Monday, April 22, 2024
अल्मोड़ाउत्तर प्रदेशउत्तरकाशीउत्तराखंडउधम सिंह नगरकोविड 19चमोलीचम्पावतटिहरी गढ़वालदेहरादूननैनीतालपिथौरागढ़पौड़ी गढ़वालबागेश्वरराज्यराष्ट्रीयरुद्रप्रयागहरिद्वार

देहरादून – { IMA } भारतीय सैन्य अकादमी के किले में CORONA ने लगायी भयंकर सेंध 

सैन्य धाम उत्तराखंड की राजधानी में मौजूद भारतीय सैन्य अकादमी में जहाँ परिंदा भी पर नहीं मार सकता है वहां कोरोना ने डंक मार दिया है…. बेहद हैरान परेशान करने वाली ये खबर सामने आयी है। उत्तराखंड में कोरोना का ग्राफ लगातार बढ़ा रहा है ऐसे में देहरादून भी इस वायरस की चपेट में हर आम ओ ख़ास को अपनी गिरफ्त में ले रहा है  

सेना के लिए मंदिर  कहा जाने वाला बेहद सुरक्षित और अनुशासित आईएमए भी कोरोना की चपेट में आ गया है।  यानि जिस किले की सुरक्षा मिसाल मानी जाती है वहाँ भी कोरोना ने सुराख कर दिया है … भारतीय सैन्य अकादमी यानि आइएमए में तैनात 110 अधिकारी, जवान व जेंटलमैन कैडेट संक्रमित मिले हैं। सूत्र बताते हैं कि इस चौकाने वाली रिपोर्ट के सामने आने के बाद से ही अकादमी में हड़कंप मचा हुआ है। मीडिया में आ रही इस रिपोर्ट्स पर हालांकि अकादमी का कोई भी अधिकारी या उनका बयां अभी तक सामने नहीं आया है 

इधर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों का कहना है कि अकादमी में तैनात कुछ अधिकारियों, जवानों व कैडेटों की जांच हुई थी। अकादमी के सेक्शन अस्पताल से ही 217 अधिकारियों, जवानों व कैडेटों के सैंपल लेकर कोरोना जांच को भेजे गए थे। जिनमें से आधे से अधिक सैंपलों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

इनमें कई जवान ऐसे हैं, जो छुट्टी काटकर या अन्य जगह से प्रशिक्षण पूरा कर लौटे हैं। तमाम सावधानी बरतने के बाद भी जिस तरह अकादमी परिसर में कोरोना वायरस की दस्तक हुई है, उससे सैन्य तंत्र ही नहीं, स्थानीय शासन-प्रशासन भी चिंतित है।

अभी कोरोना के दौर में ही  जून में हुई पासिंग आउट परेड के दौरान भी कई स्तर पर आईएमए प्रशासन ने सावधानी बरती थी। परेड में न ही कैडेटों के अभिभावकों ने शिरकत की और ना ही दूसरे गणमान्य अतिथियों ने इसके साथ ही  कैडेटों की होने वाली आउटडोर ट्रेनिंग को भी बंद कर दिया गया था। अब एक साथ इतने लोग के कोरोना संक्रमित मिलने से अकादमी में सुरक्षा का दायरा और भी बढ़ा दिया गया है।

 

सूत्र बता रहे हैं कि कोरोना संक्रमित मिले अधिकारियों, जवानों व कैडेटों को परिसर में ही आइसोलेट किया गया है। इसके अलावा परिसर में रहने वाले अधिकारियों व जवानों को ग्रीन कार्ड और बाहर रहने वाले स्टाफ को रेड कार्ड जारी किया गया है। रेड कार्ड वाले कर्मचारियों को सख्ती का सामना करना पड़ रहा है। उन्हें सीधे अकादमी में प्रवेश नहीं दिया जा रहा, बल्कि गेट पर उनके नाम, पद व पता दर्ज कर और कोविड-19 गाइडलाइन के तहत पूरी जांच करने के बाद ही भीतर भेजा जा रहा है…. जय भारत टीवी अपने देश के वीर सैन्य जांबाज़ों के जल्द स्वस्थ होने की कामना करता है 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *