Wednesday, November 30, 2022
Home अंतरराष्ट्रीय गर्व से कहिये आज है विजय दिवस - 1971 के युद्ध में पाकिस्तान ने...

गर्व से कहिये आज है विजय दिवस – 1971 के युद्ध में पाकिस्तान ने खाई थी शिकस्त  

आज विजय दिवस है. आज ही के दिन 1971 के युद्ध में पाकिस्तान ने भारत के सामने आत्मसमर्पण किया था. 1971 की जंग में पाकिस्तान को भारत ने करारी शिकस्त दी थी. पाकिस्तान के करीब 93 हजार से ज्यादा सैनिकों ने भारतीय सेना के सामने आत्मसमर्पण किया था. इतनी बड़ी संख्या में सैनिकों का आत्मसमर्पण कभी नहीं हुआ था. 16 दिसंबर 1971 को पाकिस्तान पर भारत की जीत के चलते ही हर साल 16 दिसंबर को विजय दिवस मनाया जाता है …..

1971 के युद्ध के बाद ही बांग्लादेश का एक नए देश के तौर पर उदय हुआ था. भारत ने पूर्वी पाकिस्तान को पाकिस्तान से आजाद करवाया था. जिसके बाद पूर्वी पाकिस्तान का नाम बांग्लादेश पड़ा. ये एतिहासिक युद्ध था. बांग्लादेश के लोग इसे मुक्तिसंग्राम कहते हैं. उन्होंने पाकिस्तान से आजादी के लिए मुक्ति संग्राम का आव्हान किया था. जिसे भारत ने समर्थन दिया था. पूर्वी पाकिस्तान को आजाद करवाने के लिए 25 मार्च 1971 से मुक्ति संग्राम शुरू हुआ. ये 16 दिसंबर तक चला.

जब पूर्वी पाकिस्तान में शुरू हुई बगावत
1971 से पहले बांग्लादेश, पाकिस्तान का ही एक प्रांत था. उस वक्त उसे पूर्वी पाकिस्तान कहा जाता था. जबकि आज के पाकिस्तान को पश्चिमी पाकिस्तान कहते थे. पाकिस्तान की सेना पूर्वी पाकिस्तान के बांग्लाभाषी लोगों पर अत्याचार करती थी. अपने दमन के विरोध में पूर्वी पाकिस्तान की जनता सड़कों पर उतर आई थी. पाकिस्तान की सेना ने पूर्वी पाकिस्तान की बगावत को निर्दयतापूर्वक कुचला.
पाकिस्तान की सेना ने लाखों लोगों को मौत के घाट उतार दिया. महिलाओं को इज्जत लूटी गई. भारत ने पड़ोसी होने के नेता पश्चिमी पाकिस्तान की इस बर्बर कार्रवाई का विरोध किया और पूर्वी पाकिस्तान में क्रांतिकारियों की मदद की थी. इसी के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच सीधी जंग शुरू हो गई. भारतीय सैनिकों ने युद्ध में अदम्य साहस का परिचय दिया. पूर्वी पाकिस्तान आजाद हुआ और दक्षिण एशिया में बांग्लादेश के नाम से एक नए देश का जन्म हुआ.

पूर्वी पाकिस्तान पर हुए अत्याचार ने रखी नए देश की बुनियाद
1947 में आजादी के साथ ही भारत से बंटवारे के बाद पाकिस्तान का जन्म हुआ था. पाकिस्तान के दो भाग थे- पश्चिमी और पूर्वी पाकिस्तान. पाकिस्तान के दोनों हिस्सों में कोई साम्य नहीं था. दोनों के बीच राजनीतिक, सामाजिक, आर्थिक और सांस्कृतिक भिन्नताएं थीं. पश्चिमी पाकिस्तान राजनीतिक तौर पर ज्यादा शक्तिशाली था, जबकि पूर्वी पाकिस्तान संसाधनों के लिहाज से ताकतवर था.

पाकिस्तान ने चलाया था ऑपरेशन सर्च लाइट और ऑपरेशन चंगेज खान
25 मार्च 1971 को पाकिस्तान ने ऑपरेशन सर्च लाइट चलाया. इस ऑपरेशन में पूर्वी पाकिस्तान में जबरदस्त नरसंहार हुए. एक आंकड़े के मुताबिक पूर्वी पाकिस्तान के करीब 30 लाख लोग मारे गए. इसके बाद दिसंबर महीने में पाकिस्तान ने ऑपरेशन चंगेज खान चलाया. इसमें पाकिस्तान ने भारत के 11 एयरबेसों पर हमला कर दिया. इसी के बाद 3 दिसंबर 1971 को भारत और पाकिस्तान के बीच सीधी जंग शुरू हो गई. ये युद्ध महज 13 दिनों तक चला और पाकिस्तानी सेना को जबरदस्त शिकस्त का सामना करना पड़ा.

उस युद्ध में रुस ने भारत की मदद नहीं की थी. भारतीय सेना ने ढाका की तीन तरफ से घेराबंदी कर दी. सेना ने ढाका के गवर्नर हाउस पर हमला कर दिया. उस वक्त गवर्नर हाउस में पाकिस्तानी सेना के बड़े अधिकारियों की मीटिंग चल रही थी. अचानक हुए भारतीय सेना के हमले की वजह से जनरल नियाजी घबरा गए. उन्होंने भारतीय सेना को युद्ध विराम का संदेश भिजवाया. लेकिन जनरल मानेकशॉ ने साफ कर दिया कि पाकिस्तान की सेना को सरेंडर करना होगा. जनरल नियाजी ने पाकिस्तानी सेना के 93 हजार से ज्यादा सैनिकों के साथ आत्मसमर्पण कर दिया और इस तरह भारत पूर्वी पाकिस्तान को आजाद करवाकर बांग्लादेश बनवाने में सफल रहा.  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

स्वेच्छा से धर्म परिवर्तन पर डीएम को देनी होगी अर्जी, सदन पटल पर रखा गया विधेयक

उत्तराखंड में जबरन धर्मांतरण पर सख्त सजा और जुर्माने का प्रावधान किया जा रहा है। प्रदेश में जबरन धर्मांतरण के मामलों को रोकने के...

वनंतरा मामले में मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल पर गलत बयानी का आरोप, आंदोलनकारियों ने पुतला फूंक कर किया प्रदर्शन

विधानसभा सत्र के बाद वित्त एवं संसदीय कार्य मंत्री प्रेमचंद अग्रवाल ने वनंतरा रिजार्ट मामले में यह कहा था कि वहां कोई भी वीआइपी...

उत्तराखंड में भर्तियां करने वाले लोक सेवा आयोग में ही खाली पड़े है 63 पद,  6 सालों में निकली सबसे कम भर्तियां

भर्तियां करने वाले राज्य लोक सेवा आयोग में ही आज  63 पद खाली पड़े हुए हैं ,और पिछले 6 सालों के आकड़ों में इस...

उत्तराखंड विधानसभा शीतकालीन सत्र का दूसरा दिन, सदन के अंदर कार्यवाही जारी, बाहर कई संगठनों का प्रदर्शन

उत्तराखंड विधानसभा सत्र का आज दूसरा दिन है। दूसरे दिन भी संदन के अंदर और भीतर हंगामा जारी है। अंदर सदन चल रहा है...

Uttarakhand Assembly Session : विधानसभा शुरू होने से पहले धरने पर बैठे विधायक तिलकराज बेहड़

आज से विधानसभा शीतकालीन सत्र की शुरुआत हो चुकी है और सत्र शुरू होने से पहले ही किच्छा में कानून व्यवस्था को लेकर विधायक...

आज विक्रम-ऑटो, बस और ट्रकों का चक्काजाम, यात्रियों को हो सकती है परेशानी

आज प्रदेशभर में ऑटो, विक्रम, बस और ट्रकों का चक्काजाम है। परिवहन विभाग ने देहरादून के डोईवाला और ऊधमसिंह नगर के रुद्रपुर में ऑटोमेटेड...

आज से देहरादून में शुरू हुआ विधानसभा शीतकालीन सत्र, सरकार को घेरने के लिए विपक्ष तैयार

विधानसभा का सात दिवसीय शीतकालीन सत्र आज मंगलवार से शुरू हो गया है। विधानसभा सचिवालय ने इसकी तैयारियां पूरी कर ली हैं। वहीं, सत्र...

महिलाओं पर झपट पड़ा गुलदार, द्वाराहाट का वीडियो वायरल,

अल्मोड़ा में गुलदार का आतंक लगातार बढ़ता जा रहा है। दो दिन पहले 10 साल के बच्चे को गुलदार ने अपना निवाला बनाया था...

पूर्व मंत्री और मीट करोबारी याकूब कुरैशी का बेटा भूरा गिरफ्तार, पिता और दूसरा बेटा अभी भी फरार

मेरठ में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए सोमवार को पूर्व मंत्री याकूब कुरैशी के बेटे फिरोज उर्फ भूरा को गिरफ्तार कर लिया। वो...

ऋतुराज गायकवाड़ का कमाल, एक ओवर में जड़े 7 छक्के

भारतीय क्रिकेटर रुतुराज गायकवाड़ ने वो कर दिखाया है, जिसे कोई क्रिकेटर अब तक नहीं कर सका था। महाराष्ट्र के युवा ओपनर ने विजय...