Monday, June 24, 2024
अल्मोड़ाउत्तरकाशीउत्तराखंडउधम सिंह नगरकोविड 19चमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदिल्लीदेहरादूननैनीतालपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरराजनीतिराज्यराष्ट्रीयरुद्रप्रयागहरिद्वार

इंदिरा हृदयेश ने MAX Hospital में भी माँगी VVIP सुविधा – नाराज़ होकर पहुंची गुरुग्राम 

ये उत्तराखंड की भाग्य विधाता है …. ये पहाड़ की तरक्की और पहाड़ियों के हक़ हुकूक की झंडाबरदार हैं …. ये कांग्रेस की सदन में सरदार है …. जी हाँ ये मैडम इंदिरा के रसूखदार हनक की हुंकार है ….

अभी कुछ दिन पहले ही मैडम इंदिरा अपने ऐशो आराम का बखान खुलेआम मीटिंग में कर रही थीं …. आपने सुना होगा ये सबसे सीनियर कोंग्रेसी नेत्री हल्द्वानी में रहती हैं लेकिन दबदबा ऐसा कि मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत उनके लिए उड़न खटोला पेश करने में देर नहीं करते लेकिन वाह रे मैडम की माया ….. जिस उत्तराखंड में स्वास्थ्य सुविधाओं के लिए लोग अपनी एड़ियां रगड़ रहे हो उस प्रदेश के हुक्मरानों को चाहिए वीवीआईपी ट्रीटमेंट वो भी मिनटों में …..  आपको बता दें कि लगभग अस्सी साल  नेता विपक्ष की कुर्सी पर काबिज़ मैडम को न सड़क की गर्मी पसंद है और न ही अपने लिए इंतज़ार ……  जिस राज्य में हर दिन हज़ारों लोग कोरोना से प्रभावित हो रहे हों वहां जब आरामतलब मैडम को कोरोना हुआ तो जैसे आफत ही आ गयी…… 

हल्द्वानी के अस्पताल में तत्काल कोरोना के इलाज़ की सुविधा न होने की वजह से मैडम के सिपहसालोअरों ने देहरादून का रुख किया और इस दौरान मुख्यमंत्री जी ने उड़न खटोले की सुविधा देकर मैडम के प्रति अपनी दरियादिली भी दिखा दी लेकिन वाह रे मैडम की माया …… देहरादून के सबसे मशहूर अस्पताल मैक्स में मैडम की इंट्री को लेकर कई घंटे तक हाई प्रोफाइल ड्रामा हो गया ….  क्यूंकि जिस रसूख के चलते मैडम इंदिरा इलाज़ के लिए  देहरादून मैक्स पहुंची थी वहां तो कैम्पस में सके लिए नियम बराबर हैं ऐसे में जब नेता विपक्ष इंदिरा ह्रदयेश के परिजनों और समर्थकों ने वीवीआईपी ट्रीटमेंट का दबाव देना शुरू किया तो होस्पितम मैनेजमेंट ने भी नियम के मुतानिक इलाज़ पर अड़े रहे …..

ऐसे में कई घंटे तक ये बहस होती रही कि मैडम की हनक का असर होगा या मैक्स हॉस्पिटल दबाव में अपने नियम तोड़ेगा लेकिन न मैडम की टीम झुकने को तैयार थी और न ही अस्पताल प्रशासन नियम तोड़ने को राज़ी हुआ इस बीच आरोप ये लगाया गया कि भर्ती होने के बावजूद मैडम इंदिरा को स्पेशल रूम मुहैया नहीं कराया गया और जब उन्होंने कहीं और इलाज कराने की बात कही तो उन्हें 45 हजार रुपये का बिल थमा दिया गया जो मैडम की शान में सबसे बड़ी गुस्ताखी थी …. 

लिहाज़ा अब कांग्रेस सदन में इसको मुद्दा बना कर हंगामा काटेगी …… प्रदेश कांग्रेस कमेटी ने नेता प्रतिपक्ष डॉ इंदिरा हृदयेश को देहरादून के मैक्स अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधाएं मुहैया नहीं कराने का आरोप लगाते हुए सरकार को निशाने पर लिया है। पार्टी ने इस मुद्दे को विधानसभा सत्र में उठाने के संकेत दिए हैं।

प्रदेश कांग्रेस उपाध्यक्ष सूर्यकांत धस्माना ने कहा कि डॉ हृदयेश के मामले ने राज्य में स्वास्थ्य सुविधाओं और कोरोना से निपटने की सरकार की तैयारी की पोल खोल कर रख दी। प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय में मीडिया से बातचीत में उन्होंने कहा कि विपक्ष की नेता को इलाज के लिए दर-दर भटकने को मजबूर होना पड़ा। कोरोना संक्रमण की पुष्टि होने के बाद इंदिरा हृदयेश को हल्द्वानी के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया था लेकिन उन्हें उचित इलाज नहीं मिलने पर देहरादून में मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था जहाँ उन्हीने खुद के लिए विशेष सुविधाओं की डिमांड की थी लेकिन अस्पताल प्रशासन नियमों के मुताबिक ही सुविधाएं देने की बात कहता रहा जिसके बाद इंदिरा ह्रदयेश प्रदेश से बाहर इलाज़ के लिए रवाना हो गईं। 

आपको बता दें कि  डॉ हृदयेश 50 साल लंबे संसदीय जीवन में उत्तर प्रदेश में 30 वर्षों तक उच्च सदन की सदस्य रहीं और उत्तराखंड में 10 साल तक कद्दावर मंत्री रह चुकी हैं। डॉ हृदयेश का इस तरह से खुद के लिए वीवीआईपी सुविधाएं मांगना और रसूख का प्रदर्शन करना देवभूमि के उन लोगों के लिए चौंकाने वाला है जो लोग एक मामूली इलाज़ के लिए गाँव के अस्पतालों में भटकने को मज़बूर हो …. जहाँ आज भी गर्भवती महिलाओं को कंधे पर धो कर अस्पताल लाया जाता हो … और इधर नेताओं को अपने लिए चाहिए मिनटों में वीवीआईपी ट्रीटमेंट ….. यानी अपने लिए तो जान ही जहान और जनता के लिए वादों की दुकान ….  

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *