Wednesday, October 5, 2022
Home उत्तराखंड टपकेश्वर मंदिर में गूंजे शिव के जयकारे, यहाँ हर साल लाखों श्रद्धालु...

टपकेश्वर मंदिर में गूंजे शिव के जयकारे, यहाँ हर साल लाखों श्रद्धालु आते हैं…

-आकांक्षा थापा

महा शिवरात्रि पर भगवान भोले का जलाभिषेक करने के लिए भक्तो ने सुबह से ही मंदिर आना शुरू कर दिया। महाशिवरात्रि के पावन पर्व पर दूर-दूर से श्रद्धालु टपकेश्वर मंदिर की ओर खींचे चले आते हैं और कई घंटो कतार में इंतज़ार भी करते हैं। उत्तराखंड के देहरादून स्थित टपकेश्वर मंदिर की बहुत मान्यता है, लोगों की भक्ति की उन्हें यहाँ ले आती है। हर साल शिवरात्रि पर भारी संख्या में लोग आते हैं, यहाँ तक की 2 लाख से भी ज़्यादा लोग यहाँ माथा टेकते हैं। कोरोना के चलते मंदिर में सख्ती से कोविड गाइडलाइन्स का पालन किया गया, इसके लिए पुलिस और मंदिर की टीम को भी तानैत किया गया।
वहीँ, भीड़, गर्मी और लम्बी कतारों को देख कर लोगों का उत्साह काम नहीं हुआ, बल्कि भक्तों ने भोलेनाथ का जयकारा लगाया और भगवान भोले का आशीर्वाद लिया। जलाभिषेक का सिलसिला गुरुवार को दोपहर बाद तक चलता रहेगा। इससे पूर्व मंदिरों और शिवालयों को रंग-बिरंगी रोशनी से सजाया गया।

टपकेश्वर महादेव मंदिर की इतनी मान्यता क्यों? जानते हैं मंदिर का इतिहास ..

टपकेश्वर महादेव मंदिर का इतिहास प्राचीन भी है और खास भी। पौराणिक कथा के अनुसार टपकेश्वर मंदिर देवताओं का निवास स्थान है …इस गुफा में सभी देवता भगवान शिवजी का ध्यान लगाया करते थे… जब भगवान शिवजी की देवताओं पर कृपा हुई तो भगवान शिवजी भूमार्ग से प्रकट होकर देवताओं को देवेश्वर के रूप में दर्शन दिए…देवताओं को दर्शन देने के बाद शिवजी ने ऋषियों को दर्शन दिए… इस महान तीर्थस्थल में भगवान शिव ने अनेक बार अद्भुत रूप में दर्शन देकर श्रद्धालुओ व भक्तो का कल्याण किया… टपकेश्वर मंदिर की उपस्तिथि इस स्थान पर अनादी काल से मानी जाती है और यहाँ विराजित शिवलिंग का वर्णन देवेश्वर व टपकेश्वर के नाम से लगभग 6 हज़ार वर्षो से स्कन्दपुराण व केदारखंड में उल्लेखित है..

कहा जाता है की इसी गुफा में गुरु द्रोणाचार्य जी को भगवान शिवजी की तपस्या करने के बाद धनुविद्या का ज्ञान प्राप्त हुआ था एवम् द्रोणाचार्य पुत्र अश्व्थामा ने इसी गुफा में दूध हेतु भगवान शिवजी की मात्र एक पाँव के सहारे खड़े होकर 6 महीने तपस्या की और ये तपस्या पूर्णमासी के दिन पूरी हुई तथा गुफा के अन्दर विराजित शिवलिंग में दूध की धार बहने लगी..

अश्व्थामा ने भगवान शिवजी के चरणों से दूध ग्रहण कर अपनी भूख और प्यास मिटाई.. परिणामस्वरुप भगवान शिवजी ने अश्व्थामा को अजर , अमरता का वरदान प्रदान किया… कलयुग में दूध का गलत इस्तेमाल होने के कारण भगवान शिवजी नाराज़ हो गए और दूध को पानी के रूप में बदल दिया तब से लेकर वर्तमान समय तक गुफा में दूध की बूंदों के स्थान पर जल की बूंदे टपकती है …वर्तमान में भक्त लोग भगवान शिव का जलाभिषेक करके मनोकामना अनुसार फल पाते है…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Uttarkashi Avalanche: बर्फ के तूफान में लापता हुए 28 लोग, 2 की मौत, CM Dhami ने मांगी सेना से मदद

केदारनाथ के बाद अब द्रौपदी पर्वत में आया एवलॉन्च। एवलॉन्च के चलते बर्फीली पहाड़ियों पर फंसे 28 लोग, हादसे में 2 की मौत ।...

मास्टरमाइंड हाकम का रिसॉर्ट तोड़ने पहुंची टीम, धरने पर बैठ ग्रामीणों ने जताया विरोध

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग पेपर लीक मामले में आरोपी मास्टमाइंड हाकम सिंह रावत का सांकरी स्थित रिजॉर्ट को गिराने के लिया पिछले दिनों...

शेयरों में दिखी गिरावट, अमीर लोगों की सूची में नीचे खिसके गौतम अदाणी

दुनिया के शीर्ष तीन अमीर कारोबारियों में शामिल भारतीय व्यवसायी गौतम अदाणी और एलन मस्कको एक दिन में लगभग 25 मिलियन डॉलर यानी 2...

टी20 वर्ल्ड कप में भारत को झटका, जसप्रीत बुमराह टी20 वर्ल्ड कप 2022 से हुए बाहर

सोमवार को बीसीसीआइ ने मुहर लगा दी कि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह आगामी टी20 वर्ल्ड कप से बाहर हो गए हैं। हालांकि उनके रिप्लेसमेंट...

नवमी पर सीएम पुष्‍कर सिंह धामी ने जिमाई कन्‍या, मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों का लिया आशीर्वाद

नवमी के दिन मंगलवार को उत्‍तराखंड भर में मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों की पूजा अर्चना की जा रही है। इस क्रम में मुख्‍यमंत्री...

उत्तराखण्ड में चीन सीमा पर दशहरा मनाएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, आज पहुंचेंगे देहरादून

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह उत्तराखंड में चीन सीमा पर स्थित अग्रिम चौकी पर सेना और आईटीबीपी के जवानों के साथ विजयादशमी मनाएंगे। इस मौके पर...

हरिद्वार को मिला देश के गंगा टाउन में पहला स्थान, लेकिन उत्तराखंड का सबसे गंदा शहर, पढिये पूरी खबर

राष्ट्रीय स्तर की ओवरआल रैंकिंग में पिछले साल 279वें स्थान पर रहा हरिद्वार इस वर्ष 300वें नंबर पर आ गया। स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में...

Indian Air Force में शामिल हुए हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर ‘प्रचंड’, भारतीय वायुसेना को मिलेगी मदद

आजादी से लेकर अब तक भारत को सुरक्षित रखने में भारतीय वायु सेना की बड़ी शानदार भूमिका रही है। आंतरिक खतरे हों या बाहरी...

एसआइटी ने की रिसॉर्ट में बुकिंग करवाने वालों की पहचान, दर्ज किए जा रहे बयान

अंकिता हत्याकांड मामले में वीआईपी सर्विस देने के मामले से अभी भी पर्दा नहीं उठ पाया है। वहीं एसआइटी ने घटना से पहले व...

बाबा केदार के धाम पहुंचे राज्यपाल गुरमीत सिंह, पूजा अर्चना कर लिया आशीर्वाद

उत्तराखंड के राज्यपाल गुरमीत सिंह आज बाबा केदार के दर्शन करने केदारनाथ धाम पहुंचे। उन्होंने बाबा केदार के दर्शन कर पूजा अर्चना की। इसके...