Saturday, May 18, 2024
राष्ट्रीय

पत्नी निर्मल के निधन के बाद हार चुके थे मिल्खा सिंह, निर्मल के साथ था अटूट रिश्ता

-आकांक्षा थापा

देश के दमदार धावक और दुनिया भर में भारत का नाम गर्व से ऊँचा करने वाले मिल्खा सिंह का शुक्रवार देर रात निधन हो गया। मिल्खा सिंह कोरोना से जूझ रहे थे, और लम्बे समय से उनका इलाज चल रहा था..शुक्रवार देर रात उनकी तबियत बिगड़ने लगी, जिसके बाद उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया। वही, उनकी पत्नी निर्मल मिल्खा सिंह उर्फ़ ‘निम्मी’ का देहांत भी कुछ दिनों पहले 13 जून को हुआ था.. मिल्खा और निर्मल का अटूट और गहरा रिश्ता था.. पत्नी की मौत के बाद मिल्खा टूट गए थे, जिससे उनकी तबियत पर भी असर होने लगा…
आपको बता दें ‘फ्लाईंग सिख‘ के नाम से दुनिया भर में मशहूर मिल्खा सिंह की उम्र 91 वर्ष थी, इसके बावजूद भी वे हमेशा फिट रहे हैं. ..

मिल्खा सिंह और निर्मल कौर की शादी सन 1962 में पंजाब में हुई थी। उन दिनों निर्मल कौर वॉलीबॉल प्लेयर थीं। मिल्खा ने उनसे प्रेम विवाह किया था… हालांकि दोनों के इस फैसले से दोनों के ही परिवार खुश नहीं थे, लेकिन दोनों की जिद के आगे उन्हें झुकना पड़ा। निर्मल कौर का जन्म पाकिस्तान के शेखपुरा में 8 अक्टूबर 1938 को हुआ था। उनका भी परिवार बंटवारे के बाद पाकिस्तान से भारत आ गया था।

कोलंबों में मिल्खा सिंह की निर्मल कौर से हुई थी पहली मुलाकात
दोनों की पहली मुलाकात कोलंबों में एक पार्टी के दौरान हुई थी। एक प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए वे दोनों श्रीलंका गए थे। मिल्खा सिंह एथलेटिक्स टीम का हिस्सा थे, जबकि निर्मल पंजाब वॉलीबॉल टीम की कप्तान थीं। वहां एक भारतीय बिजनेस मैन ने भारतीय खिलाड़ियों के सम्मान में एक पार्टी का आयोजन किया था। इसी पार्टी में मिल्खा सिंह पहली बार निर्मल कौर से मिले थे। उन्होंने पार्टी से निकलने के बाद अपने होटल का नंबर निर्मल कौर के हाथ पर लिख दिया था। जिसके बाद दोनों में बातचीत का सिल-सिला तभी से शुरू हुआ था।

इस मुलकात के बाद मिल्खा सिंह की प्रेम कहानी आगे बढ़ी
आपको बता दें की मिल्खा सिंह की निर्मल कौर से प्रेम कहानी 1960 में नेशनल स्टेडिमय में मुलाकात के बाद ही बढ़ सकी। हालांकि उससे पहले वह निर्मल से कोलंबो के बाद 1958 में मिले थे, लेकिन वह अपने प्रेम का इजहार नहीं कर पाए थे। साथ ही, मिल्खा सिंह ने एक इंटव्यू में कहा था कि उस जमाने में एक महिला से बात करना किसी शख्स के लिए भगवान से बात करने के समान था। उस ज़माने में लोग महिलाओं को दूर से देखकर-देखकर ही खुश हो जाते थे।
दोनों का रिश्ते को और मजबूती तब मिली जब चंडीगढ़ में खेल प्रशासन ने मिल्खा को स्पोर्ट्स का डिप्टी डायरेक्टर बना दिया और निर्मल विमेन स्पोर्ट्स की डायरेक्टर बनीं। उसके बाद से ही दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ती चली गईं। फिर दोनों ने शादी का फैसला किया। आपको बता दें मिल्खा और निर्मल की दो संतानें हैं.. बेटा जीव मिल्खा सिंह नामी गोल्फर हैं, जबकि बेटी डॉक्टर हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *