Sunday, March 3, 2024
राष्ट्रीयस्पेशल

नवरात्रि 2021 सप्तमी : माँ कालरात्रि की ऐसे करें पूजा, जानिए आजका मंत्र….

नवरात्रि के नौ स्वरुप में से सातवीं शक्ति कालरात्रि के नाम से जानी जाती हैं इस साल 12 अक्टूबर 2021 मंगलवार को नवरात्रि की सप्तमी है इस दिन माता कालरात्रि की पूजा-अर्चना की जाती है अर्थात जिनके शरीर का रंग घने अंधकार की तरह एकदम काला है। दुर्गा पूजा के सातवें दिन माँ कालरात्रि की उपासना का विधान है। देवी कालात्रि को व्यापक रूप से माता देवी – काली, महाकाली, भद्रकाली, भैरवी, मृित्यू, रुद्रानी, चामुंडा, चंडी और दुर्गा के कई विनाशकारी रूपों में से एक माना जाता है। रौद्री और धुमोरना देवी कालात्री के अन्य कम प्रसिद्ध नामों में हैं। मां कालरात्रि दुष्टों का विनाश करने वाली हैं। मान्यता है कि मां कालरात्रि की पूजा करने वाले भक्तों पर माता रानी की विशेष कृपा बनी रहती है।

 इस देवी के तीन नेत्र हैं, और ये तीनों ही नेत्र ब्रह्मांड के समान गोल हैं। इनकी सांसों से अग्नि निकलती रहती है। ये गर्दभ की सवारी करती हैं। ऊपर उठे हुए दाहिने हाथ की वर मुद्रा भक्तों को वर देती है। दाहिनी ही तरफ का नीचे वाला हाथ अभय मुद्रा में है। यानी भक्तों हमेशा निडर, निर्भय रहो। मां कालरात्रि के स्वरूप की बात करे तो माता रानी के चार हाथ हैं। उनके एक हाथ में खड्ग (तलवार), दूसरे लौह शस्त्र, तीसरे हाथ में वरमुद्रा और चौथा हाथ अभय मुद्रा में हैं।

कालरात्रि अवतार कथा
हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, मां पार्वती ने राक्षसों, शुम्भ-निशुंभ और रक्तबीज को मारने के लिए देवी कालरात्रि का अवतार लिया था। भयंकर अवतार लेकर उन्होंने तीनों को मार डाला. हालांकि, जब रक्तबीज को मार दिया गया था, तो उसके रक्त ने और अधिक रक्तबीज पैदा कर दिया और उसे रोकने के लिए, मां कालरात्रि ने उसका सारा खून पी लिया, ताकि रक्तबीज को मार दिया जा सके।

पूजा भोग
माता कालरात्रि को गुड़ या उससे बनी चीजें अति प्रिय होती है। इसलिए सादा गुड़ या फिर गुड़ से बना हलवा से मां को भोग लगा सकते हैं। मां को गुड़ से बनी मिठाई का भी भोग चढ़ाया जा सकता है। मां कालरात्रि को रातरानी का पुष्प अर्पित करना शुभ माना जाता है। मां को लाल रंग प्रिय है।

 

 


पूजा मंत्र
या देवी सर्वभूतेषु मां कालरात्रि रूपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:

अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और कालरात्रि के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे पाप से मुक्ति प्रदान कर।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *