Wednesday, May 22, 2024
उत्तराखंडराष्ट्रीय

उत्तर प्रदेश – आखिर 8 पुलिस कर्मियों की शहादत का असली गुनहगार कौन ? जांच में होगा खुलासा 

देश को हिला देने वाली खुनी वारदात से उत्तर प्रदेश पुलिस की चूलें हिल गयी है क्यूंकि बीती रात एक ऐसा इनकाउंटर कानपुर में होता है जिसमें योगी सरकार के आठ पुलिस कर्मी शहीद हो गए। इस मुठभेड़ में दुर्दांत अपराधी विकास दुबे घेरेबंदी को तोड़कर फरार भी हो गया  …. उत्तम प्रदेश को रामराज बनाने का दावा करने वाले योगीराज में कानपुर के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर ऐसा भयानक हमला बीते कई सालों में नहीं हुआ होगा। इस मुठभेड़ में एक सीओ समेत आठ पुलिसकर्मी शहीद हो गए। 

अब आपको उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था को चुनौती देने वाली इस घटना के बारे में बता देते हैं। दरअसल चौबेपुर के बिकरू गांव में हिस्ट्रीशीटर बदमाश विकास दुबे को गुरुवार की आधी रात पकड़ने पुलिस टीम उसके ठिकाने पहुंची थी जहाँ बड़ी संख्या में पहले से ही दुबे के गुर्गे मौजूद थे और अपने असलहे से उन्होंने पुलिस टीम पर ताबड़तोड़ हमला कर दिया। रात के अँधेरे में आसपास के घरों की छत से पुलिस पर गोलियां बरसाई गईं, इस मुठभेड़ में सीओ बिल्हौर देवेंद्र मिश्रा और तीन सब इंस्पेक्टर अपने चार सिपाहियों सहित मौके पर ही शहीद हो गए। मुठभेड़ का अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इस हमले में सात पुलिसकर्मी घायल हुए हैं, जिनका इलाज़ कानपुर नगर के रीजेंसी अस्पताल में कराया गया है। 

इस दिल दहला देने वाली घटना के बाद सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ बेहद आक्रामक रुख अपनाये है और उन्होंने कहा है की पुलिस कर्मियों की इस शहादत का बदला लिया जायेगा और उनकी कुर्बानी बेकार नहीं जाएगी।  अपनी श्रद्धांजलि देने के बाद सीएम योगी ने  डीजीपी हितेश चंद्र अवस्थी से तत्काल मौके की रिपोर्ट तलब की है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर हरकत में आ चुकीं पुलिस की एक दर्जन टीमें विकास दुबे को गिरफतार करने के लिए ताबड़तोड़ दबिश दे रही हैं।

सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि कानपुर में ‘कर्तव्य पथ’ पर अपना सर्वस्व न्योछावर करने वाले आठ पुलिसकॢमयों को मेरी भावभीनी श्रद्धांजलि। उन्होंने डीजीपी ने तत्काल ही इस घटना की रिपोर्ट मांगने के साथ अपराधियों के खिलाफ कम से कम समय में सख्त कार्यवाही का निर्देश दिया है। इसके बाद विकास दुबे को पकड़ने के लिए पुलिस की टीमों ने ताबड़तोड़ दबिश दी है। इस मिशन में एसटीएफ को भी लगाया गया है।

इस घटना पर उत्तर प्रदेश के पुलिस पुलिस महानिदेशक एचसी अवस्थी ने कहा कि हमलावर बदमाशों की तलाश में उत्तर प्रदेश एसटीएफ को लगाया गया है। आरोपी की गिरफ्तारी में एसटीएफ को भी लगाया गया है। इसके साथ लखनऊ से एक फॉरेंसिक की टीम भी कानपुर गई है। 

शातिर बदमाश विकास दुबे को गुरुवार रात पकड़ने गई पुलिस की दबिश के दौरान हथयारबन्द बदमाशों के पुलिस टीम पर हावी होने को एडीजी लॉ एंड ऑर्डर प्रशांत कुमार ने पुलिस की चूक माना है। लखनऊ से कानपुर देहात पहुंचे प्रशांत कुमार ने कहा कि इस मामले में पुलिस की तरफ से चूक हुई। प्रशांत कुमार सीएम योगी आदित्यनाथ को अपनी रिपोर्ट देंगे। लेकिन अब सबकी नज़र इस सनसनीखेज वारदात के असली कारणों के खुलासे पर है क्या इसमें पुलिस की भारी चूक ज़िम्मेदार है या पुलिस पर अपराधियों की तैयारी ज्यादा भारी पड़ गयी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *