Tuesday, June 18, 2024
कोविड 19देहरादूनराजनीति

कोरोना जांच फीस बढ़ाकर जनता को लूट रही है राज्य सरकारः आर्येन्द्र शर्मा

देहरादूनः कांग्रेस के प्रदेश उपाध्यक्ष आर्येन्द्र शर्मा ने प्रदेश सरकार पर कोरोना संकट में जनता को लूटने का आरोप लगाया है। शर्मा ने कहा कि महामारी के संकट में सरकार ने कोरोना जांच की फीस बढ़ाकर जनता पर अतिरिक्त आर्थिक बोझ डाल दिया है। उन्होंने कहा कि सरकार जल्द से जल्द जांच फीस में कटौती करे या कोरोना जांच का पूरा खर्च खुद वहन करे।

आर्येन्द्र शर्मा का आरोप है कि कोरोना संकटकाल में जब सरकार को जनता की मदद करनी चाहिए थी तब वह कोरोना जांच की फीस को बढ़ाकर और परेशानी खड़ी कर रही है। सरकार ने गरीब जनता पर और अधिक आर्थिक बोझ डाल दिया है। आरटीपीसीआर जांच शुल्क बढ़ाकर सरकार पूरी तरह से लूट खसोट में उतर आई है। प्रदेश की जनता पहले से बिजली के दरें बढ़ने से परेशान थी। आरटीपीसीआर जांच का शुल्क बढ़ाकर सरकार ने ये साबित कर दिया किया कि इस महामारी के दौर में भी सरकार को जनता के स्वास्थ्य और उनकी आर्थिक स्थिति की कोई चिंता नहीं है।

शर्मा ने कहा कि कोरोना में प्रदेश की स्थिति चिंताजनक है। बड़ी संख्या में प्रवासी अपने घरों को लौट आये हैं। लॉकडाउन के कारण प्रदेश की जनता की आर्थिक स्थिति कमजोर हो चुकी है। युवाओं के पास रोजगार नहीं है और तमाम कारोबार चैपट हो चुके हैं। ऐसे विकट समय में जनता सरकार से मदद की उम्मीद रखती है। लेकिन सरकार ने निजी लैब में कोरोना जांच दर बढ़ाकर 700 रुपये कर दी है। घर आकर सैंपल लेने पर जांच दर 900 रुपये बढ़ा दी गई है। जबकि अभी तक यह शुल्क 500 रुपये और 600 सौ रुपये था। बावजूद इसके 10-10 दिन तक जांच रिपोर्ट नहीं दी जा रही। कहा कि आखिर भाजपा शासित राज्यों में ही आरटीपीसीआर के अधिक रुपये क्यों वसूले जा रहे हैं? जबकि राजस्थान जैसे राज्य में सरकार ने जनता के लिए आरटीपीसीआर टेस्ट की कीमत 350 रुपये रखी है।

आर्येन्द्र शर्मा ने सरकार से मांग की है कि इस महामारी के दौर में जनता पर से बोझ कम करने के लिए आरटीपीसीआर जांच का खर्चा सरकार खुद वहन करे। उन्होंने प्रत्येक ब्लॉक में आरटीपीसीआर टेस्ट लैब खोलने की मांग करते हुए कहा कि ब्लॉक स्तर पर यदि टेस्ट लैब खुलेंगी तो अधिक से अधिक जांच की जा सकती है। साथ ही इससे प्रदेश के युवाओं को रोजगार का अवसर भी मिलेगा। कुमाऊं और गढ़वाल विश्विद्यालय के माइक्रो बॉयोलाॅजी, बायोलॉजी एवं बायो टेक्नोलॉजी के बेरोजगार छात्र छात्राओं को एक सप्ताह का प्रशिक्षण देने के बाद उनको टेस्ट लैब में दायित्व सौंपा जा सकता।

शर्मा ने भाजपा नेताओं पर आरोप लगाते हुए कहा कि कोरोना महामारी को भाजपा नेता रिबिन काटने एवं कथित वाहवाही लूटने का अवसर बना रहे हैं। जनता को घंटो इंतजार कराकर कोविड टीकाकरण अभियान का रिबिन काटा जा रहा है। भाजपा नेता महामारी में भी अपनी फोटो लगवाने में पीछे नहीं हट रहे हैं। भाजपा के सांसद एवं विधायक जनता के टैक्स से आ रही सांसद एवं विधायक निधि से पैसा खर्च कर जनता पर उपकार करने जैसी भावना दिखा रहे हैं। भाजपा नेता बताएं कि उन्होंनेे अपने निजी अकॉउंट से प्रदेश की जनता के लिए कितने की सहायता की है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *