Wednesday, July 24, 2024
उत्तराखंड

उत्तराखंड के बागेश्वर में घर के अंदर मिले मां और 3 बच्चों के सड़े-गले शव

उत्तराखंड के बागेश्वर जिला मुख्यालय के नजदीक जोशीगंव में एक मकान से एक विवाहित और उसके तीन बच्चों के सडे़-गले शव बरामद हुए हैं। इस घटना से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। इधर घर के दरवाजे अंदर से बंद होने के आधार पर पुलिस इस मामले को प्रथम दृष्टया खुदकुशी मान रही है।
बृहस्पतिवार शाम पुलिस को जिला मुख्यालय से साढ़े चार किती दूर जोशीगांव में एक मकान से बदबू आने और दरवाजे अंदर से बंद होने की सूचना मिली। एसपी हिमांशु कुमार वर्मा, एसडीएम हर गिरी, सीओ अंकित कंडारी, कोतवाल कैलाश सिंह नेगी दल-बल के साथ मौके पर पहुंच गए।
मकान के दोनों दरवाजे अंदर से बंद थे। पुलिस दरवाजे तोड़कर मकान के अंदर पहुंची। कमरे में एक महिला, एक लड़की और 2 लड़को के शव पड़े हुए थे। शवों से दुर्गंध आ रही थी। पुलिस की पड़ताल में पता चला कि मकान में कपकोट के भनाक गांव के मूल निवासी भूपाल राम का परिवार रहता था। घर के भीतर भूपाल राम की पत्नी नीमा देवी (40), पुत्री अंजलि (14), पुत्र कृष्णा (8), पुत्र भाष्कर (5-6 माह) के शव होने की पुष्टी हुई। पुलिस ने चारों शवों का पंचनामा कर पोस्टमार्टम के लिए जिला अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। सीओ अंकित कंडारी के अनुसार शवों पर कहीं किसी तरह के चोट के निशान नहीं हैं। शव कई दिन पुराने होने की आंशका जताई जा रही है। भूपाल राम कई महीने से लापता बताया जा रहा है।
2 साल पहले यह मकान भूस्खलन की चपेट में आ गया था। गोविंद सिंह के परिवार ने यह मकान छोड़ दिया था। करीब 2 साल से इस मकान में भूपाल राम परिवार सहित रहने लगा था। गांव के अन्य मकानों से करीब 100 मीटर की दूरी पर होने से इस मकान की ओर गांव के लोगों की आवाजाही कम थी।
स्थानीय लोगों के अनुसार भूपाल राम लकडी़ के बर्तनों के साथ ही ढोल, दमाऊ बनाने का काम करता था। वह काफी समय से घर से लापता था। पुलिस के अनुसार भूपाल राम के खिलाफ बागेश्वर कोतवाली में धोखाधड़ी का केस दर्ज था। गिरफ्तार के डर से फरार रहता था। यह भी मालूम हुआ है कि पुलिस से बचकर कभी-कभार घर में उसका आना-जाना होता था। पुलिस को उसकी लंबे समय से तलाश थी। पुलिस के अनुसार भूपाल राम धोखेबाज किस्म का व्यक्ति है। उसी की वजह से वह लोगों और पुलिस से छिपता फिरता था। वर्तमान में भी वह फरार है। मामला खुदकुशी का प्रतीत हो रहा है। पोस्टमार्टम होने के बाद मौत के कारण का पता चल सकेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *