Saturday, September 30, 2023
Home राष्ट्रीय 2021 श्राद्ध: सोमवार से शुरू हो रहे है श्राद्ध पक्ष, जानिए श्राद्ध...

2021 श्राद्ध: सोमवार से शुरू हो रहे है श्राद्ध पक्ष, जानिए श्राद्ध की एहमियत

पौराणिक ग्रंथो में वर्णित किया गया है कि देव पूजा से पहले पित्रों को प्रसन्न करना चाहिए….मान्यता यह भी है कि पित्रो के प्रसन्न होने से देवता भी प्रशन्न होते है और हमेशा अपने परिवार पर कृपा बरसाते है….यही कारण है कि भारतीय संस्कृति में जीवित रहते हुए घर के बड़े बुजुर्गों का सम्मान और मृत्यु के बाद श्राद्ध कर्म किये जाते हैं ….इसके पीछे यह मान्यता भी है कि यदि विधि अनुसार पित्रों का तर्पण न किया जाये तो उन्हें मुक्ति नहीं मिलती और उनकी आत्मा मृत्युलोक में भटकती रहती है…..

2021 में श्राद्ध का प्रारंभ 20 सितंबर से हो रहा है और समापन 6 अक्टूबर को होगा……ह माना जाता है कि इन 16 दिनों की अवधि के दौरान सभी पूर्वज अपने परिजनों को आशीर्वाद देने के लिए पृथ्वी पर आते हैं। उन्हें प्रसन्न करने के लिए तर्पण, श्राद्ध और पिंड दान किया जाता है…..श्राद्ध पक्ष में पूर्वजो कि आत्माशांति के लिए 16 दिनों तक नियम पूर्वक कार्य करने का विधान है….उनकी आत्म तृप्ति के लिए तर्पण, पिंडदान, श्राद्ध कर्म आदि किए जाते हैं…पितरों की आत्म तृप्ति से व्यक्ति पर पितृ दोष नहीं लगता है……. भागीरथी और अलकनंदा नदी के संगम स्थल देवप्रयाग को संगम नगरी कहा जाता है। श्राद्ध पक्ष में देवप्रयाग में पितृकार्य और पिंडदान का विशेष महत्व है। यहां पड़ोसी देश नेपाल समेत देश के विभिन्न प्रदेशों से लोग अपने पितरों का तर्पण करने पहुंचते हैं।

पौराणिक ग्रंथो के अनुसार श्राद्ध पक्ष का हिन्दू धर्म में बड़ा महत्व माना जाता है…… प्राचीन सनातन धर्म के अनुसार हमारे पूर्वज देवतुल्य हैं और इस धरती पर हमने जीवन प्राप्त किया है और जिस प्रकार उन्होंने हमारा लालन-पालन कर हमें प्रशन्नता दी हो, तभी से हम उनके ऋणी हैं……समर्पण और कृतज्ञता की इसी भावना से श्राद्ध पक्ष कहते है, जो लोगो को पितृ ऋण से मुक्ति मार्ग दिखाता है…..

‘श्राद्ध’ शब्द ‘श्रद्धा’ से बना है, जो श्राद्ध का प्रथम अनिवार्य तत्व है अर्थात पितरों के प्रति श्रद्धा तो होनी ही चाहिए….. स्कंद पुराण के केदारखंड में उल्लेख है कि त्रेता युग में ब्रह्म हत्या के दोष से मुक्ति के लिए श्रीराम ने देवप्रयाग में तप किया और विश्वेश्वर शिवलिंगम की स्थापना की। इस कारण यहां रघुनाथ मंदिर की स्थापना हुई। यहां श्रीराम के रूप में भगवान विष्णु की पूजा होती है। 

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

उत्तराखंड में बनेगी लिथियम बैटरी, होगा 2 हजार करोड़ का निवेश

उत्तराखंड में आने वाले समय में लिथियम बैटरी का उत्पादन होगा। इसके लिए ब्रिटेन की आगर टेक्नोलॉजी कंपनी राज्य में 2000 करोड़ का निवेश...

लच्छीवाला में दर्जनों बंदरों की संदिग्ध मौत, इलाके में फैली सनसनी

हरिद्वार रोड पर मणीमाई मंदिर के समीप जंगल में 15 बंदरों की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई है। जबकि, एक बंदर सड़क किनारे...

यूकेएसएसएससी को वापस मिलेगा समूह ग की 23 भर्तियों का जिम्मा, शासन स्तर से जल्द हो सकते हैं आदेश

पेपर लीक प्रकरण के दौरान हाथ से छीनी गई समूह-ग की 23 भर्तियों को अब अधीनस्थ सेवा चयन आयोग यानी यूकेएसएसएससी को ही सौंपा...

यूबीटी केयर ने ओल्ड राजपुर रोड में चलाया सफाई अभियान, लोगों के स्वच्छता के प्रति किया जागरूक

यूबीटी केयर फाउंडेशन ने बीते दिनों ओल्ड राजपुर रोड क्षेत्र में स्वच्छता अभियान चलाया। संस्था प्रत्येक रविवार को शहर के विभिन्न क्षेत्रों में अभियान...

बलराज पासी ने किसान भवन में संभाला कार्यभार, बीज एवं जैविक उत्पादन प्रमाणीकरण संस्था के फिर अध्यक्ष बनाये गये पासी

उत्तराखंड राज्य बीज एवं जैविक उत्पादन प्रमाणीकरण संस्था के नवनियुक्त अध्यक्ष बलराज पासी ने गुरूवार देर शाम कार्यभार ग्रहण कर लिया है। भाजपा में...

नहीं रहे भारत में हरित क्रांति के जनक, देश के महान कृषि वैज्ञानिक एम एस स्वामीनाथन का निधन

भारत के महान कृषि वैज्ञानिक एम एस स्वामीनाथन नहीं रहे। 98 वर्षीय वैज्ञानिक स्वामीनाथन का आज निधन हो गया है। लंबी उम्र के चलते...

उत्तराखंड में हुई विदेशी निवेश की धन वर्षा, दो दिन में हुये 9 हजार करोड़ के एमओयू

वैश्विक निवेशक सम्मेलन के लिए औद्योगिक घरानों को आमंत्रित करने ब्रिटेन गए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का दौरा काफी सफल साबित हो रहा है।...

जानवरों की चर्बी से बनाया जा रहा है नकली घी, कहीं आपकी थाली तक तो नहीं पहुंच गया

उत्तराखंड के ऊधम सिंह नगर में थाना पुलभट्टा पुलिस को जानवरों की चर्बी पकड़ने में बड़ी सफलता हाथ लगी है। पुलिस ने सिरोली कलां...

राष्ट्रगान से गूंजा पिरान कलियर, उर्स के मौके पर दिखा हिन्दू-मुस्लिम एकता का बेजोड़ संगम

यूं तो पिरान कलियर में हर साल प्रसिद्ध सूफी संत हजरत मखदूम साबिर पाक का उर्स मेला मनाया जाता है लेकिन इस बार पीरान...

धामी सरकार ने खोला पिटारा, लंबे इंतजार के बाद दायित्वों की मिली सौगात

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने विदेश दौरे से लौटने से पहले ही दायित्वों की पहली सौगात दे दी। बुधवार देर रात शासन ने भाजपा...