Home उत्तराखंड अल्मोड़ा देवभूमि की धरोहर - पिथौरागढ़ में मौजूद है आलिशान "लन्दन फोर्ट" 

देवभूमि की धरोहर – पिथौरागढ़ में मौजूद है आलिशान “लन्दन फोर्ट” 

जय भारत टीवी आज आपको पहाड़ की एक ऐसी विरासत के बारे में बता रहा हैं जो पिथौरागढ़ की महत्वपूर्ण पहचान है …… यूँ तो उत्तराखंड में कदम कदम पर आपको अनेकों ऐतिहासिक ,सांस्कतिक और धार्मिक विरासत देखने को मिल जाएगी  लेकिन लंदन फोर्ट का दिलचस्प इतिहास अपने आप में अनोखा है …. 18वीं सदी में इस किले  को गोरखा राजाओं ने बनवाया था ….. लगभग 135 सालों तक इसमें तहसील का कामकाज किया जाता रहा …. आज पहाड़ के इतिहास और  कई रहस्यों को समेटे होने के बावजूद यह आलीशान धरोहर बड़े टूरिस्ट प्लेस में जगह नहीं बना पायी है।

  • गोरखा शासकों ने करवाया निर्माणबाउलीकीगढ़ नामक इस किले का निर्माण 1791में गोरखा शासकों ने किया था। नगर के ऊचे स्थान पर 6.5 नाली क्षेत्रफल वाली भूमि में निर्मित इस किले के चारों ओर अभेद्य दीवार का निर्माण किया गया था। इस दीवार में लंबी बंदूक चलाने के लिए 152 छिद्र बनाए गए हैं ।यह छिद्र इस तरह से बनाए गए हैं कि बाहर से किले के भीतर किसी भी तरह का नुकसान नहीं पहुंचाया जा सकता। किले के मचानों में सैनिकों के बैठकर व लेटकर हथियार चलाने के लिए विशेष रूप से स्थान बने हैं। किले की लंबाई 88.5 मीटर और चौड़ाई 40 मीटर है। 8.9 फीट ऊंचाई वाली इस दीवार की चौड़ाई 5 फीट 4 इंच है। पत्थरों से निर्मित इस किले में गारे का प्रयोग किया गया है। किले में प्रवेश के लिए दो दरवाजे हैं।बताया जाता है कि इस किले में एक गोपनीय दरवाजा भी था, लेकिन अब यह कहीं नजर नहीं आता। किले के अंदर लगभग 15 कमरे हैं। किले का मुख्य भवन दो मंजिला है। भवन के मुख्य भाग में बने एक कमरे की बनावट नेपाल में बनने वाले भवनों से मेल खाती है।
  • इस किले में गोरखा सैनिक और सामंत ठहरते थे। इस किले में एक तहखाना भी बनाया गया था। इसमें कीमती सामना और असलहे रखे जाते थे। किले में बंदी गृह और न्याय भवन भी निर्मित था। किले के अंदर कुछ गुप्त दरवाजे और रास्ते भी थे। इनका प्रयोग आपातकाल में किया जाता था। किले के भीतर ही सभी सुविधाएं मौजूद थीं। किले के भीतर एक कुंआ भी खोदा गया था। एक व्यक्ति के इसमें डूबकर मरने के बाद इसको बंद कर दिया गया और उस पर पीपल का एक पेड़ लगा दिया गया ।

  • 1815 में अंग्रेजों ने किले का नाम रख दिया लंदन फोर्ट

संगोली की संधि के बाद 1815 में कुमाऊं में औपनिवेशिक शासन स्थापित हो गया और अंग्रेजों ने इस किले का नाम बाउलीकीगढ़ से बदलकर लंदन फोर्ट कर दिया। 1881 ईस्वी में इस किले में तहसील का कामकाज शुरू हुआ। वर्ष 1910-20 के बीच में अंग्रेजों ने किले की मरम्मत कराई। इसके बाद इस किले को उपेक्षित छोड़ दिया गया। आजादी के बाद तहसील प्रशासन ने अपने स्तर से परिसर में नए भवनों का निर्माण किया। इस निर्माण में किले के वास्तविक स्वरूप को नुकसान पहुंचा।

  • शिलापट में हैं प्रथम विश्व युद्ध का उल्लेख
    पिथौरागढ़ में स्थित किले के भीतर एक शिलापट्ट लगा है। इसमें प्रथम विश्व यु्द्ध में प्राण न्योछावर करने वाले सैनिकों का उल्लेख किया गया है। शिलापट में लिखा गया है कि परगना सोर एंड जोहार से विश्व युद्ध में 1005 सैनिक शामिल हुए थे, जिनमें से 32 सैनिकों ने अपने प्राण न्योछावर कर दिये। पर्यटन के लिए अगर आप पिथौरागढ़ की तरफ रुख कर रहे हैं तो एक बार लन्दन फोर्ट का दौरा ज़रूर कीजियेगा 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

हल्द्वानी में आयोजित हुआ ईजा-बैंणी महोत्सव, रोड शो में शामिल हुये सीएम धामी

उत्तराखंड के हल्द्वानी में आयोजित ईजा-बैंणी महोत्सव के कार्यक्रम स्थल एमबी इंटर कॉलेज के मैदान में सीएम धामी पहुंच चुके है। सीएम धामी के...

तीन दिन उत्तराखंड में मौसम रहेगा शुष्क, मैदानी इलाकों में छाएगा कोहरा

उत्तराखंड के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में पिछले तीन दिन हुई बारिश और बर्फबारी से ठंड काफी बढ़ गई है। हालांकि अगले तीन दिनों तक...

सीएम आवास में मनाई गई इगास बग्वाल, श्रमिकों के परिजनों संग थिरके सीएम पुष्कर सिंह धामी

सीएम आवास में मनाई गई इगास बग्वाल, श्रमिकों के परिजनों संग थिरके सीएम पुष्कर सिंह धामी मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने सिलक्यारा टनल रेस्क्यू पूरा...

चीन में फैली बच्चों की बीमारी, उत्तराखंड में जारी हुआ अलर्ट

चीन में छोटे बच्चों में फैल रहे निमोनिया और इन्फ्लूएंजा फ्लू को लेकर उत्तराखंड में भी स्वास्थ्य महकमे ने अलर्ट जारी किया है। स्वास्थ्य...

सिलक्यारा टनल पर कांग्रेस के सवाल, कहा दोषी कंपनी के खिलाफ कार्यवाई कब?

सिलक्यारा टनल से बचकर बाहर आये मजदूरों को दी गई आर्थिक मदद को कांग्रेस ने नाकाफी करार दिया है। कांग्रेस की मांग है कि...

उत्तराखंड को नये डीजीपी की तलाश शुरू, 30 नवंबर को सेवानिवृत हो रहे हैं वर्तमान डीजीपी आशोक कुमार

उत्तराखंड के पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार 30 नवंबर को सेवानिवृत हो रहे हैं। उससे पहले उत्तराखंड में डीजीपी के नाम का चुनाव करना है,...

जब फेल हुआ विज्ञान तो देवदूत बनकर पहुंचे रैट माइनर्स, सिलक्यारा रेस्क्यू के हीरो

सिलक्यारा टनल में 17 दिनों तक फंसे सभी 41 मजदूर सकुशल बाहर निकल आये हैं, सभी स्वस्थ्य हैं और जल्द ही इन्हें अस्पताल में...

उत्तराखंड में बदला मौसम का मिजाज, चारो धामों में जमकर हो रही बर्फबारी

उत्तराखंड में बीते बुधवार से मौसम का मिजाज बदल गया है। इस दौरान राज्य के पर्वतीय इलाकों में कहीं कहीं बारिश तो कहीं ओला...

सिलक्यारा टनल में ऑपरेशन जिंदगी सफल, 16 दिन बार सकुशल बाहर निकल रहे हैं 41 मजूदर

16 दिनों से सिलक्यारा टनल में फंसे 41 मजदूर जीत गये, जी हां उनके जज्बे की जीत हुई, उनका धैर्य जीत गया। जिंदगी और...

रोबोटिक से 100 सर्जरी पूरी कर मैक्स हॉस्पिटल ने बनाया रिकार्ड

रोबोटिक सर्जरी के मामले में मैक्स हॉस्पिटल ने नया कीर्तिमान स्थापित किया है। मैक्स हॉस्पिटल ने ग्यारह महीनों की अवधि में 100 रोबोटिक सर्जरी...