Thursday, April 25, 2024
उत्तराखंडदेहरादून

कोरोना की दूसरी लहर में मौतों का आँकड़ा तिगुना… कोरोना की बेकाबू रफ़्तार के बीच क्या है देहरादून के श्मशाम का सच…..

-आकांक्षा थापा

उत्तराखंड में लगातर कोरोना के मामले एक नया रिकॉर्ड कायम कर रहे हैं, वहीँ मौतों का आंकड़ा भी थमने का नाम नहीं ले रहा है…. वहीँ देहरादून में कोरोना से जिन व्यक्तियों की मौत हो रही है, उनका अंतिम संस्कार कोविड-19 प्रोटोकॉल के तहत रायपुर स्थित श्मशान घाट में किया जा रहा है।
राज्य सरकार के हेल्थ बुलेटिन में रोजाना दर्ज हो रहे मौत के आंकड़ों के अनुरूप इस श्मशान घाट में अंतिम संस्कार का दबाव भी देखने को मिल रहा है। बाकि दिनों के मुकाबले बीते एक माह में यह आंकड़ा तीन गुना से अधिक हो गया है।
बात करें दून के प्रमुख पांच श्मशान घाटों की तो वहां सामान्य दिनों में हर माह 500 से कम अंतिम संस्कार किए जाते हैं। लेकिन फिलहाल की स्थिति में बीते एक माह में इन श्मशान घाटों में यह आंकड़ा 1570 के करीब जा पहुंचा है।

पिछले एक माह में दून के प्रमुख श्मशान घाटों में अंतिम संस्कार की स्थिति- 

लक्खीबाग, 580

नालापानी, 520

टपकेश्वर, 180

मालदेवता, 150

चंद्रबनी, 140

सुपुर्द-ए-खाक का आंकड़ा भी बढ़ा

श्मशान घाटों के साथ-साथ कब्रिस्तानों का भी यही हाल है। सामान्य दिनों में इन कब्रिस्तानों में एक माह में सुपुर्द-ए-खाक की संख्या 250 से 270 के बीच रहती है। बीते एक माह की बात करें तो यह आंकड़ा करीब 800 तक पहुंच गया। कब्रिस्तानों के हालात भी कोरोना के आधिकारिक आंकड़ों से इतर की कहानी बयां कर रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *