Monday, April 22, 2024
अंतरराष्ट्रीयउत्तर प्रदेशउत्तराखंडकोविड 19दिल्लीपंजाबबिहारराजनीतिराज्यराष्ट्रीयस्पेशल

किसान आन्दोलन – 18 राजनीतिक पार्टियो ने किया है भारत बंद

केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली में हजारों किसान पिछले 12 दिनों से आंदोलन कर रहे हैं। किसानों ने कानून के खिलाफ आज 8 दिसंबर  को एक दिन के लिए ‘भारत बंद’ का ऐलान किया है। पूरे देश में आज सुबह 11 बजे से लेकर शाम 3 बजे तक ‘भारत बंद’ बुलाया गया है। हालांकि, इसका असर अभी से ही देश के अलग-अलग हिस्सों में दिखने लगा है। ओडिशा और महाराष्ट्र में ट्रेनें रोकी गईं हैं। किसानों के इस भारत बंद को कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, सपा समेत देश की 18 राजनीतिक पार्टियों ने भी अपना समर्थन दिया है। भारत बंद के दौरान परिवहन सेवा से लेकर फल-सब्जी की आपूर्ति प्रभावित हो सकती है। केंद्र सरकार और किसानों के प्रतिनिधियों के बीच पांच दौर की वार्ता हो चुकी है, मगर अब तक कोई हल नहीं निकल सका है। किसानों ने चेतावनी दी है कि अगर उनकी मांगें नहीं मांगी गईं, तो वे अपना विरोध प्रदर्शन तेज करेंगे और राष्ट्रीय राजधानी पहुंचने वाले मार्गों को बंद कर देंगे। सरकार और प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों के बीच अब तक की वार्ता विफल रही है और इसकी छठे दौर की वार्ता बुधवार 9 दिसंबर को होनी है। 

ये यूनियन हैं पक्ष में
रेलवे यूनियन एआईआरएफ ने किया ‘भारत बंद’ का समर्थन
रेलवे यूनियन यानी ऑल इंडिया रेलवेमेन फेडरेशन (एआईआरएफ) ने प्रदर्शनकारी किसानों द्वारा नए कृषि कानूनों के विरोध में आज यानी आठ दिसंबर को बुलाए गए ”भारत बंद” को अपना समर्थन दिया है। इसके अलावा, ट्रांसपोर्टरों का संगठन एआईएमटीसी किसानों के भारत बंद के समर्थन में मंगलवार को देशभर में ट्रांसपोर्ट सेवाओं का परिचालन बंद रखेगा।

कितने बजे से है बंद
किसानों ने साफ कर दिया है कि भारत बंद सुबह 11 बजे से दोपहर तीन बजे तक जारी रहेगा। उन्होंने कहा है कि इसी दौरान वे चक्का जाम करेंगे। लोगों की सहुलियत और ऑफिस जाने वालों को ध्यान में रखते हुए भारत बंद का ऐलान 11 बजे से किया गया है। 

कहां-कहां दिखेगा असर
किसान आंदोलन का असर ज्यादातर दिल्ली, पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, राजस्थान समेत गैर भाजपा शासित राज्यों में दिखेगा। किसान आंदोलन में ज्यादातर पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश के किसान हैं। इसलिए ऐसी उम्मीद की जा रही है कि यहां इसका व्यापक असर देखने को मिलेगा। एक वजह यह भी है कि यहां की प्रमुख विपक्षी पार्टियों ने भी किसानों के भारत बंद का समर्थन किया है।  

 

किन-किन पार्टियों ने किया है भारत बंद का समर्थन —— 

कांग्रेस,  आम आदमी पार्टी, एनसीपी, तृणमूल कांग्रेस, शिवसेना, द्रमुक और इसके घटक, टीआरएस, राजद, सपा, बसपा, वामदल, पीएजीडी समेत देश की करीब 18 राजनीतिक पार्टियां।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *