Saturday, June 15, 2024
उत्तराखंडदेहरादूनराज्य

बुल्ली बाई मामले में श्वेता सिंह के बाद उत्तराखण्ड का एक और छात्र गिरफ्तार

 

देहरादून- मुंबई साइबर पुलिस ने ’बुली बाई’ ऐप मामले में उत्तराखंड से एक और छात्र को गिरफ्तार किया है। बुधवार  सुबह तड़के पुलिस ने कोटद्वार निवासी 21 वर्षीय मयंक रावत को गिरफ्तार किया है। आरोपी छात्र दिल्ली यूनिवर्सिटी के जाकिर हुसैन कॉलेज में बीएससी केमेस्ट्री (आनर्स) का छात्र है। अभी ऑनलाइन क्लासेस चल रही थीं तो वह कोटद्वार आ गया था। जानकारी के मुताबिक आरोपी छात्र ने मुंबई पुलिस को बताया है कि वह एक चैटिंग प्लेटफार्म पर एक शख्स के सम्पर्क में आया था। उसने एक लिंक भेजकर उसे शेयर करने को कहा। मयंक ने उस शख्स के कहने पर लिंक शेयर किया था। पौड़ी गड़वाल के एसएसपी यशवंत सिंह ने गिरफ्तारी की पुष्टि करते हुए बताया कि लड़के के मोबाइल को ट्रेस करते हुए मुंबई पुलिस उस तक पहुंची। मुंबई पुलिस की साइबर सेल ने पहले इस मामले में मुख्य अपराधी श्वेता सिंह (19) को उत्तराखंड के रूद्रपुर से और इंजीनियरिंग के छात्र विशाल कुमार झा (21) को बेंगलुरु से गिरफ्तार किया था। मुंबई पुलिस ने ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर प्लेटफॉर्म गिटहब पर होस्ट किए गए ’बुली बाई’ ऐप पर ’नीलामी’ के लिए सैकड़ों मुस्लिम महिलाओं की फर्जी तस्वीरें अपलोड करने की शिकायतों के बाद अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की थी।

बीते दिन श्वेता सिंह की हुई थी गिरफ्तारी

मुंबई पुलिस ने इस मामले में बड़ी कार्यवाई करते हुये रूद्रपुर से 18 साल की श्वेता सिंह को गिरफ्तार किया है। इससे पहले बुल्ली बाई एप के हैंडलर्स 21 वर्षीय इंजीनियरिंग छात्र विशाल को बेंगलूरु से गिरफ्तार किया जा चुका है। श्वेता बुल्ली बाई एप की मास्टर माइंड बताई जा रही है। दोनों सोशल मीडिया पर कथित तौर पर तब संपर्क में आए जब दोनों की विचारधारा में समानता दिखी थी। इसके बाद दोनों के बीच दोस्ती हुई और दोनों ने मुस्लिम महिलाओं की तस्वीरें ‘नीलामी’ वाले वेबपेजों का खेल शुरू कर दिया। मुस्लिम महिलाओं की निलामी वाला पहला वेब पेज जुलाई 2021 और दूसरा बुल्ली बाई नाम से 1 जनवरी को सामने आया था। इन पेजों पर प्रतिष्ठित मुस्लिम महिलाओं के लिए अपमानजनक सामग्री होना पाया गया था। जिसके बाद इस मामले ने तूल पकड़ लिया।

ऐप से जुड़े तीन अकाउंट हैंडल करती थी श्वेता

बुली बाई ऐप मामले में जब महाराष्ट्र पुलिस ने रुद्रपुर की श्वेता सिंह को गिरफ्तार किया तो पता चला कि वो ऐप से जुड़े तीन अकाउंट हैंडल कर रही थी। इसी के आधार पर ग्रुप एडमिन के अलावा गिरफ्तार श्वेता को मुख्य आरोपी माना जा रहा है। जांच की भनक लगते ही इस खेल में शामिल कई सदस्यों ने अपने मोबाइल स्विच ऑफ कर दिए थे, लेकिन रुद्रपुर की रहने वाली आरोपी श्वेता सिंह का मोबाइल ऑन था। जिसके आधार पर महाराष्ट्र पुलिस की टीम ने सर्विलांस से आरोपी युवती को रुद्रपुर आकर गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि बुल्ली बाई ऐप से नेपाल, दिल्ली, महाराष्ट्र, बेंगलुरु के अलावा कई प्रदेशों के शिक्षित युवा जुड़े हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *