Tuesday, September 27, 2022
Home उत्तराखंड उत्तराखण्ड में 4.3 तीव्रता का भूकंप, देश में इस साल अब तक...

उत्तराखण्ड में 4.3 तीव्रता का भूकंप, देश में इस साल अब तक आ चुके हैं पांच भूकंप

देहरादूनः बीती देर रात उत्तराखण्ड के कई इलाकों में भूकंप के झटके महसूस किये गये। रिक्टर स्केल पर भूकंप की तीव्रमा 4.3 मापी गई है। जिसका केन्द्र जोशी मठ से 44 किलोमीटर की दूरी पर बताया जा रहा है। चमोली जिले के अलावा देहरादून, मसूरी और बागेश्वर समेत राज्य के कुछ अन्य स्थानों पर भी भूकंप के झटके महसूस किये गये। हालांकि इससे किसी भी तरह के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं है।

रात 12 बजकर एक मिनट पर चमोली जिले में भूकंप के झटके महसूस किए गए। अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों के मुताबिक भूकंप की तीव्रता 4.3 थी। अब तक मिली जानकारी के मुताबिक भूकंप का केंद्र जोशी मठ से 44 किलोमीटर की दूरी पर बताया गया है। लगभग 12.35 पर मसूरी, देहरादून और बागेश्वर में भी झटके महसूस किए गए। कई लोग खौफ से अपने घरों से बाहर निकल आए। मसूरी, देहरादून और बागेश्वर में लोगों को घरों की चीजें हिलती हुई दिखाई दीं। फिलहाल भूकंप से किसी तरह के जानमाल के नुकसान की कोई जानकारी नहीं मिली है।

बीती रात उत्तराखण्ड में आया यह भूकंप इस साल देश में आये भूकंपों में पांचवां है। इससे पहले 28 अप्रैल की सुबह गुवाहाटी समेत पूर्वोत्तर राज्यों में भूकंप का बड़ा झटका महसूस किया गया। जबकि इससे पहले 5 और 6 अप्रैल को भी 5.4 और 2.7 तीव्रता के भूकंप आ चुके हैं। वहीं 12 फरवरी को भारत के बड़े हिस्से में भूकंप के झटके महसूस किये गये थे। लगभग आधे भारत में इन झटकों को महसूस किया गया था। पिछले साल की बात करें तो पिछले साल एक जनवरी से 31 दिसंबर तक भारत की धरती 965 बार हिली थी। जो कि एक चैंकाने वाली बात है।

देश के विज्ञान, तकनीकी और पृथ्वी विज्ञान मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने खुद यह बात संसद में स्वीकार की थी। भारतीय उपमहाद्वीप में भूकंप का खतरा हर जगह अलग-अलग है। भारत को भूकंप के क्षेत्र के आधार पर चार हिस्सों जोन-2, जोन-3, जोन-4 तथा जोन-5 में बांटा गया है। जोन 2 सबसे कम खतरे वाला जोन है। जबकि जोन-5 को सर्वाधिक खतरनाक जोन माना जाता है। उत्तर-पूर्व के सभी राज्य, जम्मू-कश्मीर, उत्तराखंड तथा हिमाचल प्रदेश के कुछ हिस्से जोन-5 में ही आते हैं। उत्तराखंड के कम ऊंचाई वाले हिस्सों से लेकर उत्तर प्रदेश के ज्यादातर हिस्से और दिल्ली जोन-4 में आते हैं। मध्य भारत अपेक्षाकृत कम खतरे वाले हिस्से जोन-3 में आता है। जबकि दक्षिण के ज्यादातर हिस्से सीमित खतरे वाले जोन-2 में आते हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

नवरात्रि का दूसरा दिन आज, नव शक्तियों के दूसरे स्वरूप माता ब्रह्मचारिणी की आज करें पूजा अर्चना

शारदीय नवरात्रि का आज दूसरा दिन है। नवरात्रि के दूसरे दिन देवी के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा-अर्चना की जाती है। मां दुर्गा की नव...

जौनसार में बारिश से तबाही, अमलावा नदी के उफान में बह गया भवन

जौनसार में रविवार रात हुई मूसलाधार बारिश ने भारी तबाही मचाई है। रविवार देर रात साहिया में भारी बारिश का तांडव देखने को मिला।...

नवरात्रि में सीएम धामी का तोहफा, राज्य की बालिकाओं को नंदा गौरा योजना के तहत 323 करोड़ की धनराशि हस्तांतरित

पहले नवरात्रे पर सीएम धामी ने राज्य की 80 हजार बालिकाओं को तोहफा दिया है। सीएम ने आज नंदा गौरा योजना के तहत 323...

दिल्‍ली में 12 साल के बच्चे से गैंगरेप, एक व्यक्ति गिरफ्तार अन्य तीन फरार

देश की राजधानी दिल्ली में 12 साल के एक लड़के के साथ रेप करने का मामला सामने आया है। चार लोगों ने कथित तौर...

जैकलीन को बड़ी राहत, 200 करोड़ के मनी लॉन्ड्रिंग केस में कोर्ट ने दी अंतरिम जमानत

सुकेश चंद्रशेखर से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग केस में जैकलीन फर्नांडीज को बड़ी राहत मिली है। कोर्ट ने जैकलीन फर्नांडीज को अंतरिम जमानत दे दी...

आज शुरू हुए शारदीय नवरात्र, नवरात्र के पहले दिन करें मा दुर्गा के प्रथम स्वरुप मां शैलपुत्री की पूजा अर्चना

शारदीय नवरात्र आज से शुरू हो गए हैं। इस बार नवरात्र पूरे नौ दिन के रहेंगे। 26 सितंबर से 4 अक्टूबर तक। 26 सितंबर...

पिथौरागढ़ में बड़ा भूस्खलन, भरभराकर गिरा समूचा पहाड़,तवाघाट-लिपुलेख मार्ग बंद

जाते जाते भी उत्तराखण्ड में बरसात कहर बरपा रही है। बीते दिनों सीमांत क्षेत्र धारचूला में आई जबर्दस्त आपदा के बाद आज फिर यहां...

देहरादून में ‘प्रोजेक्ट पार्क वैल’, प्रोजेक्ट पार्क वैल के अनौखे ईनाम

गलत पार्क किये गये वाहनों का फोटो खींचीए और ईनाम पाइये... जी हां वही योजना जिसकी घोषणा हाल ही में केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन...

देहरादून में प्रोजेक्ट पार्क वैल के अनौखे ईनाम, जानकर रह जाएंगे हैरान

उत्तराखण्ड होमगार्ड्स एवं नागरिक सुरक्षा मुख्यालय द्वारा देहरादून में भी लागू की गई है। जिसे नाम दिया गया है प्रोजेक्ट पार्क वैल। इसमें भी...

केदारघाटी को प्लास्टिक कचरे से निजात दिलाने के लिए शुरू किया गया अभियान, अब दिखने लगे रिजल्ट

केदारघाटी को प्लास्टिक मुक्त बनाने के लिए डेढ़ माह पहले एक अभियान चलाया गया। इस अभियान का रिजल्ट अब दिखने लगा है। चलाये गए...