Wednesday, November 30, 2022
Home अंतरराष्ट्रीय भारत में पहली बार शुरू हुयी हींग की खेती - हिमाचल बना पहला राज्य 

भारत में पहली बार शुरू हुयी हींग की खेती – हिमाचल बना पहला राज्य 

इंस्टीच्यूट ऑफ़ हिमालयन बायोरिसोर्स टेक्नोलॉजी (IHBT-Institute of Himalayan Bioresource Technology), पालमपुर के प्रयासों के कारण हिमाचल प्रदेश के सुदूर लाहौल घाटी के किसानों के खेती के तरीकों में एक ऐतिहासिक बदलाव आया है. इस बदलाव की वजह से यहां के किसानों (Hing Cultivation in India) ने इस इलाके की ठंडी रेगिस्तानी परिस्थितियों में व्यापक पैमाने पर बंजर पड़ी जमीन का सदुपयोग करने के उद्देश्य से अब असाफोटिडा (हींग) () की खेती को अपनाया है. सीएसआईआर– आईएचबीटी इसके लिए हींग के बीज लाए और इसकी कृषि-तकनीक विकसित की…..

हींग के इंपोर्ट पर खर्च होते हैं 740 करोड़ रुपये- हींग प्रमुख मसालों में से एक है और यह भारत (Hing Cultivation in India) में उच्च मूल्य की एक मसाला फसल है. भारत अफगानिस्तान, ईरान और उज्बेकिस्तान से सालाना लगभग 1200 टन कच्ची हींग आयात करता है और इसके लिए प्रति वर्ष लगभग 100 मिलियन अमेरिकी डॉलर खर्च करता है…..

भारत में शुरू हुई हींग की खेती- भारत में फेरुला अस्सा-फोटिडा नाम के पौधों की रोपण सामग्री का अभाव इस फसल की खेती में एक बड़ी अड़चन थी. भारत में असाफोटिडा (हींग) की खेती की शुरुआत करने के उद्देश्य से, 15 अक्टूबर, 2020 को सीएसआईआर–आईएचबीटी के निदेशक डॉ. संजय कुमार द्वारा लाहौल घाटी के क्वारिंग नाम के गांव में एक किसान के खेत में असाफोटिडा (हींग) के पहले पौधे की रोपाई की गई.  चूंकि असाफोटिडा (हींग) भारतीय रसोई का एक प्रमुख मसाला है, सीएसआईआर–आईएचबीटी के दल ने देश में इस महत्वपूर्ण फसल की शुरुआत के लिए अथक प्रयास किए. संस्थान ने अक्टूबर, 2018 में आईसीएआर-नेशनल ब्यूरो ऑफ प्लांट जेनेटिक रिसोर्सेज (आईसीएआर-एनबीपीजीआर), नई दिल्ली के माध्यम से ईरान से लाये गये बीजों के छह गुच्छों का इस्तेमाल शुरू किया……

आईसीएआर-एनबीपीजीआर ने इस बात की पुष्टि की कि पिछले तीस साल में देश में असाफोटिडा (फेरुला अस्सा-फोटिडा) के बीजों के इस्तेमाल का यह पहला प्रयास था. आईसीएआर-आईएचबीटी ने एनबीपीजीआर की निगरानी में हिमाचल प्रदेश स्थित सीईएचएबी, रिबलिंग, लाहौल और स्पीति में हींग के पौधे उगाए……यह पौधा अपनी वृद्धि के लिए ठंडी और शुष्क परिस्थितियों को तरजीह देता है और इसकी जड़ों में ओलियो-गम नाम के राल के पैदा होने में लगभग पांच साल लगते हैं. यही वजह है कि भारतीय हिमालयी क्षेत्र के ठंडे रेगिस्तानी इलाके असाफोटिडा (हींग) की खेती के लिए उपयुक्त हैं…..

ईरान, अफगानिस्तान, कजाकिस्तान और उज्बेकिस्तान से रेज़ीन (दूध) आता है. एक पौधे से यह दूध निकलता है. पहले व्यापारी सीधे हाथरस में दूध लेकर आते थे. लेकिन अब दिल्ली का खारी बाबली इलाका बड़ी मंडी बन गया है. लेकिन प्रोसेस का काम आज भी हाथरस में ही होता है. 15 बड़ी और 45 छोटी यूनिट इस काम को कर रही हैं. मैदा के साथ पौधे से निकल ओलियो-गम राल (दूध) को प्रोसेस किया जाता है. कानपुर में भी अब कुछ यूनिट खुल गई हैं. देश में बनी हींग देश के अलावा खाड़ी देश कुवैत, कतर, सऊदी अरब, बहरीन आदि में एक्सपोर्ट होती है.  
 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

वनंतरा मामले में मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल पर गलत बयानी का आरोप, आंदोलनकारियों ने पुतला फूंक कर किया प्रदर्शन

विधानसभा सत्र के बाद वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने वनंतरा रिजार्ट मामले में यह कहा था कि वहां कोई भी वीआइपी...

उत्तराखंड में भर्तियां करने वाले लोक सेवा आयोग में ही खाली पड़े है 63 पद,  6 सालों में निकली सबसे कम भर्तियां

भर्तियां करने वाले राज्य लोक सेवा आयोग में ही आज  63 पद खाली पड़े हुए हैं ,और पिछले 6 सालों के आकड़ों में इस...

उत्तराखंड विधानसभा शीतकालीन सत्र का दूसरा दिन, सदन के अंदर कार्यवाही जारी, बाहर कई संगठनों का प्रदर्शन

उत्तराखंड विधानसभा सत्र का आज दूसरा दिन है। दूसरे दिन भी संदन के अंदर और भीतर हंगामा जारी है। अंदर सदन चल रहा है...

Uttarakhand Assembly Session : विधानसभा शुरू होने से पहले धरने पर बैठे विधायक तिलकराज बेहड़

आज से विधानसभा शीतकालीन सत्र की शुरुआत हो चुकी है और सत्र शुरू होने से पहले ही किच्छा में कानून व्यवस्था को लेकर विधायक...

आज विक्रम-ऑटो, बस और ट्रकों का चक्काजाम, यात्रियों को हो सकती है परेशानी

आज प्रदेशभर में ऑटो, विक्रम, बस और ट्रकों का चक्काजाम है। परिवहन विभाग ने देहरादून के डोईवाला और ऊधमसिंह नगर के रुद्रपुर में ऑटोमेटेड...

आज से देहरादून में शुरू हुआ विधानसभा शीतकालीन सत्र, सरकार को घेरने के लिए विपक्ष तैयार

विधानसभा का सात दिवसीय शीतकालीन सत्र आज मंगलवार से शुरू हो गया है। विधानसभा सचिवालय ने इसकी तैयारियां पूरी कर ली हैं। वहीं, सत्र...

महिलाओं पर झपट पड़ा गुलदार, द्वाराहाट का वीडियो वायरल,

अल्मोड़ा में गुलदार का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है। दो दिन पहले 10 साल के बच्चे को गुलदार ने अपना निवाला बनाया था...

पूर्व मंत्री और मीट करोबारी याकूब कुरैशी का बेटा भूरा गिरफ्तार, पिता और दूसरा बेटा अभी भी फरार

मेरठ में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सोमवार को पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी के बेटे फिरोज उर्फ भूरा को गिरफ्तार कर लिया। वो...

ऋतुराज गायकवाड़ का कमाल, एक ओवर में जड़े 7 छक्के

भारतीय क्रिकेटर रुतुराज गायकवाड़ ने वो कर दिखाया है, जिसे कोई क्रिकेटर अब तक नहीं कर सका था। महाराष्ट्र के युवा ओपनर ने विजय...

स्कूली छात्रों को उद्यमी बनाने की तैयारी में सरकार, नए आइडिया देने वाले को मिलेगा प्रोत्साहन

उत्तराखंड में स्टार्टअप को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने 2018 में स्टार्टअप नीति लागू की थी। इस नीति के तहत केवल तकनीकी शिक्षण...