Saturday, May 18, 2024
अंतरराष्ट्रीयअल्मोड़ाउत्तर प्रदेशउत्तरकाशीउत्तराखंडउधम सिंह नगरकोविड 19चमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदिल्लीदेहरादूननैनीतालपंजाबपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरबिहारराज्यराष्ट्रीयरुद्रप्रयागस्पेशलहरिद्वार

छोड़िये शर्म जानिये – CORONA  और SEX में  STD रोग का नया खतरा ? 

शारीरिक संबंध यानि अपने पार्टनर से Sexual Relation बना रहे हैं तो पहले ये खबर पढ़ लीजिये क्यूंकि आजकल एक नयी बिमारी कोरोना वायरस के साथ खतरा बन रही है ,आप नहीं जानते लेकिन बिस्तर में आप आनंद लेने के साथ साथ हो सकता है अनजाने में कई बीमारियों का जोखिम भी उठा रहे हों …..

ऐसा ही एक ख़तरा आपको परेशान कर सकता है  जिन्हें सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज या एसटीडी (STD) कहा जाता है. सेक्स करने, ओरल सेक्स करने और यहां तक कि एक-दूसरे के अंगों को छूने से भी यौन संचारित संक्रमण (एसटीआई) हो सकता है. 

ये बीमारियां महिलाओं और पुरुषों में समान रूप से होती हैं. यही कारण है कि शारीरिक संबंध बनाने से पहले यह सुनिश्चित करना जरूरी है कि पार्टनर को किसी तरह की एसटीडी तो नहीं है. आमतौर पर होने वाली सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज के नाम हैं – जननांग दाद, गोनोरिया, क्लैमाइडिया, सिफलिस, एचपीवी यानी ह्यूमन पैपिलोमा वायरस, एचआईवी यानी ह्यून इम्युनोडेफिशिएंसी वायरस. इनके लक्षण यानी Symptoms भी अलग हैं.

महिलाओं की अंदरूनी गुप्त और अनदेखी कई बीमारियों का ट्रीटमेंट करने वाली महिला डॉक्टर्स भी मानती हैं कि  एसटीडी को ही गुप्त रोग कहा जाता है. ये बीमारियां कई रूपों में सामने आ सकती हैं
सेक्स के बाद त्वचा पर चकत्ते, सेक्स या यूरिन करने के दौरान दर्द होना, महिलाओं में योनि के आसपास खुजली होना, निजी अंगों से स्राव होना, पुरुषों में निजी अंग से स्राव होना. यदि किसी व्यक्ति को बिना कारण के थकान हो रही है, रात को ज्यादा पसीना आता है या अचानक वजन घटने लगा है तो भी यह एसटीडी का लक्षण हो सकता है.
 वहीं कई बार बिना किसी लक्षण के ये बीमारियां हो सकती हैं. इस तरह बिना किसी जानकारी के ये बीमारियां एक इन्सान से दूसरे में चली जाती हैं. यदि समय रहते इनका इलाज न किया जाए तो शरीर के अंदरूनी अंगों को नुकसान पहुंच सकता है. खासतौर पर महिलाओं को इनका जोखिम अधिक होता है. 
एसटीडी के कारण महिलाओं में बांझपन, विभिन्न प्रकार के कैंसर हो सकते हैं. समय पर इलाज न मिले तो मृत्यु भी हो सकती है. कुछ एसटीडी में मरीज को तेज बुखार आता है। ऐसे में एक तरफ तो हम कोरोना संक्रमण से बचने के लिए तरह तरह के उपाय कर रहे हैं ….. लेकिन इस बीच STD भी बड़ा खतरा बन सकती है जिसके लिए जागरूकता बेहद ज़रूरी है जिसके लिए शर्म नहीं परामर्श कीजिये   

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *