Monday, April 22, 2024
उत्तराखंड

यमुनोत्री धाम के कपाट खुले, पीएम मोदी की ओर से हुई पहली पूजा

देहरादूनः कोरोना महामारी की सख्ती के बीच आज से चारधामों के कपाट खुलने की प्रक्रिया शुरू हो गई है। आज दोपहर सबसे पहले यमुनोत्री धाम के कपाट खोल दिये गये। जबकि कल गंगोत्री धाम के कपाट खुलेंगे। 17 मई को केदारनाथ और 18 मई को बदरीनाथ धाम के कपाट खुलेंगे। इस बार कोरोना काल के चलते चारधाम यात्रा स्थगित की गई है। आम श्रद्धालुओं के लिये चारधाम यात्रा को प्रतिबंधित किया गया है।

यमुनोत्री धाम में पीएम मोदी की ओर से पहली पूजा

बीते वर्ष की तरह ही इस बार भी श्रद्धालुओं की मौजूदगी के बिना चार धाम के कपाट खुलने शुरू हो गए हैं। आज दोपहर 12.15 बजे गंगोत्री धाम के कपाट खोले गये। इससे पहले सुबह 9.15 पर देवी यमुना की उत्सव डोली अपने शीतकालीन गद्दी स्थल खरसाली खुशीमठ से यमुनोत्री के लिए रवाना हुई। यमुनोत्री मंदिर समिति के सचिव सुरेश उनियाल ने बताया कि कपाट खुलने के मौके पर और यमुना उत्सव डोली यात्रा में सिर्फ 25 तीर्थ पुरोहित और बाजगी मौजूद रहे। बढ़ते कोरोना वायरस के चलते यह निर्णय लिया गया था। जिसमें मंदिर परिसर में सीमित संख्या में लोगों को आने की इजाजत दी गई है। यमुना डोली पहले शनि देव मंदिर गई फिर वहां से शनि देव की अगुवाई में यमुनोत्री धाम पहुंची। दोपहर 12.15 बजे पूरे विधि विधान के साथ यमुनोत्री धाम के कपाट खोले गये। इस दौरान यमुनोत्री धाम में पहली पूजा भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की ओर से कराई गई। प्रधानमंत्री ने यमुनोत्री समिति को पूजा अर्चना के लिये 1101 रूपये का चढ़ावा भेजा था।

कल खुलेंगे गंगोत्री धाम के कपाट

कल यानी 15 मई को गंगोत्री धाम के कपाट खुलेंगे। सुबह 7.30 बजे गंगोत्री धाम के कपाट खोले जाएंगे। आज सुबह 11.45 पर मां गंगा की उत्सव डोली अपने शीतकालीन प्रवास स्थल मुखवा उखीमठ से पहले पड़ाव स्थल भैरव घाटी के लिए रवाना होगी। आज रात्रि विश्राम यही करने के बाद 15 मई सुबह 5.00 बजे डोली गंगोत्री के लिए प्रस्थान करेगी। सुबह 7.30 बजे अक्षय तृतीया के मौके पर मंदिर के कपाट खोले जाएंगे। गंगोत्री मंदिर समिति के अध्यक्ष सुरेश सेमवाल ने बताया कि प्रशासन की गाइड लाइन के अनुसार मंदिर परिसर में केवल 21 व्यक्ति मौजूद रहेंगे। जिसमें तीर्थ पुरोहित और बाजगी ही शामिल हैं।

केदारनाथ धाम के कपाट 17 मई को खुलेंगे

केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। बाबा केदारनाथ की उत्सव डोली ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ से केदारनाथ धाम के लिये रवाना हो गई है। इस बार 17 मई सुबह 5 बजे केदारनाथ धाम के कपाट खुलेंगे। कोराना के चलते इस बर बाबा केदार की चल विग्रह डोली पैदल के बजाय रथ पर केदारनाथ तक पहुंचेगी। केदारनाथ में भी कोराना की सख्ती के चलते तीर्थ पुरोहितों के साथ सीमित संख्या रखी गई है।

18 मई को खुलेंगे बदरीनाथ के कपाट

बदरीनाथ धाम के कपाट इस बार 18 मई को खुलेंगे। बदरीनाथ की विशेष डोली पांडुकेश्वर से 17 मई को विशेष मुहूर्त पर चलकर बदरीनाथ धाम पहुंचेगी। 18 मई को प्रातः विशेष पूजा अर्चना के साथ चार बजकर 15 मिनट पर भगवान बदरीनाथ के कपाट खोले जाएंगे। इस दौरान सभी धामों में कोविड-19 से बचाव के लिये जारी की गई एसओपी का पालन किया जाएगा। जो लोग भी मंदिर परिसर में मौजूद रहेंगे उनके लिये मास्क पहनना और सामाजिक दूरी, सेनेटाइजेशन अनिवार्य होगा।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *