Home उत्तराखंड हकीकत में दौड़ी केबल रोपवे तो देश का पहला शहर बन जायेगा देहरादून 

हकीकत में दौड़ी केबल रोपवे तो देश का पहला शहर बन जायेगा देहरादून 

दिल्ली – मुंबई की सरपट दौड़ती मेट्रो ….. कोलकाता की डबल डेकर बस और शहरों में सिटी बस , टेक्सी ,ऑटो , टेम्पो , रिक्शा के बाद देवभूमि उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में रोमांचक पब्लिक ट्रांसपोर्ट शुरू होगा …. जी हाँ .. त्रिवेंद्र सरकार राजधानी में लगने वाले जाम और बढ़ते प्रदुषण को रोकने के लिए अब रोपवे सर्विस शुरू करेगी …  

अगर योजना फाइलों से निकल कर हकीकत में कामयाब होती है तो देहरादून की लाखों जनता अगले कुछ सालों बाद हवा में सफर करते नज़र आएंगे …..  त्रिवेंद्र सिंह रावत की भाजपा  सरकार  देहरादून में  सामान्य परिवहन प्रणाली के लिए 2200 करोड़ की महत्वाकांक्षी रोपवे योजना पर आगे बढ़ रही है …. इसके लिए दिल्ली मेट्रो रेल कॉर्पोरेशन और उत्तराखंड रेल परियोजना के बीच एमओयू तो पहले ही हो चुका है…. प्रोजेक्ट की डीपीआर भी तैयार की जा रही है  जिसके बाद इस बेहद ख़ास पब्लिक ट्रांसपोर्ट प्रोजेक्ट पर काम शुरू होने की उम्मीद की जा रही है । रोपवे परियोजना के तहत दून के 20 से 25 किलोमीटर तक का एरिया कवर किया जाएगा। जिस पर करीब 2200 करोड़ का खर्चा होने का अनुमान है। ख़ास बात  ये है कि पुरे प्रोजेक्ट को कम से कम समय में पूरा करने का टारगेट रखा गया है। ये उत्तराखंड के लिए बड़ी उपलब्धि है क्योंकि रोपवे सर्विस शुरू होते ही देहरादून देश का पहला शहर बन जाएगा। 

यह होंगे केबल कार के कॉरीडोर

  • आइसीएबीटी से राजपुर रोड: यह कैनाल रोड के आसपास तक पहुंचेगा और लंबाई करीब 12 किलोमीटर होगी।
  • एफआरआइ से रिस्पना: यह विधानसभा तिराहे के आसपास पहुंचेगा और इस कॉरीडोर की लंबाई भी करीब 12 किलोमीटर होगी।
  • प्रेमनगर से रेलवे स्टेशन: यह कॉरीडोर कांवली रोड के ऊपर से गुजरेगा और इसकी लंबाई करीब पांच किलोमीटर होगी।

 प्रस्ताव के मुताबिक एक रोपवे में एक बार में लगभग 10 यात्रियों को यात्रा की सुविधा मिलेगी …. रोपवे सेवा शुरू होने के बाद देहरादून के आम लोगों और पर्यटकों को बेहतर परिवहन सेवाएं मिलेंगी। ट्रैफिक जाम से भी निजात मिलेगी। इस वक्त देश में ऐसा कोई शहर नहीं है, जहां रोपवे को सामान्य परिवहन के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा हो। इस मामले में देहरादून अपनी तरह का पहला शहर होगा, जहां लोग एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए रोपवे का इस्तेमाल करेंगे।

आपको बता दें कि केबल कार सड़क से कुछ मीटर की ऊंचाई पर केबल के सहारे चलती है। यात्रियों के बैठने के लिए इसमें केबिननुमा बॉक्स बना होता है। इसी में शीट लगी होती हैं। केबल कार की औसत रफ्तार करीब 15 किलोमीटर प्रति घंटा होती है। इसकी रफ्तार कभी बंद नहीं होती है और स्टेशन वाली जगह पर स्पीड न्यूनतम जरूर हो जाती है। यानी कि यात्री आराम से उतर सकते हैं। यानी अगर आपको शहर में कहीं भी जाना है तो जाम और प्रदुषण की दोहरी समस्या ने निजात मिलने वाली है और मिलने वाली है एक रोमांचक लोकल सफर की सौगात  

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

गौतम अडानी मामले में अब आरबीआई का दखल, विपक्ष भी कर रहा जांच की मांग

अडानी ग्रुप पर हिंडनबर्ग की रिपोर्ट के बाद कंपनी के शेयर लगातार गिरते जा रहे हैं। रिपोर्ट के बाद अडानी कंपनी को भारी नुकसान...

अयोध्या पहुंची नेपाल से लाई गईं दो दिव्य शालिग्राम शिला, भव्य पूजन

नेपाल के प्रसिद्ध धार्मिक स्थल जनकपुर से अयोध्या लाई गई देवसिला का पूजन हुआ। नेपाल के पूर्व उप प्रधानमंत्री जानकी मंदिर के महंत ने...

देहरादून में चलेगी नियो मेट्रो, केन्द्र को भेजा गया प्रस्ताव

देहरादून में मेट्रो और केबल कार प्रोजेक्ट के रद्द होने के बाद अब मेट्रो नियो चलाने पर काम किया जा रहा है। यूकेएमआरसी ने...

अंतिम संस्कार से पहले अचानक जिंदा हो गई महिला, देखकर हर कोई हो गया हैरान

क्या आपने कभी सुना है कि अतिंम संस्कार से ठीक पहले किसी के प्राण वापस लौट आए हों. जी हां ऐसा हुआ है और...

कड़ी सुरक्षा में होगी पटवारी-लेखपाल परीक्षा, इंटेलीजेंस और पुलिस के होंगे तीन घेरे

पेपर लीक कांड के बाद उत्तराखंड लोक सेवा आयोग की पटवारी-लेखपाल भर्ती में इस बार पुलिस के साथ एलआईयू भी तैनात की गई है।...

क्या कहता है भारत का आर्थिक सर्वेक्षण, बजट से हटकर चर्चाओं में आर्थिक सर्वेक्षण

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बजट से एक दिन पूर्व सदन में आर्थिक सर्वेक्षण पेश किया। आर्थिक सर्वेक्षण वित्त मंत्रालय द्वारा जारी की गई...

बजट 2023-24ः 5 से 7लाख की गई आयकर छूट, पढ़िये क्या हुआ महंगा, क्या सस्ता

केन्द्र की मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का अंतिम बजट पेश कर दिया गया है, हालांकि इस बजट को वित्त मंत्री ने अमृत काल...

एनडीटीवी से निधि राजदान का इस्तीफा, 23 सालों से थीं एनडीटीवी के साथ

एनडीटीवी की वरिष्ठ पत्रकार निधि राजदान ने चैनल से इस्तीफा दे दिया है। कंपनी से जुडे कईं कर्मचारियों ने इस बात की पुष्टि की...

5 गोल्ड जीतने वाला हॉकी प्लेयर आज मंडी में पल्लेदारी कर रहा है, शर्मनाक

भारतीय खेलों के लिये इससे शर्मनाक और क्या हो सकता है जब एक होनहार हॉकी खिलाड़ी मैदान से दूर अपना और अपने परिवार का...

अमीरों की सूची में 11वें नंबर पर पहुँचे अडानी, ग्रुप के शेयरों में गिरावट जारी

हिंडनबर्ग रिपोर्ट रिपोर्ट ने पिछले बुधवार अडानी ग्रुप पर स्टाक हेरफेर और धोकाधडी का आरोप लगाया था। रिपोर्ट के रिलीज होते ही अडानी दुनिया...