Wednesday, July 17, 2024
क्राइमदिल्लीराष्ट्रीय

दिल्ली : रोहणी कोर्ट में गैंगवार के चलते गैंगस्टर जितेंद्र गोगी हुआ ढेर

दिल्ली के रोहणी जिले के कोर्ट में एक बार फिर से गैंगवार का मामला सामने आया है….शुक्रवार की दोपहर को गैंगस्टर जितेंद्र उर्फ गोगी को कोर्ट में पेशी के लिए लाया जा रहा  था। इस पेशी के दौरान वकील की ड्रेस पहने हुए दो लोगों ने उस पर हल्ला बोल, ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं। जवाबी कार्रवाई में स्पेशल सेल की तरफ से भी गोलियां चलाई गईं, वही मौके पर दोनों हमलावरों की मौत हो गई। इस तरह वारदात के समय गैंगस्टर गोगी समेत कुल तीन लोगों की मौत हो गई।

पुलिस द्वारा दी गयी जानकारी के अनुसार, दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल ने जितेंद्र को वर्ष 2020 में गिरफ्तार किया था। काउंटर इंटेलिजेंस टीम ने उसे तीन अन्य साथियों के साथ गुरुग्राम से गिरफ्तार किया था। गिरफ्तारी के समय उस पर दिल्ली पुलिस द्वारा आठ लाख रुपये का इनाम घोषित था। जो जुर्म के  हत्या, अपहरण, पुलिस पर हमला जैसे कई और वारदातों में भी शामिल था। गिरफ्तारी के बाद उसे जेल भेज दिया था। शुक्रवार को तीसरी बटालियन की पुलिस और काउंटर इंटेलिजेंस की टीम उसे रोहिणी अदालत में पेश करने वाली थी.. लेकिन तभी अचानक से वहां पर वकील की ड्रेस पहने हुए दो शख्स आए और उन्होंने गोगी पर ताबड़तोड़ गोलियां चला दीं। रोहिणी कोर्ट में इन दोनों हमलावरों ने वकील की ड्रेस पहन कर प्रवेश किया था ताकि उन्हें कोई ना रोके। उसे बचाने के लिए काउंटर इंटेलिजेंस की टीम ने भी हमलावरों पर गोली चलाई लेकिन दोनों हमलावरों की मौत हो गई, इस घटना में मारे गए दोनों बदमाशों की फिलहाल पहचान नहीं हो पा रही है …

आपको बता दे कि पूरे मामले को लेकर छानबीन चल रही है। जानकारी के चलते मारे गए जितेंद्र गोगी और अलीपुर के ताजपुरिया निवासी सुनील उर्फ टिल्लू के बीच करीब एक दशक से गैंगवार चल रही है। इस गैंगवार में अब तक 20 से ज्यादा जाने जा चुकी है। पुलिस के सूत्रों का मानना है कि इस हत्या के पीछे सुनील उर्फ टिल्लू शामिल हो सकता है। हालांकि इसकी जानकारी जुटाने के लिए अभी पुलिस टीम छानबीन में जुटी हुई है। दिल्ली बार काउंसिल के अध्यक्ष राकेश सहरावत ने के सम्बन्ध में निंदा करते हुए कहा है कि रोहिणी कोर्ट में शूटआउट की यह घटना असुरक्षाजनक और खतरनाक है। इस मुद्दे को पुलिस कमिश्नर के सामने उठाने के बाद भी कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया है। राकेश सहरावत ने आगे कहा, बार-बार ऐसी घटना सुरक्षाकर्मियों की लापरवाही से होती है।

ऑल ड्रिस्ट्रिक्ट कोर्ट बार एसोसिएशन ऑफ दिल्ली की कॉर्डिनेशन कमेटी की बुलाई मीटिंग को देखते हुए रोहिणी कोर्ट की कार्यवाही एक दिन के लिए स्थगित कर की गई है। सभी सदस्यों को 25 सितंबर को कार्य से बचने के लिए कहा गया है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *