-टॉकी बरामद किया गया है।

वहीं, पुलिस ने अमृतपाल के परिवार के सदस्यों से भी पूछताछ की है जबकि उसके चाचा और ड्राइवर ने दो दिन पहले ही पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया।

पंजाब पुलिस ने जारी की अमृतपाल की तस्वीर

पंजाब पुलिस 21 मार्च को अमृतपाल सिंह के संभावित लुक्स जारी किया। पुलिस ने फोटो जारी करते हुए लोगों से मदद मांगी है कि अगर कोई पहचाने तो जानकारी दे। पुलिस ने अमृतपाल सिंह की 7 तस्वीरों का एक सेट जारी किया है, जो खुद को सिख आतंकवादी जरनैल सिंह भिंडरावाले की स्टाइल करता है। तस्वीर में वो भेष, पगड़ी और क्लीन शेव में भी नजर आ रहा है.

कौन है अमृतपाल सिंह और क्या आरोप हैं अमृतपाल सिंह पर

अमृतपाल सिंह खालिस्तान समर्थक और वारिस पंजाब दे का प्रमुख है। अमृतपाल सिंह पर आरोप है कि वह भारत के खिलाफ खतरनाक साजिश रच रहा था। खुफिया एजेंसियों के डोजियर में सामने आया है कि अमृतपाल नशामुक्ति केंद्रों और गुरुद्वारों का इस्तेमाल  हथियार जमा करने और युवाओं को आत्मघाती हमले के लिए तैयार करने में कर रहा था।

अलग-अलग एजेंसियों से मिले इनपुट के आधार पर तैयार इस डोजियर में दावा किया गया है कि अमृतपाल आईएसआई और विदेशों में बैठे खालिस्तानी समर्थकों के इशारे पर काम कर रहा था। वो युवाओं को ‘खड़कूस’ यानी मानव बम बनाने के लिए उकसा रहा था।

इतना ही नहीं, अमृतपाल ‘आनंदपुर खालसा फ्रंट’ यानी एकेएफ के नाम से प्राइवेट आर्मी भी बना रखी थी. अब तक की जांच में अधिकारियों को हथियार, गोला-बारूद, यूनिफॉर्म और जैकेट मिली हैं। इन पर AKF लिखा हुआ है।

अमृतपाल सिंह के खिलाफ अबतक 4 केस दर्ज हो चुके हैं, जिसमें अजनाला में वरिंदर सिंह को अगवा कर मारपीट करने का आरोप, अमृतसर में 15 फरवरी को प्रधानमंत्री, गृहमंत्री और सीएम के खिलाफ हेट स्पीच, मोगा में 19 फरवरी को प्रधानमंत्री और गृहमंत्री के खिलाफ हेट स्पीच का आरोप, अजनाला में हिंसा और थाने पर कब्जे के लिए पुलिसवालों को जख्मी करने का केस शामिल हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *