Home राष्ट्रीय जानिए कौन हैं 'जंगलों की इनसाइक्लोपीडिया' तुलसी गौड़ा, राष्ट्रपति से पद्मश्री सम्मान...

जानिए कौन हैं ‘जंगलों की इनसाइक्लोपीडिया’ तुलसी गौड़ा, राष्ट्रपति से पद्मश्री सम्मान लेने नंगे पाँव पहुँची

तुलसी गौड़ा का जन्म 1944 में भारत के कर्नाटक राज्य में उत्तर कन्नड़ जिले के होन्नल्ली गांव के हक्काली आदिवासी परिवार में हुआ। गौड़ा का जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था, और जब वह केवल 2 वर्ष की थीं, तब उनके पिता की मृत्यु हो गई… जिसके कारण उन्हें अपनी माँ के साथ एक स्थानीय नर्सरी में एक दिहाड़ी मजदूर के रूप में काम करना पड़ा। तुलसी गौड़ा ने कभी औपचारिक शिक्षा ग्रहण नहीं की। लेकिन बचपन से ही पेड़-पौधे और जड़ी-बूटी की जानकर थी। 35 वर्षों तक उन्होंने अपनी मां के साथ मजदूर के रूप में नर्सरी में काम किया। छोटे बड़े पेड-पौधों और जड़ी-बूटीयों के प्रजातियों पर विशाल ज्ञान के कारण आज उन्हें ‘जंगलों की इनसाइक्लोपीडिया’ के नाम से जाना जाता हैं।

आपको बता दें कि लगातार पौधों की देखभाल और लगन के कारण फॉरेस्ट डिपार्टमेंट ने स्थायी नौकरी का ऑफर दिया था जहां लगातार उन्होंने 14 सालों तक नौकरी की। गरीबी में पली-बढ़ी तुलसी ने रिटायरमेंट के बाद भी पौधों को बचाने का अभियान जारी रखा। अब वह पेंशन से गुजारा कर रही हैं। आज भी तुलसी गौड़ा बहुत ही सादगी के साथ रहती हैं। तुलसी गौड़ा अबतक 30,000 से अधिक पौधे लगा चुकी हैं… रिटायरमेंट के बाद भी वह वन विभाग की नर्सरी की देखभाल करती हैं।

पर्यावरण के प्रति एहम योगदान पर मिले यह पुरस्कार ….

पर्यावरण को सहेजने के लिए उन्हें इंदिरा प्रियदर्शिनी वृक्ष मित्र अवॉर्ड, राज्योत्सव अवॉर्ड, कविता मेमोरियल समेत कई अवॉर्ड से नवाजा जा चुका हैं। हाल ही में उन्हें 08 नवंबर, 2021 को भारत के चौथे सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार पद्मश्री से सम्मानित किया गया। जब वह सम्मान लेने के लिए पहुंची तो उनके बदन पर पारंपरिक धोती थी और पैरों में चप्पल नहीं थी.. इस सादगी की वजह से आज सोशल मीडिया पर उनकी तस्वीरें वायरल हो रही हैं..

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

पहले दिन नदियों के किनारे 102 एकड़ भूमि से हटाया गया अतिक्रमण, वन विभाग ने शुरू किया अभियान

वन विभाग ने नदियों के किनारे से अतिक्रमण हटाने के लिए चलाए गए विशेष अभियान के पहले दिन 102 एकड़ भूमि को खाली कराया।...

Uttarakhand Forest Department: 22 अफसरों के हुए तबादले

उत्तराखंड वन विभाग में 22 अफसरों के तबादले किए गए हैं। प्रमुख वन संरक्षक डाॅ. धनंजय मोहन को उत्तराखंड जैव विविधता बोर्ड का अध्यक्ष...

उत्तराखंड डिप्लोमा इंजीनियर्स की रैली, देहरादून की सड़कों पर उतरे इंजीनियर्स

उत्तराखंड डिप्लोमा इंजीनियर्स महासंघ ने देहरादून में विशाल रैली का आयोजन किया। प्रदेशभर से आये सैंकड़ों डिप्लोमा इंजीनियर्स ने इस रैली में हिस्सा लिया।...

42 साल बाद आया कोर्ट का फैसला, 90 साल के बुजुर्ग को हुई उम्रकैद की सजा

कहा जाता है कि जस्टिस डिलेड इज जस्टिस डिनाइड यानी देर से मिला न्याय न्याय नहीं कहलाता। लेकिन साथ में ये भी कहा जाता...

सीएम धामी की सुरक्षा में तैनात कमांडो की संदिग्ध परिस्थिति में मौत, खुद को गोली मारकर आत्महत्या की खबर

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी की सुरक्षा में तैनात कमांडो प्रमोद रावत की संदिग्ध हालातों में मौत हो गई है। बताया जा रहा है उन्होंने...

पर्यटकों के लिये खुल गई विश्व धरोहर फूलों की घाटी,आज से कर सकते हैं घाटी का दीदार

विश्व धरोहर फूलों की घाटी आज से पर्यटकों के लिए खोल दी गई है। घाटी के पैदल रास्ते पर दो जगह पर भारी हिमखंड...

नदियों के अतिक्रमण पर आज से होगी कार्यवाई, राज्य की 25 नदियां से हटेंगे अवैध कब्जे

मजारों, शहरी अतिक्रमण के बाद आज से धामी सरकार का बुलडोजर नदियों के किनारे बने अवैध निर्माणों पर गरजने वाला है। इसके लिये सभी...

जेठ के महीने में भादो जैसे हालात, उफान पर उत्तराखंड नदियां, सूखी नदियां में बाढ़ जैसे हालात

मानसून आने में अभी वक्त है। लेकिन, बीते सोमवार से हो रही बारिश का सिलसिला किसी मानसून से कम नहीं है। बेमौसम हो रही...

धामी कैबिनेट में लिये गये बड़े फैसले, क्या-क्या फैसले लिये यहां पढ़िए

उत्तराखण्ड (उत्तर प्रदेश राज्य निर्वाचन आयोग) (पंचायत राज और स्थानीय निकाय) (नियुक्ति और सेवा की शर्तें) (संशोधन) नियमावली - 2023 के संबंध में केबिनेट...

हरिद्वार में बड़ा सड़क हादसा, 41 सवारियों से भरी बस खाई में गिरी, एक मासूम समेत दो की मौत

हरिद्वार के चंडी चौक से करीब 200 मीटर आगे नजीबाबाद की तरफ एक रोडवेज बस बेकाबू होकर 20 मीटर नीचे खाई में गिर गई।...