Wednesday, October 5, 2022
Home उत्तराखंड वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली जी की पुण्यतिथि, पूरा देश कर रहा है...

वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली जी की पुण्यतिथि, पूरा देश कर रहा है याद

24 दिसंबर 1891 को गढ़वाल की थैलीसैण तहसील के एक सुदूर गाँव में जन्मे चन्द्रसिंह भी पेशावर में तैनात टुकड़ी का हिस्सा थे.. . बहुत कम पढ़ा-लिखा होने और अंग्रेज़ फ़ौज में नौकरी करने के बावजूद गढ़वाली स्वतंत्रता आंदोलन की तपिश से खुद को अछूता नहीं रख पाये थे। फौजी होने के बावजूद वे आज़ादी की गुप्त मीटिंगों और सम्मेलनों में शिरकत किया करते थे। अप्रैल 1930 में पेशावर के किस्साखानी बाज़ार में खां अब्दुल गफ्फार खां के नेतृत्व में हजारों लोग सत्याग्रह कर रहे थे. इसे कुचलने के लिए अंग्रेज़ हुकूमत ने रॉयल गढ़वाल राइफल्स को तैनात किया गया था… यह भारत के इतिहास का वो दौर था जब सारा देश आज़ादी के आन्दोलन में हिस्सेदारी करने को आतुर हो रहा था।

1857 के ग़दर के बाद यह भारत के इतिहास में घटी सैन्य विद्रोह की सबसे बड़ी घटना थी.. बौखलाए अंग्रेजों ने गोरे सिपाहियों को कत्लेआम का आदेश दिया।बड़ी संख्या में जानें गईं और चन्द्रसिंह गढ़वाली और उनके साथियों को गिरफ्तार कर लिया गया. जब अंग्रेज़ कप्तान ने गढ़वाली से बगावत की वजह जाननी चाही तो चन्द्रसिंह गढ़वाली ने कहा ” हम हिंदुस्तानी सिपाही हिंदुस्तान की हिफाजत के लिए भर्ती हुए हैं, न कि अपने भाइयों पर गोली चलाने के लिए!”

23 अप्रैल 1930 के दिन पेशावर में हज़ारों सत्याग्रही जुलूस निकाल रहे थे. एक मोटरसाइकिल सवार अंग्रेज़ सिपाही इस भीड़ को चीरता हुआ निकला जिससे कई लोग घायल हो गये। गुस्साई भीड़ ने सिपाही को दबोच कर पीटा और मोटरसाइकिल को आग लगा दी। इस घटना से मौके पर मौजूद अंग्रेज़ अफसरान घबरा गए और रॉयल गढ़वाल राइफल्स के सिपाहियों को किस्साखानी बाज़ार के काबुली फाटक पर तैनात कर दिया गया। कमांडर ने लाउडस्पीकर पर लोगों को घर जाने का आदेश दिया लेकिन भीड़ की उत्तेजना बेकाबू हो चुकी थी। कमांडर ने अंततः गोली चलाने का आर्डर जारी करते हुए चिल्लाते हुए कहा “गढ़वाली ओपन फायर!” कमांडर की ऐन बगल से उससे भी तेज़ एक निर्भीक आवाज़ आई “गढ़वाली सीज़ फायर!” यह चन्द्रसिंह गढ़वाली थे जिनकी बात मानते हुए 67 सिपाहियों ने अपनी बंदूकें ज़मीन पर रख दीं. कोर्टमार्शल के बाद सभी सिपाहियों को सज़ा हुई… . आजीवन कारावास के रूप में सबसे बड़ी सजा चन्द्रसिंह को मिली…. 1947 में आज़ादी मिलने के बाद भी स्वतंत्र भारत में इस योद्धा को अपने साम्यवादी विचारों के कारण कई बार जेल जाना पड़ा. शर्म की बात है कि आज़ाद भारत में जब उन्हें पहली बार गिरफ्तार किया गया तो वारंट में पेशावर काण्ड करने को उनका अपराध बताया गया था। 1957 में उन्होंने विधानसभा चुनाव भी लड़ा लेकिन उसमें वे बुरी तरह परास्त हुए। आजीवन संघर्ष करते और भीषण आर्थिक अभावों से जूझते हुए चन्द्रसिंह गढ़वाली की 1 अक्टूबर, 1979 को दिल्ली के राममनोहर लोहिया अस्पताल में मृत्यु हुई। आज उनकी पुर्ण्य तिथि के मौके पर सारा हिन्दूस्तान उन्हें याद कर रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Uttarkashi Avalanche: बर्फ के तूफान में लापता हुए 28 लोग, 2 की मौत, CM Dhami ने मांगी सेना से मदद

केदारनाथ के बाद अब द्रौपदी पर्वत में आया एवलॉन्च। एवलॉन्च के चलते बर्फीली पहाड़ियों पर फंसे 28 लोग, हादसे में 2 की मौत ।...

मास्टरमाइंड हाकम का रिसॉर्ट तोड़ने पहुंची टीम, धरने पर बैठ ग्रामीणों ने जताया विरोध

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग पेपर लीक मामले में आरोपी मास्टमाइंड हाकम सिंह रावत का सांकरी स्थित रिजॉर्ट को गिराने के लिया पिछले दिनों...

शेयरों में दिखी गिरावट, अमीर लोगों की सूची में नीचे खिसके गौतम अदाणी

दुनिया के शीर्ष तीन अमीर कारोबारियों में शामिल भारतीय व्यवसायी गौतम अदाणी और एलन मस्कको एक दिन में लगभग 25 मिलियन डॉलर यानी 2...

टी20 वर्ल्ड कप में भारत को झटका, जसप्रीत बुमराह टी20 वर्ल्ड कप 2022 से हुए बाहर

सोमवार को बीसीसीआइ ने मुहर लगा दी कि तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह आगामी टी20 वर्ल्ड कप से बाहर हो गए हैं। हालांकि उनके रिप्लेसमेंट...

नवमी पर सीएम पुष्‍कर सिंह धामी ने जिमाई कन्‍या, मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों का लिया आशीर्वाद

नवमी के दिन मंगलवार को उत्‍तराखंड भर में मां दुर्गा के नौ स्‍वरूपों की पूजा अर्चना की जा रही है। इस क्रम में मुख्‍यमंत्री...

उत्तराखण्ड में चीन सीमा पर दशहरा मनाएंगे रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, आज पहुंचेंगे देहरादून

रक्षामंत्री राजनाथ सिंह उत्तराखंड में चीन सीमा पर स्थित अग्रिम चौकी पर सेना और आईटीबीपी के जवानों के साथ विजयादशमी मनाएंगे। इस मौके पर...

हरिद्वार को मिला देश के गंगा टाउन में पहला स्थान, लेकिन उत्तराखंड का सबसे गंदा शहर, पढिये पूरी खबर

राष्ट्रीय स्तर की ओवरआल रैंकिंग में पिछले साल 279वें स्थान पर रहा हरिद्वार इस वर्ष 300वें नंबर पर आ गया। स्वच्छ सर्वेक्षण 2022 में...

Indian Air Force में शामिल हुए हल्के लड़ाकू हेलीकॉप्टर ‘प्रचंड’, भारतीय वायुसेना को मिलेगी मदद

आजादी से लेकर अब तक भारत को सुरक्षित रखने में भारतीय वायु सेना की बड़ी शानदार भूमिका रही है। आंतरिक खतरे हों या बाहरी...

एसआइटी ने की रिसॉर्ट में बुकिंग करवाने वालों की पहचान, दर्ज किए जा रहे बयान

अंकिता हत्याकांड मामले में वीआईपी सर्विस देने के मामले से अभी भी पर्दा नहीं उठ पाया है। वहीं एसआइटी ने घटना से पहले व...

बाबा केदार के धाम पहुंचे राज्यपाल गुरमीत सिंह, पूजा अर्चना कर लिया आशीर्वाद

उत्तराखंड के राज्यपाल गुरमीत सिंह आज बाबा केदार के दर्शन करने केदारनाथ धाम पहुंचे। उन्होंने बाबा केदार के दर्शन कर पूजा अर्चना की। इसके...