Wednesday, February 1, 2023
Home उत्तराखंड विचित्र वीणा वादक अजीत सिंह नहीं रहे, देहरादून में ली अंतिम सांस

विचित्र वीणा वादक अजीत सिंह नहीं रहे, देहरादून में ली अंतिम सांस

देहरादून- देश के गिने चुने विचित्र वीणा वादकों में से एक अजीत सिंह नहीं रहे। बीते दिन देहरादून स्थित अपने आवास में अजीत सिंह ने अंतिम सांस ली। 88 वर्षीय अजीत सिंह पिछले ढेड़ साल से बीमार चल रहे थे। वह विचित्र वीणा वादन के क्षेत्र में ख्याती प्राप्त थे। वह देश के गिने चुने विचित्र वीणा वादकों में से एक थे। जिन्होंने देश-विदेश में कई कार्यक्रम प्रस्तुत किये थे।

विचित्र वीणा बजाने में माहिर रहे अजीत सिंह पिछले चार दशकों से संगीत उपासना कर रहे थे। उन्होंने देश-विदेश में विचित्र वीणा वादन के कई कार्यक्रम भी किये। उन्हें 80 के दशक में बीबीसी की ओर से लंदन और बर्मिंघम भी बुलाया गया था। जहां उन्होंने विचित्र वीणा वादन के कार्यक्रम किये थे। उन्होनें बिग बिजनेस के लेखक रस्किन बॉन्ड की कहानी पर बनी ऑस्ट्रेलियन फिल्म के लिए भी विचित्र वीणा बजाई थी। अजीत ऑल इंडिया रेडियो के साथ पहले दर्जे के कलाकार भी रहे हैं। मशहूर बैंड बीटल्स के सदस्य जॉर्ज हैरिसन के लिए उन्होंने सुर बहार नामक सितार भी बनाया था। अजीत सिंह के निधन पर समाज के विभिन्न वर्गों ने दुख प्रकट करते हुये उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की है। अजीत सिंह के परिवार के करीबी गुल्जारी लाल बख्शी ने उनके निधन पर शोक प्रकट किया है।


बीबीसी को दिये एक इंटरव्यू में अजीत सिंह ने कहा था कि इस वाद्य यंत्र को संभालना जरा मुश्किल काम है। क्योंकि इसकी ट्यूनिंग बाकी वाद्य यंत्रों से काफी अलग होती है। अजीत सिंह मानते थे कि अगर उन्होंने विचित्र वीणा को लोकप्रिय करने के लिए अपना शहर छोड़ा होता तो शायद उनकी और इस यंत्र की जगह म्यूजिक इंडस्ट्री में बहुत ऊपर होती। जीवित रहते हुये अजीत सिंह को अफसोस रहा कि नई पीढी विचित्र वीणा नहीं सीखना चाहती। क्योंकि लोगों को ऐसा यंत्र सीखना पसंद है जिसमें तीव्रता हो, जल्दी सीखा जा सके। उनकी राय थी कि विचित्र वीणा में काफी मेहनत, समय, निष्ठा और धैर्य चाहिए जो लोगों में मुश्किल से ही मिलता है। एक जानकारी के मुताबिक आज भारत में विचित्र वीणा बजाने वाले महज 3 या 4 कलाकार ही मौजदू हैं। उनमें से एक अजीत सिंह अब इस दुनिया को अलविदा कह चुके हैं।

आपको बता दें कि विचित्र वीणा कुछ कुछ सितार की तरह होती है। यह बेहद भारी भी होती है जिसकी वजह से इसे इधर-उधर लाने ले जाने में कलाकारों को खासी दिक्कत महसूस होती है। यही कारण है कि इस वीणा का अब निर्माण भी न के बाराबर होता है। यह वाद्य यंत्र बजाने के लिहाज से भी बेहद विचित्र है जिसकी वहज से इसे विचित्र वीणा कहा जाता है। हाथीदांत से बनी इसकी पट्टी पर कसी तारों को उंगलियों की सहायता से नहीं, बल्कि एक लकड़ी के गोलाकार यंत्र की सहायता से बजाया जाता है। जोकि बेहद मुश्किल भरा काम है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

अमीरों की सूची में 11वें नंबर पर पहुँचे अडानी, ग्रुप के शेयरों में गिरावट जारी

हिंडनबर्ग रिपोर्ट रिपोर्ट ने पिछले बुधवार अडानी ग्रुप पर स्टाक हेरफेर और धोकाधडी का आरोप लगाया था। रिपोर्ट के रिलीज होते ही अडानी दुनिया...

बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष के खिलाफ हुये वाम दल, पुतला फूंक जताया विरोध

जोशीमठ मामले में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष महेंद्र भट्ट के बयान से नाराज छात्र संगठन आइसा ने प्रदर्शन करते हुए उनका पुतला फूंका। आइसा ने...

रोडवेज की हड़ताल टली, शासन से आश्वासन मिलने के बाद संयुक्त मोर्चे ने किया एलान

रोडवेज कर्मचारियों को परिवहन निगम अपने खर्च पर दस लाख तक का बीमा देगा। ऐसे ही 13 आश्वासनों के बाद सोमवार को परिवहन निगम...

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की एडवाइजरी, चैनलों को राष्ट्रीय महत्व और जनसेवा पर आधारित कार्यक्रम बनाने की सलाह

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने टीवी चैनलों के लिए एक एडवाइजरी जारी की है। मंत्रालय के मुताबिक उसने कई ब्राडकास्टर्स औऱ चैनलों के एसोसियेशन...

कब बनेगा भोपालपानी पुल! 45 दिन पहले गिरा था पुल

देहरादून-जौलीग्रांट रोड पर क्षतिग्रस्त हुये भोपालपानी पुल को 1 माह बीतने के बाद भी ठीक नहीं किया गया है। तकरीबन 45 दिन पहले इस...

यमुनोत्री के राना गांव में भीषण अग्निकांड, देखते ही देखते जलकर राख हो गये गई घर

यमुनोत्री धाम से लगे राना गांव में बीती रात अचानक आवासीय मकानों में आग लग गई। रात करीब डेढ़ बजे गांव के बीचोंबीच अचानक...

राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा समाप्त, 145 दिन बाद आज कश्मीर में हुआ समापन

राहुल गांधी की भारत जोडो यात्रा आज 145 दिन बाद समाप्त हो गई है। राहुल के भाषण के साथ आज कश्मीर में यात्रा का...

एनएसए अजित डोभाल पर राहुल गांधी का निशाना, समापन भाषण में दो बार लिया नाम

भारत जोड़ो यात्रा आज कश्मीर में समाप्त हो गई। यात्रा के समापन पर बीजेपी, आरएसएस, पीएम और गृह मंत्री एक बार फिर राहुल गांधी...

फिर सड़कों पर उतरे चयनित अभ्यर्थी, आयोग के गेट पर दिया धरना

कनिष्ठ सहायक भर्ती में नियुक्ति को लेकर हो रही देरी से चयनित अभ्यर्थी खासे नाराज हैं। दस्तावेज सत्यापन नहीं होने से चयनित अभ्यर्थियों का...

उत्तराखंड में कल से थम जाएंगे रोडवेज के पहिए, रोडवेज कर्मचारियों की हड़ताल कल आधी रात से

उत्तराखंड रोडवेज की बसों से सफर करने वाले हजारों यात्रियों को कल से भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। 27 जनवरी को...